Friday, Jan 22 2021 | Time 21:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राजस्थान में कोरोना के 201 नये मामले आए
  • ज्ञानवापी वाराणसी के विश्वेस्वर नाथ मंदिर-मस्जिद विवाद की सुनवाई जारी
  • ग्यारहवें दौर की बैठक रही बेनतीजा,अगली बैठक की तिथि तय नहीं
  • भाजपा पंजाब के कई बड़े नेता अकाली दल में शामिल होने की तैयारी में
  • जमुई में भारी मात्रा में विदेशी शराब बरामद, दो गिरफ्तार
  • मधेपुरा में फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी से छह लाख 12 हजार की लूट
  • कश्मीर से गुजरात लायी गयी 6 करोड़ से अधिक क़ीमत की चरस बरामद, 5 गिरफ़्तार
  • शशिकला कोरोना वायरस (कोविड-19) से संक्रमित
  • सुपौल में व्यवसायी के घर डकैती मामले में सात डकैत गिरफ्तार
  • तमिलनाडु में बस दुर्घटना में 21 श्रद्धालु घायल
  • सांगली जिला में कोरोना के 10 नये मरीज मिले
  • दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने 300 वैगनों की सबसे लंबी “वासुकी” चलाकर रचा इतिहास
  • कोल्हापुर जिले में कोरोना के 22 मरीज हुए स्वस्थ
  • भागलपुर में शिक्षिका से एक लाख की संपत्ति की लूट
भारत


दिल्ली, पंजाब, हरियाणा में गर्भपात की दवाओं की भारी कमी

नयी दिल्ली 10 अगस्त (वार्ता) देश के छह राज्यों में दवा विक्रेताओं के सर्वेक्षण से यह खुलासा हुआ है कि दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, तमिलनाडु और मध्यप्रदेश में गर्भपात की दवाओं की भारी किल्लत है, जिससे इन राज्यों की गर्भवती महिलाओं को असुरक्षित गर्भपात का सहारा लेना पड़ता है।
फांउडेशन फॉर रिप्रोडक्टिव हेल्थ सर्विसेज इंडिया ( एफआरएचएसआई) ने दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, तमिलनाडु, मध्यप्रदेश और असम के 1,500 दवा विक्रेताओं का सर्वेक्षण करके यह पता लगाया कि कितने प्रतिशत दवा विक्रेता अपने पास गर्भपात की दवा रखते हैं।सर्वेक्षण से यह खुलासा हुआ कि पंजाब में मात्र एक प्रतिशत दवा विक्रेता गर्भपात की दवा रखते हैं। इसके अलावा हरियाणा और तमिलनाडु के दो-दो प्रतिशत , मध्यप्रदेश के 6.5 प्रतिशत और दिल्ली के 34 प्रतिशत दवा विक्रेता गर्भपात की दवा बेचते हैं। असम की स्थिति इन सबसे बेहतर है, जहां के 69.6 प्रतिशत दवा विक्रेताओं के पास गर्भपात की दवा थी।
परिवार नियोजन सेवायें प्रदान करने वाले गैर सरकारी संगठन एफआरएचएसआई के मुताबिक कानूनी झंझट और जरूरत से दस्तावेज जमा करने की परेशानी से बचने के लिए लगभग 79 प्रतिशत दवा विक्रेताओं ने गर्भपात की दवायें बेचनीं बंद कर दी हैं। सर्वेक्षण में शामिल 54.8 प्रतिशत दवा विक्रेताओं का कहना था कि अनुसूची एच दवाइयों के मुकाबले गर्भपात की दवायें ज्यादा नियंत्रित हैं। यहां तक कि असम में , जहां गर्भपात की दवाओं का भंडार अधिक है, वहां के 58 प्रतिशत दवा विक्रेता भी इन दवाओं पर अनियंत्रण की बात कहते हैं। तमिलनाडु के 79 प्रतिशत, पंजाब के 74 प्रतिशत, हरियाणा के 63 प्रतिशत और मध्यप्रदेश के 40 प्रतिशत दवा विक्रेता गर्भपात की दवा न रखने के पीछे नियामक के नियंत्रक को ही मुख्य वजह बताते हैं।
अर्चना.संजय
जारी.वार्ता
More News
एंटी एयरफील्ड वेपन का सफल परीक्षण

एंटी एयरफील्ड वेपन का सफल परीक्षण

22 Jan 2021 | 8:46 PM

नयी दिल्ली 22 जनवरी (वार्ता) रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने एक और उपलब्धि हासिल करते हुए देश में निर्मित स्‍मार्ट एंटी एयरफील्‍ड वेपन (एसएएडब्‍ल्‍यू) का सफल परीक्षण किया है।

see more..
कांग्रेस समिति की कृषि कानून खत्म करने तथा राष्ट्रीय सुरक्षा पर जेपीसी गठन की मांग

कांग्रेस समिति की कृषि कानून खत्म करने तथा राष्ट्रीय सुरक्षा पर जेपीसी गठन की मांग

22 Jan 2021 | 8:40 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था कार्य समिति ने सरकार से किसान आंदोलन खत्म करने के लिए कृषि संबंधी तीनों कानून खत्म करने, बालाकोट हवाई हमले की सूचना लीक होने की घटना की संसद की संयुक्त समिति से जांच कराने तथा देश के गरीब तथा कमजोर वर्ग के लोगों को निश्चित समय के भीरत निशुल्क कोविड टीका लगाने की मांग की है।

see more..
नरेंद्र चंचल के निधन पर हर्षवर्धन ने किया शोक व्यक्त

नरेंद्र चंचल के निधन पर हर्षवर्धन ने किया शोक व्यक्त

22 Jan 2021 | 7:41 PM

नयी दिल्ली 22 जनवरी (वार्ता) केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री हर्षवर्धन ने सुप्रसिद्ध भजन गायक नरेंद्र चंचल के निधन पर शुक्रवार को गहरा शोक व्यक्त किया।

see more..
कांग्रेस कार्य समिति ने किसान संकट, राष्ट्रीय सुरक्षा पर जताई चिंता

कांग्रेस कार्य समिति ने किसान संकट, राष्ट्रीय सुरक्षा पर जताई चिंता

22 Jan 2021 | 7:26 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था कार्य समिति ने किसान आंदोलन का हल नहीं निकालने, राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता करने तथा ह्वट्सएप की नागरिकों की निजी सूचना में सेंध लगाने की कोशिश पर चिंता व्यक्त करते हुए सरकार से तीनों कृषि कानून वापस लेकर बालाकोट हवाई हमले की सूचना लीक होने की संसद की संयुक्त समिति से जांच कराने की मांग की है।

see more..
image