Wednesday, Jul 17 2019 | Time 10:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जम्मू में एटीएम में ट्रक घुसा, दो की मौत
  • अफगानिस्तान में हथियारों का जखीरा बरामद
  • पेरू के पूर्व राष्ट्रपति टोलेडो गिरफ्तार
  • लखनऊ में संदिग्ध हालत में निजी अस्पताल के प्रबंधक की मृत्यु
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 18 जुलाई)
  • लखनऊ में पिता ने जमीन पर पटककर कर दी आठ माह के पुत्र की हत्या
  • 100 से अधिक एफ-35 लड़ाकू विमान नहीं खरीद सकता तुर्की : ट्रम्प
  • मिसाइल कार्यक्रम पर नहीं होगी कोई बातचीत: ईरान
  • नोट्रे डेम कैथेड्रल के पुनर्निर्माण पर फ्रांस की संसद ने पारित किया बिल
  • अमेरिका बिना किसी पूर्व शर्त के ईरान से बातचीत के लिए तैयार : ओर्टागुस
  • ईरानी तेल टैंकर को हिरासत में लेने पर खेमनेई ने की ब्रिटेन की आलोचना
Parliament


रेलवे के निजीकरण का कोई सवाल ही नहीं: गोयल

रेलवे के निजीकरण का कोई सवाल ही नहीं: गोयल

नयी दिल्ली, 12 जुलाई (वार्ता) रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भारतीय रेलवे के निजीकरण के आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि रेलवे का निजीकरण कोई नहीं कर सकता लेकिन सेमी हाईस्पीड गाड़ियों के परिचालन तथा बेहतर यात्री सुविधाओं के लिये यदि बाहर से निवेश आता है तो उसका स्वागत किया जाना चाहिए।
श्री गोयल ने आम बजट में रेलवे की अनुदान मांगों पर 12 घंटे तक चली चर्चा का जवाब देते हुए शुक्रवार को यह बात कही। उन्होंने कहा, “रेलवे का निजीकरण कोई कर ही नहीं सकता और रेलवे के निजीकरण का कोई सवाल ही नहीं है। लेकिन कोई नयी टेक्नोलॉजी लेकर आता है रेल के आधुनिकीकरण के लिए, कोई सेमीहाईस्पीड ट्रेन चलाता है और यात्री सुविधाओं को बढ़ाने में योगदान करता है तो ऐसे निवेश का सबको स्वागत करना चाहिए।”
रेल मंत्री ने 50 लाख करोड़ रुपए के निवेश के बारे में सदस्यों के सवालों के बारे में कहा कि रेलवे छह लाख करोड़ रुपए के निवेश से क्षमता संवर्द्धन करेगी और समर्पित मालवहन गलियारे (डीएफसी) बनायेगी जिस पर 4.5 लाख करोड़ रुपए खर्च होंगे। स्वर्णिम चतुर्भुज एवं तिर्यक मार्गों पर गाड़ियों की गति बढ़ाने के लिए डेढ़ लाख करोड़ रुपए खर्च होंगे।
सचिन,अभिनव
जारी वार्ता

image