Monday, Sep 24 2018 | Time 23:50 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राफेल मोदी के लिए पनामा मुद्दा जैसा साबित होगा : फवाद
  • ओडिशा में नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले व्यक्ति को अदालत ने भेजा जेल
  • प्रधानमंत्री ने इब्राहिम सोलिह को बधाई दी
  • संयुक्त राष्ट्र में सुषमा ने की शेख हसीना-मोरक्को के विदेश मंत्री से मुलाकात
  • सीएसपी संचालक से साढ़े पांच लाख की लूट
  • डेक्कन चार्टर्स को 30 दिन में शुरू करनी होगी दिल्ली-पंतनगर-देहरादून हवाई सेवा: न्यायालय
  • अमित शाह ने नवीन पटनायक की आलोचना की, बीजद सरकार नहीं कर रही काम
  • केन्याई सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड में अल शबाब के दस आतंकवादी मारे गए
  • फाजिल्का के पास गंगनहर में कटाव आने से भारी नुकसान
  • स्वच्छता के प्रति जागरूक करना देश सेवा : रघुवर
  • पाकिस्तान में ऑनर किलिंगः लड़की के पिता ने काटा बेटी और उसके बॉयफ्रेंड का गला
  • खरीद केन्द्र नहीं खुलने से किसान परेशान-पायलट
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • राफेल विवाद पर नीतीश की राय का इंतजार कर रहा देश : शिवानंद
  • अयोध्या विवाद: फारूकी मामले में शुक्रवार को आ सकता है फैसला
दुनिया Share

इस मौके पर भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि यह सम्मेलन हिन्दी के संवर्द्धन, संरक्षण और उसे बचाने पर केन्द्रित है। आज जरूरत हिन्दी पढ़ने, बोलने और भाषा की शुद्धता को बरकरार रखने की है। पहले यह सम्मेलन साहित्य और साहित्यकारों पर केन्द्रित होता था लेकिन उन्होंने महसूस किया कि यदि भाषा बचायी नहीं गई तो साहित्य को कौन पढ़ेगा। उन्होंने कहा कि इस कार्य में भारत की जिम्मेवारी ज्यादा है और वह उसे निभा भी रहा है।
श्रीमती स्वराज ने कहा कि भाषा के साथ संस्कृति का गौरव भी जरूरी है इसलिए इस सम्मेलन का मुख्य विषय ‘हिन्दी विश्व और भारतीय संस्कृति’ रखा गया है। उन्हें खुशी है कि गिरमिटिया देशों में संस्कृति का गौरव कायम है। उन्होंने कहा कि 11वें विश्व हिन्दी सम्मेलन की तैयारियों का जायजा लेने के लिए वह कुछ दिनों पहले जब मॉरीशस आयीं थी तब यहां के प्रधानमंत्री प्रवीण जगन्नाथ ने उन्हें रात्रि भोज पर आमंत्रित किया था। उस भोज में खिचड़ी भी परोसी गयी थी और उस समय श्री जगन्नाथ ने कहा कि उनके यहां हर संक्रांति को खिचड़ी बनती है। उन्होंने अपनी पत्नी से कहा, ‘उनकी मां खिचड़ी बनाना जानती हैं तुम भी खिचड़ी बनाना सीख लो।’ उन्होंने कहा कि श्री जगन्नाथ हिन्दी बोलना नही जानते हैं इसलिए उनमें भाषा को न जान पाने की निराशा और संस्कृति को बचाये रखने की छटपटाहट उन्हें दिखाई देती है।
विदेश मंत्री ने कहा कि समारोह की शुरुआत में केन्द्रीय हिंदी संस्थान आगरा के जिन पांच विद्यार्थियों ने सरस्वती वंदना की वे भारत और मॉरीशस की नहीं बल्कि अन्य देशों की थी, यह हिन्दी के लिए गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि वर्ष 1975 में जब पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन आयोजित हुआ था और उस समय से ही दो अनुशंसाएं हर बार होती थी कि विश्व हिन्दी सचिवालय की स्थापना हो और संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी को आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता मिले। विश्व हिन्दी सचिवालय की स्थापना हो चुकी है और अब यह सुचारू रूप से काम भी कर रहा है ।
शिवा उपाध्याय सूरज
वार्ता
More News
संयुक्त राष्ट्र में सुषमा ने की शेख हसीना-मोरक्को के विदेश मंत्री से मुलाकात

संयुक्त राष्ट्र में सुषमा ने की शेख हसीना-मोरक्को के विदेश मंत्री से मुलाकात

24 Sep 2018 | 11:03 PM

न्यूयार्क ,24 सितंबर (वार्ता) विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संयुक्त राष्ट्र में बंगलादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और मोरक्को के विदेश मंत्री नसीर बोरिता से सोमवार को मुलाकात की।

 Sharesee more..
पांच दिवसीय बंगलादेश दौरे पर ढाका पहुंचे प्रभु

पांच दिवसीय बंगलादेश दौरे पर ढाका पहुंचे प्रभु

24 Sep 2018 | 7:50 PM

ढाका 24 सितंबर (वार्ता) केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग तथा नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु व्यापार तथा द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा करने के लिए पांच दिवसीय बंगलादेश दौर पर सोमवार अपराह्न ढाका पहुंचे।

 Sharesee more..
image