Wednesday, Feb 21 2018 | Time 06:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सीरिया के गौता में हवाई हमले में दो दिन में 250 की मौत
  • मेघालय में चुनाव से पूर्व फिर से आईईडी बम बरामद
  • जूनियर ट्रंप कोलकाता पहुंचे
  • अमेरिका के साथ होगा युद्ध अभ्यास : द कोरिया
फीचर्स Share

क्या होगा अगर दो मोर्चो पर जंग छिड़ गई तो?

क्या होगा अगर दो मोर्चो पर जंग छिड़ गई तो?

नयी दिल्ली. 22 जनवरी (वार्ता) ‘‘चीन की तो बात छोड़ दीजिये, अगर जंग की नौबत आई तो भारत पाकिस्तान को भी परास्त नहीं कर पाएगा।’’ अगर ऐसा आत्म पराजय वाला निष्कर्ष को पेश करे तो एक जोरदार बहस देश के सैन्य बलों की क्षमता को लेकर छिड़ जाना लाजिमी है। हाल ही में जब ‘‘ड्रैगन आॅन आॅवर डोरस्टेप’’ पुस्तक आई तो उसने ऐसी ही बहस छेड़ दी। यह पुस्तक ऐसी काल्पनिक स्थिति को सामने रखकर सैन्य बलों का आकलन करती है जिसमें भारत को चीन और पाकिस्तान दोनों ही ओर से जंग की नौबत का सामना करना पड़ता है। ‘‘अगर भारत को चीन से मैदान में मुकाबला करना पड़ा तो उसे एक बार फिर से पराजय का सामना करना पड़ सकता है’’। यह निष्कर्ष है पुस्तक के लेखक प्रवीण साहनी और गजाला वहाब का, जिनका रक्षा जगत में जाना माना नाम है। उनका कहना है कि इसमें परमाणु हथियारों से कोई लेना देना नहीं है। भारत, चीन और पाकिस्तान की रणनीति में परमाणु और परंपरागत हथियारों की योजना अलग-अलग हैं। सही कारण तो यह है कि पाकिस्तान ने सैन्य ताकत बनाने पर जोर दिया जबकि भारत ने सैन्य बलों के निर्माण पर ध्यान जमाया।


किताब के निष्कर्षों से सहमत हुए बिना भी इसे रक्षा प्रतिष्ठान और सामरिक विशेषज्ञों ने काफी सराहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि यह सकारात्मक बहस की शुरूआत करती है ताकि भारत अपनी सैन्य रणनीति को नए सिरे से परिभाषित कर सके। अमेरिका स्थित कार्नेगी एन्डोवमेंट फार इंटरनेशनल पीस के सीनियर एसोसिएट एश्ले टैलिस ने कहा,‘‘यह इस बात का सपाट विश्लेषण देती है कि भारत किस तरह अपनी राष्ट्रीय ताकत और खास तौर से सैन्य क्षमताओं को लगातार चौधराहट जमाते जा रहे चीन के सामने कैसे प्रोजेक्ट कर सकता है और शांति बनाए रखने में कामयाब हो सकता है। उन्होंने कि भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा से सरोकार रखने वाले सभी लोगों को यह पुस्तक सावधानी से पढ़नी चाहिए। गौरतलब है कि श्री टैलिस का नाम भारत में अमेरिका के अगले राजदूत के रूप में गिनाया जा रहा है। पूर्व सेना प्रमुख वी पी मलिक की राय में चीन और भारत अगले दशकों में एशिया की भू-राजनीति और अर्थव्यवस्था तय करेंगे और ऐसे में श्री साहनी और गजाला वहाब की यह कृति चीन के साथ संबंधों को शांतिपूर्ण ढंग से संचालित करने की दिशा में एक अनूठा नजरिया देती है।


