Tuesday, Apr 23 2019 | Time 08:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तीसरे चरण का मतदान शुरू, कई दिग्गजों की किस्मत दांव पर
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 24 अप्रैल)
  • तीसरे चरण का मतदान शुरू, कई दिग्गजों की किस्मत दांव पर
  • गुजरात की सभी 26 सीटों पर मतदान शुरू, अमित शाह और चार पूर्व केंद्रीय मंत्रियों समेत 371 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर
  • बिहार में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच तीसरे चरण का मतदान शुरू
  • तीसरे चरण में रिकॉर्ड संख्या में करें मतदान : मोदी
  • छत्तीसगढ़ में आखिरी चरण की सात सीटो पर मतदान शुरू
  • तीसरे चरण में 116 लोकसभा सीटों के लिए मतदान शुरू
  • नाइजीरिया में भीड़ के बीच घुसी गाड़ी, 11 की मौत 30 घायल
  • यमन के विद्रोहियों ने सउदी के दो जासूसी ड्रोन को मार गिराने का दावा किया
  • ईरान के रक्षा मंत्री सुरक्षा सम्मेलन में भाग लेने मॉस्को जाएंगे
  • वियतनाम के पूर्व राष्ट्रपति ली डुक अनह का निधन
  • श्रीलंका पुलिस ने हमले के मामले में पांच और संदिग्ध को किया गिरफ्तार
  • फिलीपींस में भूकंप से छह लोगों की मौत
दुनिया


ईरान पर प्रतिबंधों का असर, लेकिन हमारा मकसद सत्ता परिवर्तन नहीं: बोल्टन

यरूशलम 22 अगस्त (वार्ता) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जाॅन बोल्टन ने कहा है कि ईरान पर लगाए गए अार्थिक प्रतिबंधों का उस पर जोरदार असर हुआ है और इस बात को वहां भी महसूस किया जा रहा है लेेकिन ईरान में सत्ता परिवर्तन उनका मकसद नहीं है।
दरअसल जून 2015 में ईरान के साथ अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझाैते से अमेरिका पीछे हट गया था और ईरान पर इसी माह अनेक प्रतिबंध लगा दिए गए हैं।
इजरायल की यात्रा पर आए श्री बोल्टन ने पत्रकारों से कहा,“ मुझे यह बात स्पष्ट करने दीजिए कि ईरान पर फिर से लगाए गए प्रतिबंधों का उस पर काफी जोरदार प्रभाव पड़ा है अाैर लोगों में इस बात को लेकर काफी चर्चा भी हो रही है। हमारा मकसद वहां सत्ता परिवर्तन नहीं है लेकिन हम चाहते हैं कि ईरानी नेतृत्च के अाचरण में बदलाव आए।”
ईरान पर लगाए गए अार्थिक प्रतिबंधोें का वहां काफी असर पड़ा है और ईरानी सरकार ने इनका मुकाबला करने के लिए कुछ कड़े आर्थिक कदम भी उठाए हैं। खाने-पीने की कीमतों में हो रही बढ़ोतरी को लेकर हजारों ईरानियाें ने जमकर प्रदर्शन किया है।
श्री बोल्टन ने कहा कि आर्थिक प्रतिबंधों का उस पर निश्चित रूप से काफी असर पड़ा है और यह उनके अनुमान से भी कहीं अधिक हैं। इसके अलावा वह ईरान पर दबाव बनाने के लिए और भी विकल्पों पर विचार कर रहे हैं।
जितेन्द्र.श्रवण
रायटर
image