Wednesday, Sep 26 2018 | Time 18:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आधार पर हमारे नजरिये के समर्थन के लिए कोर्ट का आभार : राहुल
  • सायना आसान जीत से दूसरे दौर में, समीर बाहर
  • बिहार ने मेघालय को 108 रन से हराया
  • किसान सभा ने की पंजाब में गिरदावरी और मुआवजे की मांग
  • एसबीआई कार्ड और अपोलो हॉस्पिटल्स ग्रुप ने लॉन्च किया को-ब्रांडेड कार्ड
  • आर्टिफिशल इंटेलिजेंस से नहीं घटेंगे रोजगार के अवसर : सारस्वत
  • भारत-बंगलादेश ने विस्तृत आर्थिक साझेदारी पर जतायी सहमति
  • आर्टिफिशल इंटेलिजेंस से नहीं घटेंगे रोजगार के अवसर : सारस्वत
  • एसपी की हत्या में मामले दो माओवादियों को फांसी
  • अोड़िशा ने दिल्ली को 9 रन से चौंकाया
  • तकनीकी सलाहों ने बदली किसानों की तकदीर
  • भारतीय चिकित्सा परिषद् संशोधन अध्यादेश को राष्ट्रपति की मंजूरी
  • कृपानाथ मल्लाह असम विस के नये उपाध्यक्ष निर्वाचित
  • राम वन पथ गमन के मुद्दे पर कमलनाथ ने घेरा राज्य सरकार को
  • असम और मेघालय में भारी बारिश का अनुमान
दुनिया Share

ब्रिटेन के विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन का इस्तीफा

लंदन 09 जुलाई (रायटर) ब्रिटेन के विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन ने सोमवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया।
इससे ठीक एक दिन पहले ब्रेक्जिट मामलों के मंत्री डेविड डेविस ने रविवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।
प्रधानमंत्री थेरेसा मे के लिए यह एक बड़ा झटका है क्योंकि वह ब्रेक्जिट के बाद भी यूरोपीय संघ के साथ मजबूत आर्थिक संबंधों को बनाए रखने को लेकर अपनी पार्टी में एकजुटता बनाए रखने के लिए काफी प्रयास कर रहीं थी।
प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी ईमेल वक्तव्य के मुताबिक,“आज दोपहर बाद प्रधानमंत्री ने श्री जॉनसन के इस्तीफे को स्वीकार कर लिया। उनके स्थान पर नये मंत्री के नाम की घोषणा शीघ्र की जाएगी। प्रधानमंत्री ने श्री जॉनसन के काम को लेकर उनका आभार जताया है।”
गौरतलब है कि श्री डेविस के इस्तीफे के बाद स्टर्लिंग मुद्रा में थोड़ा परिवर्तन देखा गया था। वह इस मामले में काफी मुखर माने जाते थे और ब्रेक्जिट वार्ता के लिए उनकी विशिष्ट छवि बन चुकी थी। इस बात की भी चर्चा है कि पिछले कुछ समय से उनकी भूमिका थोड़ी सिमट कर रह गई थी और इस विषय पर बातचीत के लिए सुश्री मे तथा मंत्रिमंडल के सहयाेगियों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेना शुरू कर दिया था। श्री डेविस इस बात कोे लेकर भी खिन्न बताए जाते थे।
उन्हें दो साल पहले ही नवगठित ब्रेक्जिट विभाग की जिम्मेदारी दी गई थी और 2016 में ब्रिटेन में हुए जनमत संग्रह में देश की जनता ने ‘यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के अलग होने’ (ब्रेक्जिट) के पक्ष में वोट दिया था। इस मंत्रालय के गठन का उद्देश्य यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के बाहर निकलने की प्रक्रिया की देखरेख करना था।
संजय, रवि
रायटर
More News
मैक्रों ने राफेल सौदे पर की मोदी की प्रशंसा,सौदे को  बताया  महत्वपूर्ण

मैक्रों ने राफेल सौदे पर की मोदी की प्रशंसा,सौदे को बताया महत्वपूर्ण

26 Sep 2018 | 5:48 PM

न्यूयॉर्क 26 सितम्बर (वार्ता) फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने राफेल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा करते हुए बुधवार को कहा कि यह सौदा दो देशों की सरकारों के बीच हुया था और यह सामरिक दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण है।

 Sharesee more..

बंगलादेश में विमान का आपात लैंडिंग

26 Sep 2018 | 5:41 PM

 Sharesee more..
image