Tuesday, Apr 23 2019 | Time 08:03 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिहार में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच तीसरे चरण का मतदान शुरू
  • तीसरे चरण में रिकॉर्ड संख्या में करें मतदान : मोदी
  • छत्तीसगढ़ में आखिरी चरण की सात सीटो पर मतदान शुरू
  • तीसरे चरण में 116 लोकसभा सीटों के लिए मतदान शुरू
  • नाइजीरिया में भीड़ के बीच घुसी गाड़ी, 11 की मौत 30 घायल
  • यमन के विद्रोहियों ने सउदी के दो जासूसी ड्रोन को मार गिराने का दावा किया
  • ईरान के रक्षा मंत्री सुरक्षा सम्मेलन में भाग लेने मॉस्को जाएंगे
  • वियतनाम के पूर्व राष्ट्रपति ली डुक अनह का निधन
  • श्रीलंका पुलिस ने हमले के मामले में पांच और संदिग्ध को किया गिरफ्तार
  • फिलीपींस में भूकंप से छह लोगों की मौत
दुनिया


भारत के शाश्वत, सामंजस्यपूर्ण दृष्टिकोण को विश्व तक पहुंचाएं: नायडू

भारत के शाश्वत, सामंजस्यपूर्ण दृष्टिकोण को विश्व तक पहुंचाएं: नायडू

शिकागो 10 सितंबर (वार्ता) उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने अमेरिका में भारतीय समुदाय से कहा है कि वे भारत के शाश्वत और सामंजस्यपूर्ण दृष्टिकोण को विश्व के हर हिस्से तक पहुंचाएं और विश्व के कोने-कोने से अच्छे विचारों और पद्धतियों को देश में लाएं।

श्री नायडू ने सोमवार को अमेरिका के शिकागो में ऐतिहासिक कला संस्थान में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए कहा,“ विदेशों में रह रहे भारतीय मूल के लोग देश के सांस्कृतिक और आध्यात्मिक दूत बन चुके हैं और अमेरिका तथा भारत की दोस्ती व्यक्तिगत आजादी, स्वतंत्रता, लोकतंत्र, बहुवाद, कानून का शासन अौर न्याय पर आधारित है। भारतीय समुदाय के यहां रह रहे लोग विश्व के अन्य देशों के मुकाबले अधिक मजबूत और जोशपूर्ण है तथा चिकित्सा, इंजीनियरिंग, व्यापार, अकादमिक क्षेत्र में अाप लोगों की उत्कृष्टता हमारे लिए गर्व का विषय है।”

उन्होंने कहा कि भारत के साथ निंरतर संबंध, विशेषज्ञता, सलाह और बेहतर पद्धतियों को साझा करने से युवाअों को ढालने में मददगार साबित होगा और उन्हें कौशलयुक्त बनाने से समग्र विकास तथा वृद्धि होगी।

श्री नायडू ने भारतीय समुदाय को इस विकास की गाथा का हिस्सा बनने का आग्रह करते हुए कहा कि भारत इस समय अभूतपूर्व पैमाने पर बदलाव की प्रकिया में हैं। इसमें समावेशी विकास तथा बेहतर सुशासन आवश्यक तत्व हैं जो देश और अर्थव्यवस्था में एक नयी ऊर्जा का संचार कर रहे हैं।

गौरतलब है कि इसी संस्थान में स्वामी विवेकानंद ने 1893 में विश्व धर्म सभा को संबाेधित करते हुए भारत का प्रतिनिधित्व किया था और अपने भाषण से विदेशियों का दिल जीत लिया था।

जितेन्द्र.श्रवण

वार्ता

image