Thursday, Oct 29 2020 | Time 15:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बागेश्वर में कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत के मामले की जांच के आदेश
  • एथनॉल की कीमतों में 3 35 रुपए प्रति लीटर तक की वृद्धि
  • इसरो नौ विदेशी उपग्रहों का प्रक्षेपण करेगा
  • बिहार में दो तिहाई से अधिक सीट जीतकर राजग की फिर बनेगी सरकार : गौरव
  • चंपावत में चरस के साथ एक तस्कर गिरफ्तार
  • विस उपाध्यक्ष हांसदा का निधन, ममता ने जताया शोक
  • आईपीएल के 50वें मैच में उम्मीदों के लिए भिड़ेंगे पंजाब-राजस्थान
  • आईपीएल के 50वें मैच में उम्मीदों के लिए भिड़ेंगे पंजाब-राजस्थान
  • दानिश ने जामिया के सौ साल पूरे होने पर डाक टिकट जारी करने के लिये मोदी से किया आग्रह
  • मुंगेर : गुस्साई भीड़ ने एसपी कार्यालय पर किया पथराव, पुलिस वाहन में लगाई आग
  • पाकिस्तानी सासंद के बयान से खुल गई होंगी राहुल गांधी की आंखें-भाजपा
  • खाद्यान्नों की पैकेजिंग अब शत प्रतिशत जूट की बोरी में
  • एथनॉल की संशाेधित कीमतें
  • नीतीश ने केशुभाई पटेल के निधन पर व्यक्त की शोक संवेदना
फीचर्स


बेगम की ठुमरी की मुरीद थी पूरी दुनिया

बेगम की ठुमरी की मुरीद थी पूरी दुनिया

लखनऊ 07 अक्तूबर (वार्ता) बेगम अख्तर का नाम आते ही मन में गजल,ठुमरी और दादरा का ख्याल आता है जिसे सुन कर लोग झूम उठते थे ।

उनकी आवाज का जादू ऐसा था कि कोई एकबार सुन ले तो उनका दीवान हो जाये ।उनकी शख्सीयत बेमिसाल थी तो लखनऊ को अपने इस हुनरमंद शख्सीयत पर नाज था और है । बेगम की ठुमरी को सुनने वाला उनका मुरीद हो जाता था । वो अपनी मर्जी की मालकिन थी ।

सात अक्तूबर 1914 को फैजाबाद में जन्मीं बेगम अख्तर 1938 में लखनऊ आयीं और यहीं की हो कर रह गईं । उनका लखनऊ आना आइडियल फिल्म कंपनी के काम से हुआ था । हालांकि वो फिल्मों में गाने के लिये तब की बंबई और आज की मुम्बई चली गईं लेकिन वहां की दुनिया उन्हें रास नहीं आई और लखनऊ की याद सताने लगी । फिल्मी दुनिया की चमक दमक उन्हें पसंद नहीं थी इसलिये वापस लखनऊ आ गईं ।

बेगम अख्तर ने संगीत प्रेमियों को गजल की विरासत सौंपी । उन्होंने कई जगह अपनी आवाज का जादू बिखेरा । ,, ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया ,, गजल जब दूरदर्शन पर अब भी जब सुनाई देती तो लोग ठिठक कर सुनने को बाध्य हो जाते । उनका दिल हमेशा लखनऊ के लिये धड़कता था । उन्होंने लंबे समय तक लखनऊ दूरदर्शन के लिये काम किया ।

इतिहासकार योगेश प्रवीण कहते हैं कि वो अपनी मर्जी की मालकिन थी । राजा महराजाओं को भी उनकी जिद के आगे झुकना पड़ता था ।

बेगम का जन्म जिस महीने में हुआ ,उसी महीने में उनका इंतकाल भी हुआ । बेगम ने 30 अक्तूबर 1974 को दुनिया छोड़ दी । उनकी वसीयत के अनुसार पुराने लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके में उनकी मां के बगल में ही उनकी मजार है ।

उनकी जन्म और पुण्यतिथि पर कुछ लाेग जुटते हैं और मोमबत्ती जला कर चले जाते हैं । गंगा जमुनी तहजीब के इस शहर में कोई यह देखने वाला भी नहीं कि उनकी कब्र अब किस हालत में है ।

विनोद

वार्ता

More News
ताईवान के आईटी प्रोफेशनल, गांधीनगर के फैशन डिजाइनर बुंदेलखंड में सीख रहे खेती के गुर

ताईवान के आईटी प्रोफेशनल, गांधीनगर के फैशन डिजाइनर बुंदेलखंड में सीख रहे खेती के गुर

04 Oct 2020 | 1:46 PM

..निर्मल यादव से.. बांदा, 04 अक्टूबर (वार्ता) कोरोना संकट ने प्रकृति और पर्यावरण के प्रति संजीदा सोच रखने वालों को जीवन शैली में बदलाव लाने के लिये ऐसा प्रेरित किया है कि फैशन डिजाइनिंग और सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र से लेकर पत्रकारिता और कला जगत तक के लोग अब अपना कार्य क्षेत्र बदलकर गांव और खेती किसानी का रुख कर रहे हैं।

see more..
लॉकडाउन में  भूले बिसरे गीतकारों के इतिहास पर किताब

लॉकडाउन में भूले बिसरे गीतकारों के इतिहास पर किताब

27 Sep 2020 | 2:46 PM

नयी दिल्ली 27 सितंबर (वार्ता ) क्या आपको मालूम है कि देश में 1933 में ही एक ऐसी सवाक हिंदी फ़िल्म "कर्मा " बनी जिसमे एक गाना अँग्रेजी में भी था। इस फ़िल्म के निर्माता हिमांशु राय थे और उसकी नायिका उनकी पत्नी देविका रानी थी जिन्होंने एक गाना अपनी आवाज में गया था।

see more..
गाजीपुर के जखनिया क्षेत्र में पर्यटन की अपार संभावना

गाजीपुर के जखनिया क्षेत्र में पर्यटन की अपार संभावना

26 Sep 2020 | 7:29 PM

गाजीपुर,26 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के गाजीपुर स्थित जखनिया तहसील क्षेत्र में पर्यटन के विकास की अपार संभावनाएं हैं ।

see more..
मिथिलांचल में बाढ़ से सूख गये हजारों पेड़

मिथिलांचल में बाढ़ से सूख गये हजारों पेड़

25 Sep 2020 | 6:02 PM

दरभंगा, 25 सितम्बर (वार्ता) बिहार में मिथिलांचल की राजधानी कहे जाने वाले दरभंगा जिले के हजारों एकड़ में करीब दो माह से जमा बाढ़ के पानी से हजारों की संख्या में आम समेत अन्य फलदार एवं कीमतों वृक्षों के सूख जाने से एक तरफ जहां किसानों की कमर टूट गई है वहीं पर्यावरण को भी काफी नुकसान पहुंचा है।

see more..
प्रकृति दे रही लॉकडाउन को धन्यवाद

प्रकृति दे रही लॉकडाउन को धन्यवाद

04 Jun 2020 | 8:00 PM

झांसी 04 जून (वार्ता) दुनिया और देशभर में कोविड -19 के कहर के कारण मची हाहाकार के बीच इससे निपटने के लिए लगाये गये देशव्यापी लॉकडाउन ने इंसान को जहां बंदिशों में रखा वहीं प्रकृति को फिर से सजने और संवरने का मौका दिया है।

see more..
image