Friday, Apr 26 2019 | Time 19:15 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • रूस दौरा खत्म कर स्वदेश रवाना हुए किम जोंग उन
  • पूर्व आबकारी अधिकारी के ठिकानों पर ईओडब्ल्यू ने मारे छापे
  • राजकोट में महिला ने किया आत्मदाह
  • वीर चंद्र सिंह गढ़वाली योजना घोटाले में सरकार एवं मंत्री को नोटिस जारी
  • जेट एयरवेज ने रखरखाव कर्मचारियों से की काम पर लौटने की अपील
  • पंजाब, हिमाचल प्रदेश और चंडीगढ़ में 27-28 अप्रैल को नामांकन नहीं
  • मकान मालिक सहित चार ने किया किशोरी पर दुष्कर्म
  • भाजपा सरकार के दिन अब लदने वाले हैं: किरण चौधरी
  • मंदिर न जाकर,हिंदुत्व की भावना को प्रियंका ने किया आहत:अनुराग
  • मोदी के पास दो करोड़ 51 लाख की चल-अचल सम्पत्ति
  • भट्टू में नाके पर तलाशी के दौरान 12 लाख की नकदी बरामद
  • भाजपा के पास काम के नाम पर कुछ नहीं दिखाने को: रमेश पायलट
  • उप्र में छठवें चरण के लिए लोकसभा की 14 सीटों पर प्रेक्षक नियुक्त
  • राज्यपाल ने चौधरी विद्या सागर के निधन पर शोक व्यक्त किया
लोकरुचि


देवी पाटन मंदिर पहुंची बाबा पीर रतननाथ की शोभायात्रा

देवी पाटन मंदिर पहुंची बाबा पीर रतननाथ की शोभायात्रा

 


बलरामपुर 10 अप्रैल (वार्ता) नेपाल के दाँग चौधड़ से  पीर बाबा रतननाथ की शोभायात्रा परंपरागत  ढंग से  चैत्र नवरात्र के पंचमी के दिन बुधवार को आदि शक्ति पीठ देवीपाटन पहुँची।

    देवी पाटन मंदिर के महंत योगी मिथलेश नाथ के अनुसार ,पंचमी से नवमी तक शक्ति पीठ देवी पाटन मे माँ भगवती के पूजन-अर्चना का संपूर्ण दायित्व सिद्ध पीर रतननाथ के सुपुर्द कर दी गयी  है। इस दौरान विशेष अनुष्ठान कर मां भगवती का पूजन-अर्चन की जायेगी।  मंदिर मे स्थित बाबा पीर रतन नाथ के दरीचे का देश विदेश से आये देवी भक्त दर्शन कर रहे  है।

     विक्रम संवत 809 मे शुरू हुई नाथ सम्प्रदाय के पात्र देवता को सिद्ध पीर बाबा रतननाथ की शोभा यात्रा के साथ लाकर मंदिर मे पांच  दिवसीय पूजा की जाती है। भारत नेपाल मैत्री सम्बन्धों को और प्रगाढ़ करती इस शोभा यात्रा पर राष्ट्र विरोधी तत्वों की काली छाया के चलते दोनों देशों के सुरक्षा कर्मियों का कड़ा पहरा रहा।

    मान्यताओ के अनुसार ,नेपाल के दाग जिले के राजकुंवर रतन परीक्षक को काफी तपस्या करने के पश्चात माँ भगवती ने दर्शन दिये तभी से उनका नाम  बाबा रतननाथ पड़ा। उन्होंने नाथ सम्प्रदाय की स्थापना कर काबुल ,पाक ,नेपाल ,भूटान के अलावा  कई यूरोपीय और एशियाई देशों में नाथ सम्प्रदाय का प्रचार प्रसार कर विस्तार किया। उन्होंने विश्व भ्रमण करते समय मक्का मदीना में जाकर मोहम्मद साहब को भी ज्ञान दिया था। मोहम्मद साहब बाबा रतननाथ से प्रभावित हुए और उन्होने बाबा रतननाथ को पीर की उपाधि देकर सम्मानित किया। तब से इन्हें सिद्ध पीर बाबा रतननाथ के नाम से जाना जाता है।

नेपाल से पात्र देवता के साथ पैदल भारत आने में प्रतिनिधियों को नौ दिन का समय लगता हैद्य। सिद्ध पीर बाबा रतननाथ नेपाल राष्ट्र के दाग के राजा और गुरू गोरक्षनाथ के शिष्य और इन्होने ही शक्तिपीठ देवीपाटन का मढी का निर्माण कराया था।

