Sunday, Jul 12 2020 | Time 17:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अात्‍मनिर्भर भारत पैकेज के कार्यान्वयन पर वित्त मंत्री की निगरानी
  • गोपालगंज में तालाब में डूबकर किशोर की मौत
  • आंध्र में कोरोना मामले 30000 के करीब, 328 की मौत
  • धारावी में कोरोना को काबू करने में आरएसएस की अहम भूमिका : भाजपा
  • शिव सेना नेता सुधीर सूरी इंदौर से गिरफ्तार
  • जौनपुर में 08 महिलाओं सहित 23 और कोरोना पॉजिटिव,संख्या हुई 724
  • कोरोना के बढ़ते मामलों के लिए लोग जिम्मेदार : नारायणसामी
  • बिहार में कोरोना का महाविस्फोट, सरकार चुनाव कराने में मस्त : दीपंकर
  • संतकबीरनगर में 20 और कोरोना संक्रमित,संख्या हुई 386
  • युवक की हत्या : दलितों ने किया प्रदर्शन, शव उठाने से इंकार
  • अवैध हथियार के साथ दो गिरफ्तार
  • वडोदरा में शराबखोरी करते छह गिरफ्तार
  • जौनपुर में मुख्तार अंसारी के करीबी मछली कारोबारी की पौने चार करोड़ की संपत्ति कुर्क
  • दोराईस्वामी हो सकते हैं बंगलादेश में भारत के उच्चायुक्त
  • चालू वित्त वर्ष में विकास दर रिणात्मक 4 5 प्रतिशत रहेगी: फिक्की सर्वे
खेल


भावनाओं पर नियंत्रण मेरे कूल रहने का राज : धोनी

भावनाओं पर नियंत्रण मेरे कूल रहने का राज : धोनी

नयी दिल्ली, 16 अक्टूबर (वार्ता) भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने बुधवार को कहा कि मैदान में भावनाओं पर नियंत्रण रखना ही उनके कूल रहने का राज है।

धोनी ने यहां कहा, “हर खिलाड़ी की तरह मैं भी उस वक्त निराश और गुस्सा हो जाता हूं जब हालात हमारे अनुकूल नहीं रहते हैं लेकिन तब मैं सिर्फ अपने खेल पर ध्यान देता हूं और नकारत्मक शक्ति से दूर रहता हूं।”

उन्होंने कहा, “क्रिकेट के किसी भी प्रारुप में मैं स्थिति के हिसाब से अपने खेल पर ध्यान देता हूं। टेस्ट क्रिकेट में रणनीति बनाने के लिए आपके पास समय होता है लेकिन वनडे में समय सीमित होता है और यह आपके लिए चुनौतीपूर्ण हो जाता है। ऐसे ही ट्वंटी-20 में हर पल स्थिति बदलती है और आपको कम समय में सोच कर अपनी रणनीति तय करनी होती है इसलिए तीनों प्रारुप अलग-अलग हैं।”

वर्ष 2007 के आईसीसी विश्वकप मुकाबले में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ बॉल आउट को याद करते हुए उन्होंने कहा कि टीम इसके लिए तैयार थी और जो स्टंप्स को ज्यादा हिट कर सकते थे उन्हें गेंदबाजी का मौका मिला। धोनी ने कहा, “हमारे पास इससे पहले तक बॉल आउट का कोई अनुभव नहीं था। हम सिर्फ अभ्यास सत्र में इसका अभ्यास करते थे। हमने निर्णय लिया था कि अगर ऐसी स्थिति बनी तो हम उन खिलाड़ियों से गेंदबाजी कराएंगे जो नेट सत्र के समय स्टंप्स पर ज्यादा गेंद हिट कराते हैं।”

धोनी ने 2007 टी-20 विश्वकप जीतने का श्रेय पूरी टीम को दिया। उन्होंने कहा, “मेरे ख्याल से सिर्फ कुछ खिलाड़ी आपको जीत नहीं दिला सकते और टीम में सभी खिलाड़ियों का योगदान जरुरी होता है और यही कारण है कि हम 2007 में जीत सके।”

शोभित, राज

वार्ता

More News
विंडीज को मिला 200 रन का लक्ष्य

विंडीज को मिला 200 रन का लक्ष्य

12 Jul 2020 | 4:48 PM

साउथम्पटन, 12 जुलाई (वार्ता) इंग्लैंड की टीम वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट मैच के पांचवें और अंतिम दिन रविवार को दूसरी पारी में आठ विकेट पर 284 रन से आगे खेलते हुए 313 रन पर सिमट गयी जिससे विंडीज को मैच जीतने के लिए 200 रन का लक्ष्य मिला है।

see more..
गांगुली को विराट से ऑस्ट्रेलिया दौरे पर है जीत की उम्मीद

गांगुली को विराट से ऑस्ट्रेलिया दौरे पर है जीत की उम्मीद

12 Jul 2020 | 4:18 PM

नयी दिल्ली, 12 जुलाई (वार्ता) भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान कोहली से इस वर्ष के अंत में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली सीरीज में जीत की उम्मीद लगाई है।

see more..
पूर्व भारतीय क्रिकेटर चेतन चौहान को कोरोना

पूर्व भारतीय क्रिकेटर चेतन चौहान को कोरोना

12 Jul 2020 | 3:36 PM

लखनऊ, 12 जुलाई (वार्ता) पूर्व टेस्ट खिलाड़ी और उत्तर प्रदेश के कबीना मंत्री चेतन चौहान शनिवार को कोरोना संक्रमित पाये गये हैं।

see more..
image