Wednesday, Nov 14 2018 | Time 21:35 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दुल्हे बिन बारात लेकर चल रही कांग्रेस : राजनाथ
  • मथुरा को स्वच्छता के मामले में प्रथम स्थान दिलाने के लिए लोगों ने कमर कसी
  • सिलेंडर विस्फोट में छह छात्रा समेत आठ घायल
  • सरकारी विश्वविद्यालय अनुसूचित जाति के छात्रों से फीस न लें: पुका
  • कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र में हिमस्खलन की चेतावनी
  • टाई छूटा हरियाणा और तमिल का मुकाबला
  • पंचायत चुनावों के आखिरी चरण की अधिसूचना जारी
  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का बिहार आगमन कल
  • अजरबैजान में आग में झुलसकर पांच की मौत
  • गौडा ने रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय का कार्यभार संभाला
  • बटलर और करेन ने बनाये अर्धशतक
  • जी20 सम्मेलन में होगी पुतिन आबे के बीच बैठक
  • कमलनाथ के विवादास्पद वीडियो के संबंध में निर्वाचन आयोग से शिकायत
  • पाकिस्तान में आतंकवादियों का राजनीतिक मुख्यधारा में आना चिंताजनक : मोदी
  • अंग्रेजों को देश से बाहर करने वाली कांग्रेस अब देगी मोदी सरकार को भी शिकस्त: शर्मा
दुनिया Share

भारत के शाश्वत, सामंजस्यपूर्ण दृष्टिकोण को विश्व तक पहुंचाएं: नायडू

भारत के शाश्वत, सामंजस्यपूर्ण दृष्टिकोण को विश्व तक पहुंचाएं: नायडू

शिकागो 10 सितंबर (वार्ता) उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने अमेरिका में भारतीय समुदाय से कहा है कि वे भारत के शाश्वत और सामंजस्यपूर्ण दृष्टिकोण को विश्व के हर हिस्से तक पहुंचाएं और विश्व के कोने-कोने से अच्छे विचारों और पद्धतियों को देश में लाएं।

श्री नायडू ने सोमवार को अमेरिका के शिकागो में ऐतिहासिक कला संस्थान में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए कहा,“ विदेशों में रह रहे भारतीय मूल के लोग देश के सांस्कृतिक और आध्यात्मिक दूत बन चुके हैं और अमेरिका तथा भारत की दोस्ती व्यक्तिगत आजादी, स्वतंत्रता, लोकतंत्र, बहुवाद, कानून का शासन अौर न्याय पर आधारित है। भारतीय समुदाय के यहां रह रहे लोग विश्व के अन्य देशों के मुकाबले अधिक मजबूत और जोशपूर्ण है तथा चिकित्सा, इंजीनियरिंग, व्यापार, अकादमिक क्षेत्र में अाप लोगों की उत्कृष्टता हमारे लिए गर्व का विषय है।”

उन्होंने कहा कि भारत के साथ निंरतर संबंध, विशेषज्ञता, सलाह और बेहतर पद्धतियों को साझा करने से युवाअों को ढालने में मददगार साबित होगा और उन्हें कौशलयुक्त बनाने से समग्र विकास तथा वृद्धि होगी।

श्री नायडू ने भारतीय समुदाय को इस विकास की गाथा का हिस्सा बनने का आग्रह करते हुए कहा कि भारत इस समय अभूतपूर्व पैमाने पर बदलाव की प्रकिया में हैं। इसमें समावेशी विकास तथा बेहतर सुशासन आवश्यक तत्व हैं जो देश और अर्थव्यवस्था में एक नयी ऊर्जा का संचार कर रहे हैं।

गौरतलब है कि इसी संस्थान में स्वामी विवेकानंद ने 1893 में विश्व धर्म सभा को संबाेधित करते हुए भारत का प्रतिनिधित्व किया था और अपने भाषण से विदेशियों का दिल जीत लिया था।

जितेन्द्र.श्रवण

वार्ता

More News

अजरबैजान में आग में झुलसकर पांच की मौत

14 Nov 2018 | 9:08 PM

 Sharesee more..

जी20 सम्मेलन में होगी पुतिन आबे के बीच बैठक

14 Nov 2018 | 8:59 PM

 Sharesee more..

14 Nov 2018 | 7:30 PM

 Sharesee more..

इजरायल के रक्षा मंत्री ने इस्तीफा दिया

14 Nov 2018 | 7:07 PM

 Sharesee more..
image