Wednesday, Sep 26 2018 | Time 18:38 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • माकपा ने सरकारी योजनाओं में आधार को अनिवार्य बनाने का विरोध किया
  • हरियाणा सरकार में कच्चे कर्मचारी होंगे नियमित
  • आधार पर हमारे नजरिये के समर्थन के लिए कोर्ट का आभार : राहुल
  • सायना आसान जीत से दूसरे दौर में, समीर बाहर
  • बिहार ने मेघालय को 108 रन से हराया
  • किसान सभा ने की पंजाब में गिरदावरी और मुआवजे की मांग
  • एसबीआई कार्ड और अपोलो हॉस्पिटल्स ग्रुप ने लॉन्च किया को-ब्रांडेड कार्ड
  • आर्टिफिशल इंटेलिजेंस से नहीं घटेंगे रोजगार के अवसर : सारस्वत
  • भारत-बंगलादेश ने विस्तृत आर्थिक साझेदारी पर जतायी सहमति
  • आर्टिफिशल इंटेलिजेंस से नहीं घटेंगे रोजगार के अवसर : सारस्वत
  • एसपी की हत्या में मामले दो माओवादियों को फांसी
  • अोड़िशा ने दिल्ली को 9 रन से चौंकाया
  • तकनीकी सलाहों ने बदली किसानों की तकदीर
  • भारतीय चिकित्सा परिषद् संशोधन अध्यादेश को राष्ट्रपति की मंजूरी
  • कृपानाथ मल्लाह असम विस के नये उपाध्यक्ष निर्वाचित
दुनिया Share

प्रख्यात चीनी प्रचारक किन को 13 साल की जेल

बीजिंग 11 जुलाई (वार्ता) चीन के लाेकतंत्र प्रचारकों में से एक किन यांगमिन को सरकारी व्यवस्था को नुकसान पहुंचाने के आरोप में 13 साल के कारावास की सजा दी गयी है।
बीबीसी न्यूज ने बताया कि किन यांगमिन (64) पहले भी 22 साल की जेल की सजा भुगत चुका है।
मानवाधिकार अधिवक्ता लिन किलेई ने बताया किन ने अदालत के साथ सहयोग करने से इन्कार कर दिया और मुकदमे के दौरान मूक रहा। मध्य चीन में वुहान सिटी इंटरमीडिएट पीपुल्स काेर्ट ने ऑनलाइन के जरिये किन के दोषी होने की पुष्टि की।
चीनी मानवाधिकार रक्षकों गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) के एक शोधकर्ता फ्रांसिस ईव ने कहा कि किन पर लोकतांत्रिक चीन में उनके विश्वास के साथ-साथ मानवाधिकारों की वकालत करने के कार्यों के लिए मुकदमा चलाया गया।
उन्होंने कहा, “तीन साल की जांच के बावजूद अधिकारियों ने उनके खिलाफ मामला बनाने में असफल रहे।”
किन चीन डेमोक्रेसी पार्टी के सह संयोजक रहे और पार्टी को आधिकारिक तौर पर पंजीकृत करने की कोशिश करने के बाद 1998 में 12 साल की जेल हुई। एक साल बाद जब वह जेल में थे उनका नाम नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया।
किन को चीन ह्यूमन राइटस वॉच का समर्थन करने पर जनवरी 2015 में गिरफ्तार किया गया। इनकी गतिविधियों में चर्चा समूहों को आयोजन करना और ऑनलाइन सरकार की नीतियों की आलोचना शामिल है।
उप्रेती.श्रवण
वार्ता
More News
मैक्रों ने राफेल सौदे पर की मोदी की प्रशंसा,सौदे को  बताया  महत्वपूर्ण

मैक्रों ने राफेल सौदे पर की मोदी की प्रशंसा,सौदे को बताया महत्वपूर्ण

26 Sep 2018 | 5:48 PM

न्यूयॉर्क 26 सितम्बर (वार्ता) फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने राफेल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा करते हुए बुधवार को कहा कि यह सौदा दो देशों की सरकारों के बीच हुया था और यह सामरिक दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण है।

 Sharesee more..

बंगलादेश में विमान का आपात लैंडिंग

26 Sep 2018 | 5:41 PM

 Sharesee more..
image