Sunday, Sep 20 2020 | Time 00:30 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
फीचर्स


चंबल के पानी से चलती है यमुना की सांसे

चंबल के पानी से चलती है यमुना की सांसे

इटावा , 27 मई (वार्ता) उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश की सीमा को जोड़ने वाले दुर्गम बीहडो के बीच से कल कल बहती चंबल नदी का जल देश की सबसे प्रदूषित समझी जाने वाली यमुना नदी को जीवनदान देता है ।


     राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से लेकर उत्तर प्रदेश के इटावा तक सबसे बुरे हालात से गुजर रही यमुना नदी को चंबल नदी का जल एक नई राह दिखाता है । असल मे चंबल नदी इटावा जिले के भरेह मे यमुना नदी मे समाहित हो जाती है जहॉ से यमुना नदी के दशा सुधर जाती है ।

     पर्यावरणीय संस्था सोसायटी फॉर कंजरवेशन ऑफ नेचर के सचिव संजीव चौहान एक अध्ययन का हवाला देते हुए बताते है कि यमुना नदी का सबसे प्रदूषित हिस्सा दिल्ली से उत्तर-प्रदेश के इटावा तक है । अध्ययन रिपोर्ट मे कहा गया है कि पोंटा (हिमाचल प्रदेश) से प्रतापपुर (यूपी) के बीच 12 जगहों से पानी लिया गया। इनमें पोनटा (हिमाचल प्रदेश), कलानौर (हरियाणा), मावी (यूपी), पल्ला (दिल्ली), मोहना (यूपी), मथुरा (यूपी), आगरा (यूपी), इटावा (यूपी) जैसी जगह शामिल हैं।

      यह नमूने लगातार दो साल 2014 और 2015 में लिए गए और वैज्ञानिकों ने उसकी रिपोर्ट तैयार की । इसी रिपोर्ट के आधार पर अब यह दावा किया गया है कि दिल्ली से इटावा के बीच यमुना सबसे अधिक प्रदूषित है । इन सैंपलों को कई मापदंडों पर परखा गया। जिसमें तापमान, पीएच, डिजाल्वड आक्सीजन, बायोलाजिकल आक्सीजन डिमांड, टोटल डिजाल्वड सालिड आदि शामिल हैं । इस जांच के रिजल्ट के बाद इन बिंदुओं पर पानी को इंडियन वाटर क्वालिटी स्टैंटर्ड पर रखा गया।

श्री चौहान ने बताया कि पानी की गुणवत्ता के आधार पर यमुना नदी को चार ग्रुप में बांटा गया है । जिसमें पहला ग्रुप पोनटा, कलानौर, मावी और पल्ला है। इस जगह का पानी पीने के लिए भी उपयुक्त है और खेती और जलीय जीवन के लिए भी । दूसरे ग्रुप में दिल्ली, मोहाना और मथुरा शामिल है। इस हिस्से में कुछ ड्रेन से आर्गेनिक लोड काफी अधिक नदी में मिल रहा है इसलिए इस हिस्से का पानी न तो पीने के और न ही नहाने के लायक है लेकिन यह मछलियों के लिए कुछ हद तक ठीक है।

       अध्ययन के तीसरे ग्रुप में आगरा से इटावा तक के हिस्से को शामिल किया गया है। इस हिस्से का पानी भी पीने लायक नहीं है लेकिन इसे ट्रीट कर पीने के लायक बनाया जा सकता है। इस हिस्से में यमुना के प्रदूषण की वजह घरों और खेती से निकलने वाला प्रदूषण है। जबकि चौथे हिस्से में औरेया, हमीरपुर और प्रतापपुर शामिल हैं। इस हिस्से में नदी अपने सबसे अच्छे रूप में है। यहां नदी के पानी को विभिन्न कामों के लिए प्रयोग किया जा सकता है।

