Saturday, Sep 22 2018 | Time 07:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ट्रम्प प्रशासन अंतरराष्ट्रीय शांति व सुरक्षा पर खतरा : ईरान
  • इजरायल सेना की गोलीबारी में फिलीस्तीनी की मौत
  • वेनेजुएला के खिलाफ अमेरिका करेगा कार्रवाई : पोम्पेओ
  • न्यूयॉर्क में तीन नवजात बच्चों,दो लोगों पर चाकू से हमला
  • राफेल सौदा प्रकरण, फ्रांस की कंपनियां भारतीय सहयोगी चुनने को लेकर स्वतंत्र: फ्रांस सरकार
  • राफेल सौदा प्रकरण, फ्रांस की कंपनियां भारतीय सहयोगी चुनने को लेकर स्वतंत्र: फ्रांस सरकार
  • मलिक के कमाल से पाकिस्तान ने अफगानिस्तान को हराया
  • राष्ट्रपति ने नौका हादसे की जांच का दिया आदेश
  • नन से दुष्कर्म का आरोपी बिशप मुलक्कल गिरफ्तार
मनोरंजन Share

जब मुकेश के कहने पर अनिल विश्वास ने गाना छोड़ दिया

जब मुकेश के कहने पर अनिल विश्वास ने गाना छोड़ दिया

..जन्मदिवस 07 जुलाई के अवसर पर ...

मुंबई 06 जुलाई (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में अनिल विश्वास को एक ऐसे संगीतकार के तौर पर याद किया जाता है जिसने मुकेश, तलत महमूद समेत कई पार्श्वगायको को कामयाबी के शिखर पर पहुंचाया।

मुकेश के रिश्तेदार मोतीलाल के कहने पर अनिल विश्वास ने उन्हें अपनी एक फिल्म में गाने का अवसर दिया था लेकिन उन्हें मुकेश की आवाज पसंद नहीं आयी बाद में उन्होंने मुकेश को वह गाना अपनी आवाज में गाकर सुनाया। इसके बाद मुकेश ने अनिल विश्वास ने कहा ..दादा बताइये कि आपके जैसा गाना भला कौन गा सकता है। यदि आप ही गाते रहेंगे तो भला हम जैसे लोगों को कैसे अवसर मिलेगा। मुकेश की इस बात ने अनिल विश्वास को सोचने के लिये मजबूर कर दिया और उन्हें रात भर नींद नही आयी। अगले दिन उन्होंने अपनी फिल्म ..पहली नजर ..में मुकेश को बतौर पार्श्वगायक चुन लिया और निश्चय किया कि वह फिर कभी व्यावसायिक तौर पर पार्श्वगायन नहीं करेंगे ।

अनिल विश्वास का जन्म सात जुलाई 1914 को पूर्वी बंगाल के वारिसाल (अब बंगलादेश) में हुआ था। बचपन से ही अनिल विश्वास का रूझान गीत- संगीत की ओर था। महज 14 वर्ष की उम्र से ही उन्होंने संगीत समारोह में हिस्सा लेना

शुरू कर दिया था जहां वह तबला बजाया करते थे। वर्ष 1930 में भारतीय स्वतंत्रता संग्राम अपने चरम पर था। देश को

स्वतंत्र कराने के लिय छिड़ी मुहिम में अनिल विश्वास भी कूद पड़े। इसके लिये उन्होंने अपनी कविताओं का सहारा लिया। कविताओं के माध्यम से अनिल विश्वास देशवासियों मे जागृति पैदा किया करते थे। इसके कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा।

   वर्ष 1930 में अनिल विश्वास कलकत्ता (अब कोलकाता) के रंगमहल थियेटर से जुड़ गये जहां वह बतौर अभिनेता.पार्श्वगायक और सहायक संगीत निर्देशक काम करते थे। वर्ष 1932 से 1934 अनिल विश्वास थियेटर से जुडे रहे। उन्होंने कई नाटको में अभिनय और पार्श्वगायन किया। रंगमहल थियेटर के साथ ही अनिल विश्वास हिंदुस्तान रिकार्डिंग कंपनी से भी जुड़े। वर्ष 1935 में अपने सपनों को नया रूप देने के लिये वह मुंबई आ गये। वर्ष 1935 में प्रदर्शित फिल्म ..धरम की देवी.. से बतौर संगीत निर्देशक अनिल विश्वास ने अपने सिने करियर की शुरूआत की। साथ ही फिल्म में उन्होंने अभिनय भी किया।

वर्ष 1937 में महबूब खान निर्मित फिल्म ..जागीरदार ..अनिल विश्वास के सिने करियर की अहम फिल्म साबित हुयी जिसकी सफलता के बाद बतौर संगीत निर्देशक वह फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये। वर्ष 1942 में अनिल विश्वास बांबे टॉकीज से जुड़ गये और 2500 रूपये मासिक वेतन पर काम करने लगे। वर्ष 1943 में अनिल विश्वास को बांबे टॉकीज निर्मित फिल्म..किस्मत.. के लिये संगीत देने का मौका मिला। यूं तो फिल्म किस्मत मे

