Sunday, Aug 9 2020 | Time 11:16 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रक्षा मंत्रालय ने ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान को बढ़ावा देने के लिए 101 वस्तुओं के आयात पर रोक लगायी
  • आदिवासी सांस्कृतिक विरासत संजोकर रखने की जरूरत : राहुल
  • नरेंद्र मोदी को लेकर ट्वीट करने के मामले में विधायक पटवारी के खिलाफ प्राथमिकी
  • आंध्र कोविड सेंटर आग: शाह ने लाेगों की मौत पर जताया शोक
  • आंध्र के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से सात मरीजाें की मौत, तीन घायल
  • जगन मोहन ने कोविड केयर सेंटर में आग से लोगों की मौत पर जताया शोक
  • पटना में युवक का शव बरामद
  • पम्बा बांध: जलस्तर 983 05 मीटर पहुंचा,ऑरेंज अलर्ट जारी
  • मोदी ने आंध्र के कोविड केंद्र में आग से लोगों की मौत पर जताया दुख
  • मोदी ने दी बलराम जयंती की शुभकामनाएं
  • आंध्र के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से तीन मरीजाें की मौत, कई झुलसे
  • मराठवाड़ा में कोरोना वायरस के रिकॉर्ड 1231 नये मामले
  • आंध्र प्रदेश के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से तीन मरीजों की मौत, कई झुलसे
  • कुलगाम में सुरक्षा बलों-आतंकवादियों के बीच मुठभेड़
बिजनेस


विमानों की तरह ट्रेन में देख सकेंगे फिल्म, वीडियो

नयी दिल्ली 14 जनवरी (वार्ता) ट्रेन सफर के दौरान और रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों को जल्द ही रेलवे मनोरंजक वीडियो, फिल्में और अन्य सामग्री उपलब्ध करायेगा।
रेल मंत्रालय ने आज बताया कि सभी प्रीमियम, एक्सप्रेस और मेल ट्रेनों तथा उपनगरीय ट्रेनों में मीडिया सर्वर लगाये जायेंगे जिनमें कई भाषाओं में फिल्में, मनोरंजक कार्यक्रम, लाइफस्टाइल से जुड़ी सामग्रियाँ उपलब्ध होंगी। ये मनोरंजक सामग्रियाँ माँग पर यात्रियों को उनके इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसों पर उपलब्ध करायी जायेंगी। इसमें नि:शुल्क और सशुल्क दोनों तरह की सेवा का प्रावधान होगा।
परियोजना के जरिये रेलवे को बिना किराया बढ़ाये राजस्व अर्जन वृद्धि में भी मदद मिलेगी। रेलवे को सब्सक्रिप्शन और विज्ञापन के रूप में राजस्व प्राप्ति होगी। इस परियोजना को दो साल में शुरू किया जायेगा और 2022 तक पूरी तरह लागू किया जायेगा। इसके तहत यात्री फिल्में, टेलीविजन शो, शैक्षणिक कार्यक्रम आदि देख सकेंगे।
मनोरंजक सामग्री उपलब्ध कराने के लिए रेलवे बोर्ड ने रेलटेल को जिम्मेदारी दी है जो रेल मंत्रालय के अधीन मिनीरत्न कंपनी है। रेलटेल ने इसके लिए ज़ी इंटरटेनमेंट की इकाई मार्गो नेटवर्क के साथ 10 साल का समझौता किया है जो इस परियोजना में डिजिटल मनोरंजन सेवा प्रदाता होगा।
देश में चलने वाली 8,731 ट्रेनों में से 5,728 में यह परियोजना लागू की जानी है। इनमें 3,003 प्रीमियम/मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें और 2864 उपनगरीय ट्रेनें हैं।
अजीत सत्या
वार्ता
image