      उन्होने बताया कि अध्ययन मे कहा गया है कि यमुनोत्री ग्लेशियर से निकलने वाली यमुना देश के सात हिस्सों से गुजरती है । यह नदी करीब लाखों लोगों को उनकी जरूरत के लिए पानी देती है। इसके बावजूद इसमें घरों, इंडस्ट्री और खेती से निकलने वाले प्रदूषण डाले जा रहे हैं। जिसकी वजह से इस नदी में प्रदूषण काफी अधिक बढ़ गया है। इस प्रदूषण की वजह से यमुना नदी का पूरा इकोसिस्टम बदल रहा है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव यमुना नदी की बदहाली पर कहते है कि देश की राजधानी दिल्ली के पास यमुना नदी साफ है लेकिन उसके आगे मैली है जिसका कारण सीवेज एवं औद्योगिक अपशिष्टों को नदी में छोड़ा जाना है। उनका कहना है कि इटावा में यदि चंबल का पानी यमुना में न मिले तो यमुना बदहाल नजर आएगी ।

     यमुना नदी के जल को कभी राजतिलक करने के काम में प्रयोग किया जाता था लेकिन आज उसी यमुना नदी के जल को कोई छूना भी पसंद नहीं कर रहा है । वजह साफ है कि यमुना नदी इतनी प्रदूषित हो चुकी है कि वह एक नदी न होकर कचरे का नाला बनकर रह गयी है, धार्मिक नदी का दर्जा पाये यमुना नदी के इस हाल के लिये जिम्मेदार का पता लगाना जरूरी है।

      हिंदु धर्म परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष आंनदेश्वर गिरी लाल बाबा मानते हैं कि यमुना को प्रदूषण मुक्त करने के लिए भी गंगा नदी की तरह देश भर में एक जन-जागरण अभियान शुरू करने की बेहद जरूरत है ।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

22 Apr 2020 | 12:01 AM

लखनऊ 21 अप्रैल (वार्ता) मानव जीवन के इन दिनों दहशत का पर्याय बने नोवल कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिये पूरी दुनिया एकजुट होकर उपाय खोज रही है वहीं लाकडाउन के इस मौके का फायदा उठाते हुये प्रकृति भी अपने बिगड़े स्वरूप को संवारने में व्यस्त है।

see more..
लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

12 Apr 2020 | 2:11 PM

मथुरा, 12 अप्रैल (वार्ता) पतित पावनी श्याम वर्ण यमुना की निर्मलता को वापस लाने के लिए जो काम न्यायपालिका, सरकार और स्वयंसेवी संस्थायें न कर सकी, उस काज को दुनिया के लिये काल बन कर विचरण कर रहे अनचाहे सूक्ष्म विषाणु ‘कोरोना’ के डर ने कर दिखाया है।

see more..
मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

01 Apr 2020 | 4:46 PM

रामपुर 01 अप्रैल (वार्ता) सदियों तक नवाबी सभ्यता के केन्द्र रहे उत्तर प्रदेश के रामपुर में स्थित रजा लाइब्रेरी में संग्रहित पांडुलिपियां मुगलकालीन चित्रकला की अनूठी दास्तां बयां कर रही है वहीं रागमाला पर आधारित अलबम किसी का भी ध्यान बरबस अपनी ओर खींच लेता है।

see more..
हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

21 Mar 2020 | 8:24 PM

हमीरपुर,21 माच्र (वार्ता) पुरातत्व विभाग ने उत्तर प्रदेश में हमीरपुर जिले के तीन ब्लाकों के 32 गांव में सर्वे करने के बाद दस हजार साल पुरानी सभ्यता के कई अवशेष मिलने के बाद 37 गांवों के मिट्टी के टीलाें को खोदने पर रोक लगाने के आदेश दिये है।

see more..
मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

14 Mar 2020 | 11:34 AM

इटावा, 14 मार्च (वार्ता) दलितों की राजनीति की बदौलत देश के लोकप्रिय नेताओं में शुमार रहे बहुजन समाज पार्टी (बसपा) संस्थापक कांशीराम को आज भी समाजवादी पार्टी (सपा) संस्थापक मुलायम सिंह यादव के गृह जिले इटावा में पूरे आदर भाव के साथ याद किया जाता है।

see more..
image