Monday, Jun 24 2019 | Time 19:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मध्यप्रदेश में दो दर्जन आईएएस अधिकारियों के तबादले
  • शामली में तस्कर गिरफ्तार, 20 लाख की शराब बरामद
  • झारखंड निगम विकास परियोजना के लिए 14 7 करोड़ डॉलर का ऋण
  • उत्तराखंड के सात जिलों में भारी वर्षा हाई अलर्ट
  • गुजरात ने जीता व्हीलचेयर प्रीमियर लीग का खिताब
  • क्या भाजपा शासित राज्य में मुस्लिम को पीटा जाना भाजपा का नया भारत है: मुफ्ती
  • विधानसभा चुनाव के मद्देनजर काम कर रहे हैं केजरीवाल: मनोज तिवारी
  • किसान हमारे अन्नदाता और जीवनदाता : बाउरी
  • ओडिशा में सत्तारूढ़ बीजद विधायक सरोज गये जेल
  • कांग्रेस और राकांपा के उम्मीदवार उप चुनाव में जीते
  • प्राथमिक जांच के बाद मुलायम को अस्पताल से छुट्टी
  • बस्ती के बंजरिया फार्म पर करंट लगने से दो मालियों की मृत्यु
  • परिवहन मंत्री इस्तीफा दें : कुलदीप राठौर
  • खाद्य तेल, दालों, गेहूँ में नरमी
  • बंगलादेश और अफगानिस्तान मैच का स्कोरबोर्ड
दुनिया


हिंदी अब विदेशियों के लिए भी बनी रोजी-रोटी की भाषा

(शिवाजी से)
पोर्ट लुई (मॉरीशस) 22 अगस्त (वार्ता) हिंदी भाषा सीखने और पढ़ने से रोजगार नहीं मिलने का भ्रम टूटने लगा है तथा अब तो कई विदेशी भी मान रहे हैं कि हिंदी ही उनकी रोजी-रोटी का जरिया है।
गोस्वामी तुलसीदास नगर में आयोजित तीन दिवसीय 11वें विश्व हिंदी सम्मेलन में आये चीन में हिंदी के पुरोधा एवं भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की चीन यात्रा के दौरान उनके अनुवादक रहे जियान चिग खेईना ने कहा कि रिपीट ने कहा कि वह चीन में हिंदी के सैनिक हैं और उनकी रोजी-रोटी हिंदी भाषा के कारण ही चलती है। वह चीन में हिंदी के प्रोफेसर हैं। उन्होंने कहा कि भारत को जानने के लिए हिंदी सीखना जरूरी है। हिंदी से ही भारत की सभ्यता एवं संस्कृति को समझा जा सकता है।
श्री खेईना ने कहा कि वर्ष 2000 के बाद से चीन में हिंदी की स्थिति बहुत अच्छी हुई है। अब वहां 15-16 विश्वविद्यालयों में हिंदी की पढ़ाई हो रही है। उन्होंने कहा कि चीन के लोगों को लगता है कि भारत को समझने की जरूरत है। वहां की युवा पीढ़ी भारत को समझना चाहती है और भारत में व्यापार करना चाहती है।
शिवा सूरज
जारी (वार्ता)
image