Sunday, Mar 24 2019 | Time 18:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अलगाववादियों को खुश करने के लिए कांग्रेस,एनसी, पीडीपी का गठजोड़ : जितेन्द्र
  • वार्नर की विस्फोटक वापसी, हैदराबाद के 181
  • झांसी: पारिवारिक विवाद में पति ने किया पत्नी पर धारदार हथियार से हमला
  • चीन में रासायनिक संयंत्र में विस्फोट, 117 लोग अभी भी अस्पताल में
  • भारत ने आखिरी क्षणों में खाया गोल, कोरिया से मैच ड्रॉ
  • भारत ने आखिरी क्षणों में खाया गोल, कोरिया से मैच ड्रॉ
  • पाकिस्तानी गोलाबारी में जवान शहीद
  • कांग्रेस में हताशा बढ़ रही है: जेटली
  • प्रेमी युगल ने नदी में कूद कर की खुदकुशी
  • अहमदाबाद में झोपड़पट्टी में लगी भीषण आग
  • भारत साम्राज्यवादियों के हमले से मातृभाषाओं को बचाने में कामयाब रहा : उपराष्ट्रपति
  • जांबिया अफ्रीका कप क्वालिफायर में 4-1 से जीता
  • जांबिया अफ्रीका कप क्वालिफायर में 4-1 से जीता
  • मिट्टी के तोंदे के नीचे दबने से दो महिलाओं की मौत, आठ घायल
  • बीजद की केंद्र में सरकार गठन में अहम भूमिका:नवीन
India


आर्थिक रूप से कमजोरों को आरक्षण संबंधी कानून पर राष्ट्रपति की मोहर

आर्थिक रूप से कमजोरों को आरक्षण संबंधी कानून पर राष्ट्रपति की मोहर

नयी दिल्ली, 12 जनवरी (वार्ता) राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों को 10 प्रतिशत आरक्षण के लिए संसद से पारित 103वें संविधान संशोधन कानून को शनिवार को मंजूरी दे दी

, सरकार की ओर से जारी अधिसूचना पत्र में इस आशय की जानकारी दी गयी है। इस कानून के माध्यम से आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को सरकारी नौकरियों और उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश में अधिकतम 10 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गयी है। यह आरक्षण मौजूदा आरक्षणों के अतिरिक्त होगा।
इस संविधान संशोधन के जरिये सरकार को ‘आर्थिक रूप से कमजोर किसी भी नागरिक” को आरक्षण देने का अधिकार मिल गया। ‘आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग’ की परिभाषा तय करने का अधिकार सरकार पर छोड़ दिया गया है जो अधिसूचना के जरिये समय-समय पर इसमें बदलाव कर सकती है। इसका आधार पारिवारिक आमदनी तथा अन्य आर्थिक मानक होंगे।
इस कानून के माध्यम से सरकारी के अलावा निजी उच्च शिक्षण संस्थानों में भी आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों के लिए आरक्षण की व्यवस्था लागू होगी, चाहे वह सरकारी सहायता प्राप्त हो या न हो। हालाँकि, संविधान के अनुच्छेद 30 के तहत स्थापित अल्पसंख्यक शिक्षण संस्थानों में यह आरक्षण लागू नहीं होगा। साथ ही नौकरियों में सिर्फ आरंभिक नियुक्ति में ही सामान्य वर्ग के लिए आरक्षण मान्य होगा।
गौरतलब है कि गत सात जनवरी को मंत्रिमंडल ने इस बाबत फैसला लिया था और संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान लोकसभा में 124वां संविधान संशोधन विधेयक 2019 के तौर पर इसे अंतिम दिन आठ जनवरी को आनन-फानन में पेश किया गया था। लोकसभा से मंजूरी के बाद इसे राज्य सभा की मंजूरी के लिए लिए ऊपरी सदन की कार्यवाही एक दिन आगे बढ़ाने पड़ी थी। राज्य सभा से नौ नवम्बर को पारित होने के बाद इस 103वें संविधान संशोधन कानून को राष्ट्रपति के पास मंजूरी के लिए भेजा गया था।
सुरेश सचिन
वार्ता

More News
झूठ और जालसाजी पर सवार है कांग्रेस: जेटली

झूठ और जालसाजी पर सवार है कांग्रेस: जेटली

24 Mar 2019 | 6:04 PM

नयी दिल्ली 24 मार्च (वार्ता ) केंद्रीय वित्त मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने रविवार को कांग्रेस पर लोकसभा चुनावों में मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए झूठ और जालसाजी का सहारा लेने का आरोप लगाया।

see more..
हिंदू लड़कियों के अपहरण पर भारतीय उच्चायुक्त से रिपोर्ट तलब

हिंदू लड़कियों के अपहरण पर भारतीय उच्चायुक्त से रिपोर्ट तलब

24 Mar 2019 | 4:19 PM

नयी दिल्ली ,24 मार्च (वार्ता) सरकार ने पाकिस्तान के सिंध प्रांत में दो नाबालिग हिन्दू लड़कियों को अगवा कर उनका धर्मांतरण और जबरन विवाह करने के मामले में पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त से रिपोर्ट मांगी है।

see more..
राहुल को अमेठी की जनता ने नकारा: स्मृति

राहुल को अमेठी की जनता ने नकारा: स्मृति

24 Mar 2019 | 2:01 PM

नयी दिल्ली 24 मार्च (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दक्षिण भारत की किसी सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने की अटकलों पर रविवार को कहा कि श्री गांधी को अमेठी की जनता ने नकार दिया है।

see more..
image