Saturday, Jan 29 2022 | Time 19:46 Hrs(IST)
image
खेल


टी20 विश्व कप फ़ाइनल में कितना होगा टॉस का महत्व

टी20 विश्व कप फ़ाइनल में कितना होगा टॉस का महत्व

दुबई, 14 नवम्बर (वार्ता) इस विश्व कप में यह एक रिवाज़ हो गया है कि शाम के मैच में जो टीम टॉस जीतती है, वह पहले गेंदबाज़ी करती है और फिर लक्ष्य का पीछा करते हुए मैच जीत लेती है। फ़ाइनल मैच दुबई में होगा, जहां 12 में से 10 मैच टॉस जीतने वाली टीम ही जीती है। इसके अलावा अबू धाबी और दुबई में 27 डे नाइट टी20 मैचों में से 21 मैच उस टीम ने जीते हैं, जिन्होंने लक्ष्य का पीछा किया।

ओस इसमें एक बहुत बड़ा कारण है क्योंकि ओस के कारण दूसरी पारी में गेंदबाज़ी ख़ासकर स्पिन गेंदबाज़ी थोड़ी कठिन और बल्लेबाज़ी आसान हो जाती है। नॉकआउट मुक़ाबलों को देखने के बाद तो लगा कि यहां पर आख़िरी ओवरों में 12 रन/ओवर भी बचाना मुश्किल है। फ्लडलाइट्स के नीचे दूसरी पारी के दौरान तेज़ गेंदबाज़ों ने यहां पर नौ मैचों में सिर्फ़ आठ विकेट लिए हैं और इस दौरान 10 के इकॉनोमी से प्रति ओवर रन दिए है।

विश्व कप में सुपर 12 मैचों की शुरुआत से ही यह ट्रेंड बन गया कि लक्ष्य का पीछा करने वाली टीम जीत रही है। इस दौरान 23 में से 18 मैच ऐसे ही जीते गए, जबकि दुबई में यह रिकॉर्ड नौ में से नौ मैच था। हालांकि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। 2014 और 2016 टी20 विश्व कप में भी रात के मैचों में अधिकतर वही टीमें जीत रही थीं, जो लक्ष्य का पीछा कर रही थीं। इसी तरह टॉस जीतने वाली टीमों को भी इस बार की तरह ही लाभ मिल रहा था।

दोनों सेमीफ़ाइनल मुक़ाबलों के बाद यह साफ़ हो गया है कि अगर आपको बड़े मैचों में जीतना है तो आपको बड़ा स्कोर खड़ा करना होगा। 2014 से टी20 विश्व कप के आठ नॉकआउट मुक़ाबलों में से सात मैच लक्ष्य का पीछा करने वाली टीमों द्वारा जीते गए हैं।

ऑस्ट्रेलिया ने इस टूर्नामेंट में अब तक पांचों बार टॉस जीता है, हालांकि इंग्लैंड के ख़िलाफ़ उन्हें मैच में हार मिली थी। वहीं न्यूज़ीलैंड ने इस टूर्नामेंट में अब तो सिर्फ़ दो ही बार भारत और इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दो महत्वपूर्ण मैचों में टॉस जीता है। पिछले छह विश्व कप फ़ाइनल में पांच बार टॉस जीतने वाली टीम ने ही ख़िताब जीता है।

अगर पिछले चैंपियंस की बात करें तो वेस्टइंडीज़ ने 2016 विश्व कप में सभी छह मैचों में टॉस जीते थे और ख़िताब अपने नाम किया था। इन सभी छह मैचों में उन्होंने टॉस जीतकर पहले गेंदबाज़ी करने का फ़ैसला किया था। इसी तरह 2012 की ख़िताबी जीत में भी उन्होंने सात में से छह मैचों में टॉस जीते थे। 2007 में भारत ने पांच मैचों में टॉस जीते थे, जिसमें नॉक आउट के दो महत्वपूर्ण मुक़ाबले शामिल हैं। वहीं 2014 में श्रीलंका ने अपनी ख़िताबी जीत में वे सभी चार मैच जीते थे, जिसमें उन्होंने टॉस जीता था।

राज

वार्ता

More News
बेन कूपर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया संन्यास

बेन कूपर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया संन्यास

29 Jan 2022 | 7:29 PM

एम्स्टर्डम, 29 जनवरी (वार्ता) नीदरलैंड के अनुभवी ऑलराउंडर बेन कूपर ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की।

see more..
सातवां एएफसी चिकित्सा सम्मेलन स्थगित

सातवां एएफसी चिकित्सा सम्मेलन स्थगित

29 Jan 2022 | 7:08 PM

कुआलालंपुर, 29 जनवरी (वार्ता) एशियाई फुटबॉल परिसंघ (एएफसी) ने शनिवार को कोरोना के ओमिक्रॉन स्वरूप के बढ़ते संक्रमण से सामने आईं चुनौतियों के कारण अपने सातवें चिकित्सा सम्मेलन को 2023 तक के लिए स्थगित कर दिया। सम्मेलन छह से 10 मार्च तक दोहा में होना था।

see more..
पाकिस्तान को एकतरफा अंदाज में 119 रन से हरा कर ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में

पाकिस्तान को एकतरफा अंदाज में 119 रन से हरा कर ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में

29 Jan 2022 | 7:03 PM

एंटीगुआ, 29 जनवरी (वार्ता) शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों के शानदार प्रदर्शन और गेंदबाजों की घातक गेंदबाजी की बदौलत ऑस्ट्रेलिया की अंडर-19 क्रिकेट टीम ने शुक्रवार को यहां क्वार्टर फाइनल मैच में पाकिस्तान को एकतरफा अंदाज में 119 रन से हरा कर आईसीसी अंडर-19 विश्व 2022 के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया, जहां उसका दो फरवरी को आज भारत और बंगलादेश के बीच दूसरे क्वार्टर फाइनल मैच के विजेता से मुकाबला होगा।

see more..
प्रजनेश, अर्जुन को टाटा ओपन में वाइल्डकार्ड एंट्री

प्रजनेश, अर्जुन को टाटा ओपन में वाइल्डकार्ड एंट्री

29 Jan 2022 | 6:54 PM

पुणे, 29 जनवरी (वार्ता) भारतीय टेनिस खिलाड़ियों प्रजनेश गुणेश्वरन और अर्जुन काधे को शनिवार को टाटा ओपन महाराष्ट्र टेनिस टूर्नामेंट के एकल मुख्य ड्रॉ में वाइल्डकार्ड एंट्री मिली।

see more..
image