Wednesday, May 22 2019 | Time 20:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • केंद्रीय मंत्री के गोद लिए गांव में दसवीं के 28 में से दो बच्चे हुए पास
  • हेलीकाॅप्टर सेवाएं स्थानीय लोगों के लिए बनीं मुसीबत
  • न्यायाधिकरण ने नौसेना प्रमुख की नियुक्ति संबंधी दस्तावेज तलब किये
  • श्रीलंका में आपातकाल की अवधि एक माह के लिए और बढ़ाई गई
  • इंडियन नेशनल को 3-0 से हराकर गढ़वाल हीरोज सेमीफाइनल में
  • नाइजीरिया में डाकुओं के हमले में 18 किसानों की मौत
  • फ्रांस में भारतीय वायु सेना की राफेल टीम के कार्यालय में तोड़ फोड़ का प्रयास
  • सिरसा स्वास्थ्य विभाग ने मुक्तसर में किया भ्रूण जांच गिरोह का भंडाफोड़
  • ईवीएम पर सियासी दलों की शंकाओं, संदेह को दूर करने की मांग
  • राकांपा के विधायक क्षीरसागर शिव सेना में शामिल
  • फ्लाइट लेफि्टनेंट भावना कंठ मिशन पर जाने के लिए तैयार
  • टॉप सीड गायत्री और प्रियांशु को आसान ड्रॉ
  • मध्यप्रदेश के पांच जिले लू की चपेट में तो अनेक स्थानों पर लू के हालात
  • चंपावत में शिक्षक ने छात्रा के साथ किया दुष्कर्म
  • अाेमानी लेखिका को जोखा अलहारती को बुकर पुरस्कार
बिजनेस


विश्व व्यापार संगठन ने किया भारत का धन्यवाद

नयी दिल्ली 15 मई (वार्ता) विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के महानिदेशक रोबर्टो अजेवेदो ने संगठन के समक्ष मौजूदा चुनौतियों और व्यापार युद्ध के वैश्विक आर्थिक विकास तथा व्यापार के विस्तार पर पड़ने वाले प्रभाव पर मंत्री स्तरीय समूह की बैठक के आयोजन के लिए भारत को धन्यवाद दिया है।
मंगलवार को मंत्री स्तरीय समूह की अनौपचारिक बैठक समाप्त होने के बाद श्री अजेवेदो ने बुधवार को ट्वीट कर कहा “डब्ल्यूटीओ के समक्ष चुनौतियों पर दिल्ली में मंत्रियों के बीच उत्कृष्ट चर्चा की मेजबानी के लिए भारत को धन्यवाद। (व्यापार युद्ध का) असर सब पर होगा, लेकिन विकासशील देश और अल्प विकसित देशों पर इसका सबसे ज्यादा प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।”
उन्होंने कहा, “इस बैठक में जो देश शामिल हुए, वे इस बात को समझने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं कि हम इस समय कहाँ हैं और आगे का क्या रास्ता होना चाहिये। मुझे लगता है कि हमारे पास इस समझ को और मजबूत बनाने तथा भविष्य में सकारात्मक रास्ते पर आगे बढ़ने का अवसर है।”
बैठक के बाद जारी बयान में कहा गया था कि डब्ल्यूटीओ की प्रक्रिया में विकास को केंद्र में रखा जाना चाहिए, समावेशी विकास को प्रोत्साहित किया जाना चाहिये और विकासशील देशों की रुचि तथा चिंताओं को ध्यान में रखा जाना चाहिये। आगे का रास्ता मुक्त, पारदर्शी और समावेशी प्रक्रिया द्वारा तय किया जाना चाहिये।
अजीत, यामिनी
वार्ता
image