Saturday, Aug 24 2019 | Time 17:18 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • देश ने खोया संवेदनशील नेता : कांग्रेस
  • एनडीटीएल के निलंबन के खिलाफ अपील करेगा भारत
  • जेटली ने सदैव समाज की बेहतरी के लिए काम किया: मनमोहन सिंह
  • जेटली ने सदैव समाज की बेहतरी के लिए काम किया:
  • कश्मीर में संचार पाबंदी राष्ट्रहित में, पीसीआई की सुप्रीम कोर्ट में याचिका
  • कश्मीर में 20वें दिन भी सामान्य जनजीवन प्रभावित
  • देश ने एक प्रखर और कुशल नेता को खो दिया : राजग
  • क्रिकेट में जेटली का योगदान हमेशा याद रखा जाएगा: सीके खन्ना
  • क्रिकेट में जेटली का योगदान हमेशा याद रखा जाएगा: सीके खन्ना
  • येचुरी की बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर 26 अगस्त को सुनवाई
  • सुमित का सपना पूरा, पहली भिड़ंत लीजेंड फेडरर से
  • सुमित का सपना पूरा, पहली भिड़ंत लीजेंड फेडरर से
  • भागलपुर से 33 अपराधी गिरफ्तार
  • बाढ़ प्रभावित इलाकों में बीमारियां नियंत्रित के लिए पूरी तैयारियां हैं। सिद्धू
  • दीवार गिरने से युवक की दबकर मौत
विशेष » कुम्भ


त्रिवेणी स्नान कर लौटते नागा सन्यांसी ठंड से हुआ अचेत

त्रिवेणी स्नान कर लौटते नागा सन्यांसी ठंड से हुआ अचेत

कुंभ नगर, 10 फरवरी (वार्ता) पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलिला स्वरूप में प्रवाहित यमुना के संगम में बसंत पंचमी के पावन पर्व पर रविवार को तीसरे और अंतिम शाही स्नान कर बाहर आते ही ठंड से एक नागा सन्यांसी अचेत होकर गिर पड़ा।

जूना अखाडा के दो हजार से अधिक नागा संन्यासी ‘हर-हर महादेव’ का उदघोष करते हाथों में तलवार और भाले लिए त्रिवेणी के तट पर पहुंचे। स्नान घाट से करीब 200 कदम पहले सभी नागा जमीन पर बैठ कर गंगा,यमुना और सरस्वती को धरती पर माथा टेक कर प्रणाम किया उसके बाद गंगा में आस्था की डुबकी लगाई।

तड़के सर्द हवा का झाेंका शरीर में तीर की तरह चुभ रहा था। त्रिवेणी में स्नान करने के बाद बाहर आये कुछ नागा भीगे शरीर पर भस्म लपेट रहे थे। तभी एक नागा आराम से चलते हुए आए और सब के देखते ही देखते जमीन पर गिर पड़े। वहां मौजूद सुरक्षा के जवानों ने तत्काल चारों तरफ घेरा बनाकर कोई उनके हाथ की हथेली तो कोई उनके पैर के तलवे को रगड़ने लगा।

वहां मौजूद सुरक्षा के जवानों ने बताया कि बाबा सर्दी लगने के कारण अचेत हो गये। करीब आधे घंटे तक जवानों ने उनकी हथेली, पैर का पंजा और सीने की मालिश की। उसके बाद नागा संन्यासी ने शरीर में उष्मा का संचार होने पर राहत

महसूस किया।

दिनेश प्रदीप

वार्ता

More News
कुम्भ ने दुनिया को कराया भारतीय संस्कृति की विविधता का अहसास :राणा

कुम्भ ने दुनिया को कराया भारतीय संस्कृति की विविधता का अहसास :राणा

04 Mar 2019 | 9:55 PM

कुम्भ,04 मार्च (वार्ता) उत्तर प्रदेश के गन्ना विकास एवं चीनी मिल मंत्री सुरेश राणा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्देशन तथा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुशल नेतृत्व का बखान करते हुए कहा कि पूरे विश्व ने कुम्भ की प्राचीन मान्यता, आध्यात्मिकता, लौकिकता, आपसी सद्भाव को स्वीकार किया।

see more..
कुम्भ की आभा बेमिसाल : फडणवीस

कुम्भ की आभा बेमिसाल : फडणवीस

04 Mar 2019 | 9:55 PM

कुम्भनगर,04 मार्च (वार्ता) महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और सांस्कृतिक समागम कुम्भ की जितनी प्रशंसा की जाए,वह कम है।

see more..
महाशिवरात्रि स्नान पर एक करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने लगाई संगम में आस्था की डुबकी

महाशिवरात्रि स्नान पर एक करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने लगाई संगम में आस्था की डुबकी

04 Mar 2019 | 8:55 PM

कुम्भनगर, 04 मार्च (वार्ता) सम्पूर्ण विश्व में अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले कुम्भ के आखिरी दिन महाशिवरात्रि के पर्व पर एक करोड़ 10 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलिला स्वरूप में प्रवाहित हो रही सरस्वती में आस्था की डुबकी लगाई।

see more..
आध्यात्म,वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

आध्यात्म,वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

04 Mar 2019 | 6:04 PM

कुम्भनगर, 04 मार्च (वार्ता) पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलीला स्वरूप में प्रवाहित सरस्वती के त्रिवेणी की विस्तीर्ण रेती वैराग्य, ज्ञान और आध्यात्मिक शक्ति से ओतप्रोत है।

see more..
महाशिवरात्रि से पहले संगम पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

महाशिवरात्रि से पहले संगम पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

03 Mar 2019 | 2:35 PM

कुंभनगर, 03 मार्च (वार्ता) दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और सांस्कृतिक समागम कुंभ के छठे और आखिरी स्नान पर्व महाशिवरात्रि से एक दिन पहले रविवार को एक बार फिर दूर-दराज से भक्तों का रेला संगम पर आस्था के समंदर में बूंदा-बांदी को धता बताकर हिलोरें ले रहा है।

see more..
image