Tuesday, Apr 20 2021 | Time 12:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • महाराष्ट्र के आधारवाडी जेल में 30 कैदी कोरोना पॉजिटिव मिले
  • मुख्तार एंबुलेंस प्रकरण में अलका राय और एसएन राय गिरफ्तार
  • रूद्रा : द एज ऑफ डार्कनेस में पुलिस ऑफिसर के किरदार में नजर आयेंगे अजय देवगन
  • रूद्रा : द एज ऑफ डार्कनेस में पुलिस ऑफिसर के किरदार में नजर आयेंगे अजय देवगन
  • विश्व में कोरोना से 14 20 करोड़ लोग संक्रमित
  • भीलवाड़ा अस्पताल के एनआईसीयू वार्ड में लगी आग
  • पांच शहरों में लॉकडाउन लगाने के हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ उच्चतम न्यायालय जायेगी सरकार
  • केन्द्र सरकार कोरोना टीकों की पर्याप्त उपलब्धता करें सुनिश्चित-गहलोत
  • पुलिस ने एंबुलेंस प्रकरण में मऊ की महिला चिकित्सक भाजपा नेत्री अलका राय को किया गिरफ्तार
  • अजमेर में ऑक्सीजन के जरुरत वाले कोरोना मरीज ही वार्ड में होंगे भर्ती
  • देश में कोरोना संक्रमण के 2 59 लाख से अधिक नए मामले
  • प्रवासी मजदूरों के खातों में रुपये जमा करे सरकार : राहुल
  • पश्चिम चंपारण : तीन करोड़ के चरस के साथ दो तस्कर गिरफ्तार
  • मराठवाड़ा में कोरोना के 7454 नये मामले
भारत


दिल्ली, पंजाब, हरियाणा में गर्भपात की दवाओं की भारी कमी

नयी दिल्ली 10 अगस्त (वार्ता) देश के छह राज्यों में दवा विक्रेताओं के सर्वेक्षण से यह खुलासा हुआ है कि दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, तमिलनाडु और मध्यप्रदेश में गर्भपात की दवाओं की भारी किल्लत है, जिससे इन राज्यों की गर्भवती महिलाओं को असुरक्षित गर्भपात का सहारा लेना पड़ता है।
फांउडेशन फॉर रिप्रोडक्टिव हेल्थ सर्विसेज इंडिया ( एफआरएचएसआई) ने दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, तमिलनाडु, मध्यप्रदेश और असम के 1,500 दवा विक्रेताओं का सर्वेक्षण करके यह पता लगाया कि कितने प्रतिशत दवा विक्रेता अपने पास गर्भपात की दवा रखते हैं।सर्वेक्षण से यह खुलासा हुआ कि पंजाब में मात्र एक प्रतिशत दवा विक्रेता गर्भपात की दवा रखते हैं। इसके अलावा हरियाणा और तमिलनाडु के दो-दो प्रतिशत , मध्यप्रदेश के 6.5 प्रतिशत और दिल्ली के 34 प्रतिशत दवा विक्रेता गर्भपात की दवा बेचते हैं। असम की स्थिति इन सबसे बेहतर है, जहां के 69.6 प्रतिशत दवा विक्रेताओं के पास गर्भपात की दवा थी।
परिवार नियोजन सेवायें प्रदान करने वाले गैर सरकारी संगठन एफआरएचएसआई के मुताबिक कानूनी झंझट और जरूरत से दस्तावेज जमा करने की परेशानी से बचने के लिए लगभग 79 प्रतिशत दवा विक्रेताओं ने गर्भपात की दवायें बेचनीं बंद कर दी हैं। सर्वेक्षण में शामिल 54.8 प्रतिशत दवा विक्रेताओं का कहना था कि अनुसूची एच दवाइयों के मुकाबले गर्भपात की दवायें ज्यादा नियंत्रित हैं। यहां तक कि असम में , जहां गर्भपात की दवाओं का भंडार अधिक है, वहां के 58 प्रतिशत दवा विक्रेता भी इन दवाओं पर अनियंत्रण की बात कहते हैं। तमिलनाडु के 79 प्रतिशत, पंजाब के 74 प्रतिशत, हरियाणा के 63 प्रतिशत और मध्यप्रदेश के 40 प्रतिशत दवा विक्रेता गर्भपात की दवा न रखने के पीछे नियामक के नियंत्रक को ही मुख्य वजह बताते हैं।
अर्चना.संजय
जारी.वार्ता
More News
देश में कोरोना संक्रमण के 2.59 लाख से अधिक नए मामले

देश में कोरोना संक्रमण के 2.59 लाख से अधिक नए मामले

20 Apr 2021 | 11:01 AM

नयी दिल्ली 20 अप्रैल (वार्ता) देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है और पिछले 24 घंटों के दौरान विभिन्न हिस्सों में इस वायरस से संक्रमित 2.59 लाख से अधिक नये मामले सामने आए और 1761 और लोगों की इस महामारी के संक्रमण से मौत हो गयी।

see more..
दिल्ली में कोरोना के 23000 से अधिक नये मामले, 240 की मौत

दिल्ली में कोरोना के 23000 से अधिक नये मामले, 240 की मौत

19 Apr 2021 | 11:39 PM

नयी दिल्ली 19 अप्रैल (वार्ता) राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटे के दौरान भी कोरोना वायरस के मामलों में भारी वृद्धि जारी रही और इस दौरान 23,000 से अधिक नये मामले सामने आये तथा 240 और मरीजों की मौत हुई जबकि सक्रिय मामले 1,900 से अधिक और बढ़कर 76,000 के पार पहुंच गये।

see more..
बैंक धोखाधड़ी मामले में सीबीआई के छापे

बैंक धोखाधड़ी मामले में सीबीआई के छापे

19 Apr 2021 | 11:38 PM

नयी दिल्ली, 19 अप्रैल (वार्ता) केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने 200 करोड़ रुपये की बैंक धोखाधड़ी के मामले में दिल्ली अर्बन शेल्टर इम्प्रूवमेंट बोर्ड (डीयूएसआईबी) और बैंक ऑफ बड़ौदा के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है तथा छापे भी मारे हैँ।

see more..
image