    माँ पाटेश्वरी की पूजा के लिए बाबा प्रतिदिन दाँग से यहा आया करते थे। माता पाटेश्वरी के अनन्य भक्त बाबा रतननाथ सात सौ वर्षो तक जिन्दा रहे। गुरूगोरक्षनाथ ने बाबा रतनाथ को एक अमृत पात्र दिया था। सात सौ वर्षो से ये अमृत कलश चैत्र नवरात्र की पंचमी तिथि को बाबा रतननाथ के प्रतिनिधि के रूप में नेपाल के दांग से देवीपाटन लाया जाता है। भारत-नेपाल की सीमा पर स्थित प्रसिद्ध शक्तिपीठ देवीपाटन दोनों देशों की धार्मिक और आध्यात्मिक ही नही बल्कि सांस्कृतिक सम्बन्धो की प्रगाढता को भी प्रदर्शित करता है।

     चैत्र नवरात्र में नेपाल से आने वाली बाबा रतननाथ की ऐतिहासिक शोभायात्रा दोनो देशों के बीच पौराणिक काल से चली आ रही धार्मिक और आध्यात्मिक परम्पराओ का निर्वहन करती है। यह यात्रा भारत और नेपाल के सदियों पुराने सम्बन्धो को ही नही दर्शाती जिसकी एक झलक पाने के लिए देश के कोने कोने से आए श्रद्धालु दूर से ही यात्रा मार्ग के दोनो तरफ फूल माला लेकर यात्रा की प्रतीक्षा करते रहते हैं।

सं भंडारी

वार्ता

More News
विश्व प्रसिद्ध 84 कोसी परिक्रमा दल श्रृंगी ऋषि आश्रम के लिए रवाना

विश्व प्रसिद्ध 84 कोसी परिक्रमा दल श्रृंगी ऋषि आश्रम के लिए रवाना

22 Apr 2019 | 12:09 PM

बस्ती 22 अप्रैल (वार्ता)उत्तर प्रदेश में बस्ती के मखौड़ा धाम से 20 अप्रैल को शुरू हुये 84 कोसी परिक्रमा दल अपने तीसरे पड़ाव के लिए सोमवार तड़के हनुमान बाग चकोही से अयोध्या के श्रृंगी ऋषि आश्रम के लिए रवाना हो गया।

see more..
विश्व प्रसिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा पहुंची दूसरे पड़ाव पर

विश्व प्रसिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा पहुंची दूसरे पड़ाव पर

21 Apr 2019 | 12:47 PM

बस्ती 21 अप्रैल, (वार्ता) उत्तर प्रदेश में बस्ती के मखौड़ा धाम से शुरू हुए अयोध्या के विश्व प्रसिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा मे सामिल साधू, सन्त और धर्म प्रेमी प्रथम पड़ाव राम रेखा मंदिर छावनी से रविवार के भोर में धर्म ध्वजा फहराते भजन कीर्तन गाते हुए परिक्रमा के दूसरे पड़ाव हनुमान बाग चकोही के लिए रवाना हुये।

see more..
नैसर्गिक सुंदरता से भरपूर बखिरा झील को नहीं मिल सका पर्यटन स्थल का रूतबा

नैसर्गिक सुंदरता से भरपूर बखिरा झील को नहीं मिल सका पर्यटन स्थल का रूतबा

19 Apr 2019 | 2:40 PM

संतकबीरनगर 19 अप्रैल (वार्ता) पर्यटन उद्योग की तमाम संभावनाओं को समेटे पूर्वी उत्तर प्रदेश में संतकबीरनगर जिले में स्थित बखिरा झील में प्रकृति ने चार चांद लगाये है लेकिन इसे पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने के प्रयास किसी सरकार ने नहीं किये।

see more..
गीता प्रेस की पुस्तके अब आन लाइन उपलब्ध

गीता प्रेस की पुस्तके अब आन लाइन उपलब्ध

17 Apr 2019 | 12:33 PM

गोरखपुर 17 अप्रैल (वार्ता) विश्व में धार्मिक पुस्तकों के विख्यात प्रकाशक गीता प्रेस गोरखपुर की प्रमुख पुस्तकें अब आन लाइन उपलब्ध रहेगीं।

see more..
image