उनके संगीतबद्ध सभी गीत लोकप्रिय हुये लेकिन ..आज हिमालय की चोटी से फिर हमने ललकारा है दूर हटो ए दुनियां वालों हिंदुस्तान हमारा है.. ने आजादी के दीवानो में एक नया जोश भर दिया।

अनिल विश्वास ने अपने गीतों को गुलामी के खिलाफ आवाज बुलंद करने के हथियार के रूप में इस्तेमाल किया और उनके गीतों ने अंग्रेजो के विरूद्ध भारतीयों के संघर्ष को एक नयी दिशा दी। यह गीत इस कदर लोकप्रिय हुआ कि

फिल्म की समाप्ति पर दर्शकों की फरमाइश पर सिनेमा हॉल में इसे दुबारा सुनाया जाने लगा। इसके साथ ही फिल्म ..किस्मत.. ने बॉक्स ऑफिस के सारे रिकार्ड तोड दिये। इस फिल्म ने कलकत्ता (अब कोलकाता) के एक सिनेमा हॉल मे लगातार लगभग चार वर्ष तक चलने का रिकार्ड बनाया।

    वर्ष 1946 में अनिल विश्वास ने बांबे टॉकीज को अलविदा कह दिया और वह स्वतंत्र संगीतकार के तौर पर काम करने लगे। स्वतंत्र संगीतकार के तौर पर अनिल विश्वास को सबसे पहले वर्ष 1947 में प्रदर्शित फिल्म ..भूख ..में संगीत देने का मौका मिला। रंगमहल थियेटर के बैनर तले बनी इस फिल्म में पार्श्वगायिका गीतादत्त की आवाज में संगीतबद्ध अनिल विश्वास का गीत ..आंखों में अश्क लब पे रहे हाय ..काफी लोकप्रिय हुआ।

वर्ष 1947 में ही अनिल विश्वास की एक और सुपरहिट फिल्म प्रदर्शित हुयी थी ..नैय्या .. जोहरा बाई की आवाज में अनिल विश्वास के संगीतबद्ध गीत ..सावन भादो नयन हमारे.आई मिलन की बहार रे ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया।

वर्ष 1948 में प्रदर्शित फिल्म..अनोखा प्यार .अनिल विश्वास के सिने करियर के साथ..साथ व्यक्तिगत जीवन में अहम फिल्म साबित हुयी। फिल्म का संगीत तो हिट हुआ ही साथ ही फिल्म के निर्माण के दौरान उनका झुकाव भी पार्श्वगायिका मीना कपूर की ओर हो गया। बाद में अनिल विश्वास और मीना कपूर ने शादी कर ली।

साठ के दशक में अनिल विश्वास ने फिल्म इंडस्ट्री से लगभग किनारा कर लिया और मुंबई से दिल्ली आ गये। इस बीच उन्होंने सौतेला भाई.छोटी- छोटी बातें जैसी फिल्मों को संगीतबद्ध किया। फिल्म छोटी- छोटी बातें हालांकि बॉक्स ऑफिस पर कामयाब नहीं रही लेकिन इसका संगीत श्रोताओं को पसंद आया। इसके साथ ही फिल्म राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित की गयी। वर्ष 1963 में अनिल विश्वास दिल्ली प्रसार भारती में बतौर निदेशक काम करने लगे और वर्ष 1975 तक काम करते रहे। वर्ष 1986 में संगीत के क्षेत्र में उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। अपने संगीतबद्ध गीतों से लगभग तीन दशक तक श्रोताओं का दिल जीतने वाले इस महान संगीतकार ने 31 मई 2003 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

वार्ता

More News
‘मैं दुनिया भुला दूंगा तेरी चाहत में’

‘मैं दुनिया भुला दूंगा तेरी चाहत में’

21 Sep 2018 | 1:55 PM

मुंबई 21 सितंबर (वार्ता) स्टेज से अपने करियर की शुरुआत करके शोहरत की बुलंदियों तक पहुंचने वाले बॉलीवुड के प्रसिद्ध पार्श्वगायक कुमार शानू आज भी श्रोताओं के बीच राज कर रहे हैं।

 Sharesee more..

21 Sep 2018 | 1:43 PM

 Sharesee more..

21 Sep 2018 | 1:40 PM

 Sharesee more..
‘रुक-रुक-रुक अरे बाबा रुक’ को रिक्रिएट करेंगी काजोल

‘रुक-रुक-रुक अरे बाबा रुक’ को रिक्रिएट करेंगी काजोल

21 Sep 2018 | 1:23 PM

मुंबई 21 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री काजोल अपनी आने वाली फिल्म ‘हेलिकाॅप्टर ईला’ में सुपरहिट गाने ‘रुक-रुक-रुक अरे बाबा रुक’ को रिक्रिएट करेंगी।

 Sharesee more..
सिंगर बनेंगी ऋचा चड्ढा

सिंगर बनेंगी ऋचा चड्ढा

21 Sep 2018 | 1:09 PM

मुंबई 21 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री ऋचा चड्ढा सिंगर बनने जा रही हैं।

 Sharesee more..
image