Saturday, Feb 16 2019 | Time 17:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दमन का अंधेरा जल्द ही छंटेगा-मरियम नवाज
  • जन सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए केंद्र ने राज्यों को भेजा परामर्श
  • तेलंगाना में दो नये जिले अस्तित्व में आएंगे
  • मेरे कार्यालय की कुर्की प्रतिशोध की कार्यवाही : वाड्रा
  • मेरे कार्यालय की कुर्की प्रतिशोध की कार्यवाही : वाड्रा
  • कश्मीर राजमार्ग पर एक ओर से यातायात जारी, लेह और मुगल मार्ग बंद
  • इंटर यूनिवर्सिटी मुक्केबाजी प्रतियोगिता 21 फरवरी से
  • हाेटल के कमरे में दंपति ने की आत्महत्या
  • अपने अंतिम लीग मैच में अहमदाबाद से भिड़ेगी चेन्नई
  • आतंकवादी हमले के विरोध में सांगली बंद
  • नालासोपारा से ट्रेन सेवा शुरू
  • शहीद की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब
  • मानसबल विस्फोट मामले में पांच आरोपियों के खिलाफ चालान पेश
  • पुणे में पाकिस्तानी झंडे जलाये गये
  • पाकिस्तान के समर्थन में नारा लगाने वाला टिकट संग्रहक निलंबित
दुनिया Share

बिम्सटेक घोषणापत्र में ‘संस्थागत सुधार’ का संकल्प

बिम्सटेक घोषणापत्र में ‘संस्थागत सुधार’ का संकल्प

काठमांडू 31 अगस्त (वार्ता) बिम्सटेक देशों के प्रमुखों ने शुक्रवार को क्षेत्रीय समूहों को और अधिक प्रभावशाली बनाने का संकल्प लिया और इसके लिए संस्थागत सुधारों का फैसला किया।

दो दिवसीय बिम्सटेक शिखर सम्मेलन के अंतिम दिन काठमांडू घोषणा पत्र जारी किया गया, जिसके तहत आमतौर पर कम सक्रिय रहने के कारण आलोचना का शिकार बने बिम्सटेक देशों के प्रमुखों ने शुक्रवार को क्षेत्रीय समूहों काे और अधिक प्रभावशाली बनाने का संकल्प लिया और इसके लिए संस्थागत सुधारों का फैसला किया। इस सम्मेलन में शिरकत करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य देशों के प्रमुखों ने बिम्सटेक सचिवालय को संगठन के चार्टर का प्रारंभिक मसौदा तैयार करने का काम सौंपा है।

बिम्सटेक की स्थायी कार्य समिति इस चार्टर की समीक्षा करेेगी और अन्य उच्चतर निकाय यह सुनिश्चित करने का प्रयास करेंगे कि इसे बिम्सटेक के अगले शिखर सम्मेलन में अपनाया जाये। इस शिखर सम्मेलन में बिम्सटेक के केंद्रों एवं इकाइयों और सचिवालय के प्रशासनिक तथा वित्तीय मामलों के लिए बिम्सटेक की स्थायी कार्य समिति की स्थापना का भी निर्णय लिया गया। अगले बिम्सटेक शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता अब श्रीलंका को दी गयी है।

गौरतलब है कि बिम्सटेक क्षेत्रीय देशों का एक समूह है। भारत, बांग्लादेश, म्यांमार, श्रीलंका, थाईलैंड, भूटान और नेपाल इसके सदस्य देश हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को बंगलादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सीरीसेना से मुलाकात की थी।

यामिनी, सुरेश

वार्ता

image