Tuesday, Jun 18 2019 | Time 20:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मोदी ने बुलायी राजनीतिक दलों के नेताओं की बैठक
  • प्रो0 रंजना अग्रवाल सीएसआईआर-एनआईएसटीएडीएस की निदेशक नियुक्त
  • वर्गास के डबल से चिली ने जापान को 4-0 से हराया
  • फिनस्वीमिंग में हरियाणा को पहला और दिल्ली को दूसरा स्थान
  • हरियाणा में योग समारोह में अमित शाह होंगे मुख्यातिथि
  • इंग्लैंड और अफगानिस्तान मैच का स्कोरबोर्ड
  • आर्थिक गणना में मोबाईल एप्लीकेशन का होगा प्रयोग : सिंह
  • उप्र में उपखनिजों की ओवरलोडिंग पर तत्काल प्रभाव से रोक:जैकब
  • इस्तीफा दे चुके विधायकों को विधानसभा समितियों में लेना जनता से ‘बेहूदा मज़ाक‘ : बादल
  • ओम बिड़ला का लोकसभा अध्यक्ष बनना तय
  • सिक्किम के मुख्यमंत्री ने की जितेंद्र सिंह से मुलाकात
  • रुपया 21 पैसे चढ़ा
  • हरियाणा में जच्चा-बच्चा मृत्यु दर में आई कमी: विज
  • आईआईटी रूड़की के डीओएमएस प्रमुख पद की नियुक्ति रद्द
  • तिहरे हत्याकांड में पिता-पुत्र को आजीवन कारावास
राज्य


कश्मीर राजमार्ग पर फंसे हुए वाहनों को जाने की अनुमति

कश्मीर राजमार्ग पर फंसे हुए वाहनों को जाने की अनुमति

श्रीनगर, 12 मई (वार्ता) कश्मीर घाटी की आेर जाने वाले करीब आठ हजार फंसे वाहनों को रविवार को परिचालन की अनुमति दी गयी। श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर भूस्खलन और लगातार पत्थर गिरने के कारण पिछले तीन दिनों से ये वाहन फंसे हुए हैं।

इस दौरान एकतरफा यातायात श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर लगातार चल रहा है जो कश्मीर से लद्दाख क्षेत्र को जोड़ने वाली एकमात्र सड़क और ऐतिहासिक 86 किलोमीटर लंबी मुग़ल सड़क थी।

यातायात पुलिस अधिकारी ने यूनीवार्ता को बताया कि आज डिगडोल और रामबन में कुछ अन्य स्थानों से भूस्खलन के मलबे को हटाने के बाद कश्मीर की ओर जाने वाले वाहनों को जाने की अनमुति दी गयी है जो कश्मीर घाटी को देश के बाकी हिस्सों को जोड़ता है।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) और सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की राजमार्ग पर गिरे भूस्खलन के मलबे को हटाने और उसकी मरम्मत करने की जिम्मेदारी है। राजमार्ग में फंसे हुए वाहनों को शुक्रवार को कश्मीर घाटी की ओर जाने की अनुमति दी गयी थी। अाधिकारिक सूत्रों ने बताया कि डिगडोल में ताजा भूस्खलन के बाद इस मार्ग पर यातायात को फिर रोक दिया गया था। मशीन से भूस्खलन के मलबे को हटाने के दौरान एक चालक पहाड़ से पत्थर गिरने पर उसकी चपेट में आने से घायल हो गया।

एनएचएआई और बीआरओ के कर्मियों को मशीनों द्वारा भूस्खलन के मलबे को हटाने के कार्य में लगाया गया है। राजमार्ग में फंसे यात्री वाहनों और जरूरत की सामग्री को ले जाते हुए ट्रक सहित लगभग आठ हजार वाहनों को रविवार को कश्मीर की ओर जाने की अनुमति दी गयी।

राजमार्ग में गुरुवार से फंसे हुए पर्यटकों सहित यात्रियों ने आरोप लगाया कि प्रशासन एक गिलास पानी तक उन्हें उपलब्ध कराने में विफल रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि उन्हें ऐसे स्थान पर ठहराया गया जहां किसी प्रकार की सुविधा नहीं थी।

इस बीच, पिछले कुछ हफ्तों में भूस्खलन के बाद राजमार्ग लगातार बंद करने और अधिकारियों ने सप्ताह में दो दिन रविवार और बुधवार को सुरक्षा बल के काफिले के आवागमन की अनुमति के कारण आवश्यक वस्तुओं विशेषकर ताजा सब्जी और फलों के अलावा चिकन और मीट के दाम में तेजी से वृद्धि हुई है। अधिकारियों ने अगले सप्ताह से बुधवार को यह प्रतिबंध हटा लिया है। राजमार्ग अब आम नागरिकों के लिए रविवार को बंद रहेगा।

यातायात पुलिस अधिकारी ने बताया कि लद्दाख क्षेत्र से कश्मीर को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक तरफा यातायात चलेगा। आज श्रीनगर की ओर जाने वालों को जाने की अनुमति दी गयी है।

उन्होंने बताया कि छोटे वाहन सुबह सात बजे से पूर्वाह्न 10 बजे तक लद्दाख क्षेत्र के मिनीमर्ग से कश्मीर घाटी की ओर रवाना होंगे, जबकि बड़े वाहनों को पूर्वाह्न 10 बजे से अपराह्न एक बजे तक परिचालन की इजाजत दी जाएगी। इस अवधि के बाद किसी भी वाहन के परिचालन की अनुमति नहीं दी जायेगी।

उप्रेती.श्रवण

वार्ता

image