Wednesday, Nov 14 2018 | Time 10:15 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
दुनिया Share

प्रोफेसर खेईना ने कहा कि हिंदी के प्रसार में भारत के लोग ही बाधा और चुनौतियां खड़ी कर रहे हैं। भारत के लोग खुद से सवाल करें कि वे हिंदी को कैसा समझते हैं। यदि उनसे पूछा जाये कि क्या वे हमेशा हिंदी में बात करते हैं तो उनका जवाब होगा नहीं। यही हिंदी के प्रसार की सबसे बड़ी समस्या है। उन्होंने कहा, “हम सब हिंदीप्रेमी चाहते हैं कि हिंदी अंतर्राष्ट्रीय भाषा बन जाये लेकिन जब भारत के लोग ही इसे राष्ट्रभाषा न मानें तो हम विदेशी क्यों मानें।”
उन्होंने कहा कि हिंदी के साथ सबसे बड़ी समस्या है कि यदि भारत के लोग ही अपनी भाषा बोलने में शर्म महसूस करेंगे तो दूसरे देश के लोग इसे सीखने का कष्ट क्यों उठायेंगे। उन्होंने कहा कि चीन में भी तिब्बती, मंगोलियाई, कुर्द और कोरियाई भाषा सीखते हैं लेकिन पूरे देश की भाषा चीनी ही है। चीन के लोग अपनी भाषा पर गर्व महसूस करते हैं और अंग्रेजी जानते हुये भी अपनी भाषा में बात करते हैं। यही कारण है कि चीन में काम करने वाले विदेशियों को भी चीनी भाषा सीखनी पड़ती है।
श्री खेईना ने कहा कि उनके देश में हिंदी पढ़ने वालों को मंत्रालय, मीडिया, विश्वविद्यालय और चीनी कंपनियों में नौकरी मिल रही है। वहीं, भारतीय कंपनियां हिंदी बोलने वालों को रोजगार नहीं दे रही हैं। यह बड़ी ही अजीब बात है।
शिवा सूरज
जारी (वार्ता)
More News
श्रीलंका संसद भंग करने पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

श्रीलंका संसद भंग करने पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

13 Nov 2018 | 7:48 PM

कोलंबो 13 नवंबर (शिन्हुआ) श्रीलंका के सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के संसद भंग करने के फैसले पर मंगलवार को रोक लगा दी, सुप्रीम कोर्ट के तीन न्यायाधीशों की खंडपीठ ने यह रोक लगाकर विपक्ष समेत विभिन्न वर्गाें को अंतरिम राहत प्रदान की।

 Sharesee more..
नवाज की रिहाई के खिलाफ याचिका पर होगी सुनवाई

नवाज की रिहाई के खिलाफ याचिका पर होगी सुनवाई

13 Nov 2018 | 2:25 PM

इस्लामाबाद 13 नवंबर (वार्ता) पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (नेब) की पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम नवाज की एवेन्यू फील्ड अपार्टमेंट मामले में रिहाई के इस्लामाबाद उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ याचिका स्वीकार करते हुए मामले की नियमित सुनवायी के लिए बड़ी पीठ के गठन का आदेश दिया।

 Sharesee more..
image