Tuesday, Nov 13 2018 | Time 21:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उप्र सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति:योगी
  • धनगर समाज ने आरक्षण के लिए रैली निकाली
  • कैलिफोर्निया के जंगलों में भीषण आग, 44 मरे
  • स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है आयोग - रावत
  • चेन्नई ने ईस्ट बंगाल को 2-1 से हराया
  • विकास कार्यों में मिट्टी खनन के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र देने में विलम्ब न हो:मौर्य
  • रोहिंग्याओं की सुरक्षित वापसी के लिए म्यांमार पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बने: बंगलादेश
  • इजरायली हवाई हमले में छह फिलीस्तीनियों की मौत
  • कोलकाता में होगा भारत-इटली डेविस कप मुकाबला
  • कोलकाता में होगा भारत-इटली डेविस कप मुकाबला
  • फाेटो कैप्शन दूसरा सेट
  • जम्मू कश्मीर में हुई बारिश
  • लोग सामाजिक बुराईयां समाप्त करने का संकल्प लें: खट्टर
  • सरकार ने आठ मैती उग्रवादी संगठनों पर प्रतिबंध लगाया
  • रोज़गार मेले के पहले दिन 489 नौजवानों को मिली नौकरियाँ
दुनिया Share

म्यांमार मेें राेहिंग्या के साथ हिंसा, उत्पीड़न जारी : संरा

जेनेवा 19 जुलाई (रायटर) संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार जांचकर्ताओं ने गुरुवार को कहा कि बंगलादेश पहुंचे रोहिंग्या शरणार्थियों ने कहा कि म्यांमार में उनके विरुद्ध यातना समेत हिंसा जारी है तथा जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए पूरा माहौल ‘खतरनाक’ बना हुआ है।
म्यांमार पर स्वतंत्र अंतरराष्ट्रीय तथ्यान्वेषी मिशन के सदस्यों ने कॉक्स बाजार में कुतुपलांग के शरणार्थी शिविर की पांच दिवसीय यात्रा समाप्त करने के बाद यहां यह बात कही। मिशन के सदस्यों ने गत वर्ष अगस्त में म्यांमार के राखिने राज्य में सेना के अभियान के बाद भागे 700,000 से अधिक रोहिंग्या शरणार्थियों में से नये आये लोगों का साक्षात्कार किया।
जांचकर्ताओं ने एक बयान में कहा,“ शरणार्थियों ने हिंसा और उत्पीड़न का सामना करने वाले अत्यधिक खतरों का उल्लेख किया जिससे वे अपनी आजीविका के स्रोतों से अलग हो रहे हैं। और अंततः खतरनाक माहौल के कारण उन्हें म्यांमार छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा है। नये शरणार्थियों का आगमन म्यांमार में मानवाधिकारों के उल्लंघन की निरंतर गंभीरता को भी दर्शाता है।”
म्यांमार में अधिकारियों से इस पर तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। पूर्व में म्यांमार ने कई बार अधिकारों के दुरुपयोग से साफ इन्कार किया है।
संयुक्त राष्ट्र ने मई में म्यांमार के साथ एक समझौता किया था, जिसका उद्देश्य बंगलादेश में रह रहे कई लाख रोहिंग्या शरणार्थियों को सुरक्षित रूप से और स्वेच्छा से वापस लौटने की इजाजत देना था लेकिन रायटर द्वारा देखे गये इस गुप्त समझौता में शरणार्थियों को पूरे देश में नागरिकता या आंदोलन की स्वतंत्रता की कोई स्पष्ट गारंटी नहीं दी गयी थी।
जांचकर्ता राधिका कुमरस्वामी ने कहा,“ इन युवकों के साथ मैंने बात की वे विशेष रूप से चिंतित थे और उन पर गहरे आघात के संकेत दिखते थे। शिक्षा और आजीविका के बिना मैं उनके भविष्य के लिए डरती हूं।”
जांचकर्ता 18 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद को अपने निष्कर्षाें की रिपोर्ट सौंपेगे। विभिन्न देशों के 47 सदस्यीय जिनेवा मंच ने जांच का आदेश दिया था।
संजय.श्रवण
वार्ता
More News
श्रीलंका संसद भंग करने पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

श्रीलंका संसद भंग करने पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

13 Nov 2018 | 7:48 PM

कोलंबो 13 नवंबर (शिन्हुआ) श्रीलंका के सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के संसद भंग करने के फैसले पर मंगलवार को रोक लगा दी, सुप्रीम कोर्ट के तीन न्यायाधीशों की खंडपीठ ने यह रोक लगाकर विपक्ष समेत विभिन्न वर्गाें को अंतरिम राहत प्रदान की।

 Sharesee more..
नवाज की रिहाई के खिलाफ याचिका पर होगी सुनवाई

नवाज की रिहाई के खिलाफ याचिका पर होगी सुनवाई

13 Nov 2018 | 2:25 PM

इस्लामाबाद 13 नवंबर (वार्ता) पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (नेब) की पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम नवाज की एवेन्यू फील्ड अपार्टमेंट मामले में रिहाई के इस्लामाबाद उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ याचिका स्वीकार करते हुए मामले की नियमित सुनवायी के लिए बड़ी पीठ के गठन का आदेश दिया।

 Sharesee more..
image