Tuesday, Jan 22 2019 | Time 17:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बीएसएफ ने 31 रोहिंग्या सौंपे पुलिस को त्रिपुरा जेल भेजे गए
  • निजी हैसियत से गया था लंदन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में : सिब्बल
  • लीजेंड नडाल और जायंट किलर सितसिपास सेमीफाइनल में
  • नैनीताल में पत्नी को मारने के बाद पति ने की आत्महत्या
  • लगातार तीसरे दिन टूटा रुपया
  • जींद की जनता बाहरियों को नहीं बल्कि स्थानीय उम्मीदवार को वोट करेगी: अरोड़ा
  • चेन्नई सर्राफा के भाव
  • नीतीश ने महत्वपूर्ण योजनाओं में तेजी लाने के दिये निर्देश
  • उत्तराखंड में बारिश, हिमपात से जनजीवन प्रभावित
  • लाेकसभा चुनाव के बाद पता चल जायेगा सबसे बड़ा डकैत कौन : अखिलेश
  • अरहर दाल,चावल उछला;चीनी गिरी
  • हेमलेज़ का भारत में सबसे बड़ा टॉय स्टोर
  • शांति एक्सप्रेस गांधीनगर-अहमदाबाद के बीच रहेगी निरस्त
  • गुजरात में सड़क हादसों में पुलिस कर्मी सहित तीन की मौत
  • आर्थिक रूप से कमजोर को आरक्षण के खिलाफ तहसीन पहुंचे सुप्रीम कोर्ट
दुनिया Share

.

असल में ट्रंप को उम्मीद थी कि श्री सेशंस उनके प्रति वफादारी दिखायेंगे न कि रूस के चुनावों में हस्तक्षेप संबंधी जांच के मामले में उनसे बगावत कर लेंगे।
फॅाक्स एंड फ्रेंड्स कार्यक्रम में दिए गए अपने साक्षात्कार में ट्रंप ने कहा कि उन्होंने एक अटार्नी जनरल रखा है जो न्याय विभाग पर नियंत्रण ही नहीं रख रहा है। सेशंस का न्याय विभाग पर नियंत्रण नहीं है और यह एक तरह की अद्भुत बात है।
उन्होंने कहा कि यहां तक कि उनके विरोधी कहते हैं कि सेशंस को बताना चाहिए था कि वह अपने को बचाने जा रहा है तो वह उसे वहां नहीं रखते। उसने नौकरी ले ली फिर कहा कि वह अपने को बचाने जा रहा है।
ट्रंप ने कहा, ‘ये किस तरह का आदमी है?’ उन्होंने कहा कि सेशंस को उन्होेंने नौकरी पर इसलिए रखा क्योंकि उन्होंने उनमें वफादारी देखी थी, वह वास्तविक समर्थक था। सेशंस को ट्रंप के प्रचार अभियान में इसलिए शामिल किया गया था क्योंकि वह जानता था कि कोई सांठगांठ नहीं है। सेशंस को ट्रंप के अभियान में इसलिए शामिल किया गया था क्यों कि उसका प्रवासियों के संदर्भ में कड़ा रुख रहा है।
दो दिनों पहले रूस वाली जांच के मामले में ही बहुत ही नाटकीय मोड़ आया जब ट्रंप के पूर्व प्रचार प्रबंधक पॉल मेनफोर्ट कर और बैंक घोटाले के मामले में दोषी पाए गए। श्री ट्रंप के पूर्व निजी वकील माइकल कोहेन भी कर चोरी, बैंक घोटाला और प्रचार खर्च उल्लंघन में दोषी पाए गए।
अमृता.श्रवण
वार्ता
More News
अफगानिस्तान तालिबान हमले में 126 जवान मारे गये

अफगानिस्तान तालिबान हमले में 126 जवान मारे गये

22 Jan 2019 | 3:27 PM

काबुल, 22 जनवरी (वार्ता) अफगानिस्तान में काबुल के सैन्य अड्डे पर तालिबानी आतंकवादियों के हमले में 126 सुरक्षा कर्मियों की मौत हो गयी है और 70 अन्य घायल हो गए है।

 Sharesee more..
image