Friday, Sep 20 2019 | Time 18:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ईपीएफओ के दिल्ली मध्य क्षेत्रीय कार्यालय में हिन्दी पखवाड़ा
  • गोण्डा के कृष्णपाल सिंह से कैसे बने स्वामी चिन्मयानंद
  • लोकसभा चुनावों में बनी भाजपा की हवा अब निकल चुकी है : दुष्यंत चौटाला
  • भारतीय अर्थव्यवस्था 50 खरब डॉलर की ओर बढ़ रही है: प्रसाद
  • अमित ने रचा इतिहास, स्वर्ण से एक पंच दूर
  • घरेलू चरण के लिए तैयार है हरियाणा स्टीलर्स
  • राज्यपाल के आगमन के मद्देनजर झांसी प्रशासन जुटा तैयारियों में
  • पीड़िता की आत्मदाह की धमकी के बाद हुई चिन्मयानंद की गिरफ्तारी: प्रियंका
  • कश्मीर की प्रगति इमरान को हजम नहीं: भारतीय राजनयिक
  • आर्थिक मंदी को लेकर वाम दल करेंगे जनांदोलन
  • वीवो का डुअल पॉपअप सेल्फी कैमरा स्मार्टफोन वी 17 प्रो लाँच
  • राष्ट्रीय रोप स्किपिंग प्रतियोगिता में भाग लेने दिल्ली टीम रवाना
  • योगी पहुंचे वाराणसी, बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का लेंगे जायजा
  • बजरंग की सेमीफाइनल हार पर कोच कृपाशंकर ने उठाये सवाल
  • बजरंग की सेमीफाइनल हार पर कोच कृपाशंकर ने उठाये सवाल
दुनिया


ट्रम्प ने उ.कोरिया पर पुतिन के बयान का किया स्वागत

ट्रम्प ने उ.कोरिया पर पुतिन के बयान का किया स्वागत

वाशिंगटन 26 अप्रैल (स्पूतनिक) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने उत्तर कोरिया पर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की ओर से दिए गए बयान का स्वागत किया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, “ मैं मानता हूं कि हम उत्तर कोरिया के साथ बहुत ही बेहतर कर रहे हैं, इस मुद्दे पर हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। मैं राष्ट्रपति पुतिन के कल दिए गए वक्तव्य की प्रशंसा करता हूं। वह भी इस मुद्दे को हल होते हुए देखना चाहते हैं।”

श्री पुतिन ने बुधवार को एक बयान दिया था जिसमें उन्होंने कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु निरस्त्रीकरण के लक्ष्य को हासिल करने के लिए अमेरिका से बातचीत को जारी रखने का आग्रह किया था।

रूसी राष्ट्रपति ने कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप का परमाणु निरस्त्रीकरण संभव है, हालांकि इसे हासिल करने के लिए आपसी विश्वास की आवश्यकता है।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि वह उत्तर काेरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण पर छह सदस्यों वाली चर्चा को दोबारा शुरू करने को लेकर निश्चित नहीं हैं। श्री पुतिन ने माना कि इस चर्चा से उत्तर कोरिया को अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा गारंटी मिलने में सहायता मिलेगी।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2003 में उत्तर कोरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण पर चर्चा के लिए चीन, जापान, रूस, अमेरिका, दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया के बीच छह सदस्यीय चर्चा शुरू हुई थी। वर्ष 2007 में इस चर्चा के अंतिम दौर की बातचीत हुई थी।

रूसी राष्ट्रपति ने कहा, “ मैं नहीं जानता कि ऐसे प्रारूप की बातचीत शुरू की जानी चाहिए कि नहीं, लेकिन मैं इस बात को लेकर निश्चित हूं कि इससे उत्तर कोरिया को अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा गारंटी मिलेगी।”

इससे पहले आज श्री पुतिन और उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन के बीच यहां पहला शिखर सम्मलेन संपन्न हुआ।

श्री पुतिन और श्री किम के बीच गुरुवार को व्लादिवोस्ताेक के रस्सकी द्वीप पर फार ईस्टर्न फेडरल यूनिवर्सिटी में मुलाकात हुई। यह दोनों देशों के नेताओं के बीच न केवल पहली मुलाकात है बल्कि श्री किम के 2011 में सत्ता संभालने के बाद से रूस की उनकी पहली यात्रा भी है। दोनों नेताओं के बीच लगभग 3.5 घंटे तक बैठक चली।

श्री किम की यात्रा का ब्योरा सुरक्षा कारणों से अंतिम समय तक गोपनीय रखा गया था। रूसी राष्ट्रपति कार्यालय क्रेमलिन के अधिकारी यूरी उशाकोव ने मंगलवार को श्री किम के रूस आगमन की पुष्टि करते हुए बताया था कि वह श्री पुतिन से 25 अप्रैल को मुलाकात करेंगे।

इससे पहले रूस और उत्तर कोरिया के बीच 2011 में शिखर सम्मेलन हुआ था। उस समय उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग द्वितीय ने रूस के तत्कालीन राष्ट्रपति दिमित्री मेदवेदेव से मुलाकात की थी।

More News
पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी: अकबरुद्दीन

पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी: अकबरुद्दीन

20 Sep 2019 | 5:14 PM

संयुक्त राष्ट्र, 20 सितंबर (वार्ता) संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा है कि न्यूयार्क और संयुक्त राष्ट्र के अपने दौरे के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उच्च स्तरीय बैठकों में हिस्सा लेंगे तथा पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल से कोई बातचीत नहीं की जाएगी।

see more..
ट्रंप, इमरान के बीच फिर से होगी कश्मीर पर चर्चा

ट्रंप, इमरान के बीच फिर से होगी कश्मीर पर चर्चा

20 Sep 2019 | 11:00 AM

वरशिंगटन 20 सितंबर (वार्ता) पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच अमेरिका के न्यूयॉर्क में 23 सितंबर को मुलाकात होने की संभावना है जिसमें एक बार फिर कश्मीर मसले पर चर्चा हो सकती है।

see more..
image