पुस्तक में पूर्व राष्ट्रपति के आर नारायण के हवाले से कहा गया है कि चीन के साथ भारत की समस्याएं इतिहास की देन भले ही हों लेकिन उन्हें आने वाले इतिहास पर छोड़ने के बजाए सुलझाने की जरूरत है। यह बात उन्होंने मार्च 2000 में पेईचिंग यात्रा के दौरान उस समय कही थी जब चीन के तत्कालीन राष्ट्रपति ने कहा कि भारत और चीन के बीच की समस्याएं इतिहास की छोड़ी हुई हैं और उनके बारे में संयम बरतने की जरूरत है। पुस्तक कहती है-‘‘अफसोस की बात यह है कि राजीव गांधी के समय से ही भारत के तमाम प्रधानमंत्रियों ने चीन के साथ सीमा विवाद को देश के प्रमुख सरोकार के रूप में नहीं देखा और न ही उन्होंने इसे भारत के लगातार बढ़ते ओहदे को प्रभावति करने वाली समस्या के तौर समझा। पुस्तक में अनुमान जाहिर किया गया है कि अगर भारत का पाकिस्तान के साथ युद्ध हुआ तो उसमें चीन उसका पूरा सहयोग करेगा। ऐसे में भारत को दो मोर्चों पर जंग की पूरी तैयारी रखनी होगी या फिर शांति बनाए रखने की रणनीति अपनानी होगी। इन दोनो में से कोई भी तैयारी नहीं करना आत्मघाती साबित हो सकता है। कौशिक, उप्रेती देवेन्द्र वार्ता

More News
गेमिंग इंडस्ट्री-खेल खेल में करियर

गेमिंग इंडस्ट्री-खेल खेल में करियर

15 Feb 2018 | 12:59 PM

नयी दिल्ली, 15 फरवरी (वार्ता) ‘पढोगे-लिखोगे बनोगे नवाब, खेलोगे-कूदोगे होगे खराब’ यह मुहावरा पीढ़ी दर पीढ़ी दोहराया जाता रहा है लेकिन सुनकर भले अजीब लगे पर यह सच है कि आज के युग में ‘गेमिंग’ के ज़रिये भी बेहतरीन करियर बना पाना संभव है।

 Sharesee more..
जलवायु परिवर्तन से 32 लाख टन घटेगा दूध का उत्पादन

जलवायु परिवर्तन से 32 लाख टन घटेगा दूध का उत्पादन

14 Feb 2018 | 12:54 PM

नयी दिल्ली, 14 फरवरी (वार्ता) जलवायु परिवर्तन के प्रभाव तथा तापमान में वृद्धि से केवल कृषि क्षेत्र पर ही नहीं बल्कि दुधारु पशुओं पर भी दुष्प्रभाव पड़ेगा जिसके चलते दूध उत्पादन में 2020 तक 32 लाख टन की कमी होने का अनुमान है।

 Sharesee more..
कॅरियर बनाने में मददगार डिजिटल पेशेवर सोशल नेटवर्क

कॅरियर बनाने में मददगार डिजिटल पेशेवर सोशल नेटवर्क

14 Feb 2018 | 12:52 PM

नयी दिल्ली, 14 फरवरी (वार्ता) कुछ समय पहले महाराष्ट्र के अकोला का इंजीनियरिंग का एक छात्र अमेरिका में इंटर्नशिप की संभावनाएं तलाश रहा था।

 Sharesee more..
‘रामलला’ भी 69 वर्षों से न्याय की आस में

‘रामलला’ भी 69 वर्षों से न्याय की आस में

08 Feb 2018 | 8:46 PM

अयोध्या 08 फरवरी (वार्ता) सामान्यजन को कौन कहे, यहां तो ‘रामलला’ भी 69 वर्षों से न्याय मिलने की आस में हैं। देश के संवेदनशील मुकदमों में शामिल यहां के रामजन्मभूमि/बाबरी मस्जिद विवाद का मसला 22/23 दिसम्बर 1949 की रात से ही शुरु हो गया था। विवादित ढांचे के बीच वाले गुम्बद में ‘रामलला’ की मूर्ति रख दी गयी थी। हिन्दुओं का कहना है कि ‘रामलला’ प्रकट हुए थे, जबकि मुस्लिम मानते हैं कि मूर्ति जबरदस्ती रख दी गयी थी।

 Sharesee more..
बीमा प्रोफेशनल्स की बढ़ती मांग

बीमा प्रोफेशनल्स की बढ़ती मांग

08 Feb 2018 | 3:55 PM

(अशोक सिंह से) नयी दिल्ली, 08 फरवरी (वार्ता) देश में इंश्योरेंस या बीमा क्षेत्र में हाल के वर्षों में काफी तेज़ी देखने को मिल रही है जिसका नतीज़ा है कि लगभग 30 प्रतिशत आबादी आज जीवन बीमा पॉलिसी धारक है जबकि मात्र एक दशक पहले तक पांच प्रतिशत आबादी ही बीमित थी।

 Sharesee more..
image