Wednesday, Jul 24 2019 | Time 15:13 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भार्गव की चुनौती पर बोले कमलनाथ, विपक्ष करा ले बहुमत परीक्षण
  • चीन में भूस्खलन में 12 लोगों की मौत, 40 लापता
  • एनआईए के अधिकार राज्यों के अधिकार में हस्तक्षेप, बनेगा राजनीतिक हथियार : विपक्ष
  • विधानसभा में किशनगढ़ में धर्मांतरण का मामला उठा
  • न्यूजीलैंड से नहीं होगा दुग्ध उत्पादों का आयात: गिरिराज
  • सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं में कमी: सरकार
  • एशेज़ के लिये कोचिंग टीम से जुड़े ट्रेसकोथिक
  • एशेज़ के लिये कोचिंग टीम से जुड़े ट्रेसकोथिक
  • भाजपा ने सत्ता और धनबल का इस्तेमाल करके कर्नाटक में गिरायी सरकार: मायावती
  • अफगानिस्तान में गोलीबारी में चार पुलिसकर्मियों समेत छह मरे
  • विधानसभा में अध्यक्ष एवं भाजपा सदस्यों में गतिरोध समाप्त
  • भाजपा विधायकों ने की विधानसभा अध्यक्ष के इस्तीफे की मांग
  • दो लाख 95 हजार श्रद्धालुओं ने किये बाबा बर्फानी के दर्शन
  • मार्च 2022 तक भारत - पाकिस्तान सीमा पर बाड़ लग जाएगी: सरकार
  • भाजपा कर्नाटक प्रमुख को केन्द्रीय नेतृत्व के निर्देश का इंतजार
खेल


इंग्लैंड के केन को गोल्डन बूट अवार्ड

इंग्लैंड के केन को गोल्डन बूट अवार्ड

मास्को, 16 जुलाई (वार्ता) इंग्लैंड की टीम फीफा विश्व कप के सेमीफानल में हार गयी लेकिन उसके कप्तान और स्ट्राइकर हैरी केन को टूर्नामेंट में सर्वाधिक छह गोल करने के लिए गोल्डन बूट का अवार्ड मिला।

सेमीफाइनल में पराजित हुए बेल्जियम के गोलकीपर तिबौत कोर्टियस को ‘गोल्डन ग्लव’ का अवार्ड मिला जबकि स्पेन को फीफा फेयर प्ले ट्रॉफी से नवाजा गया। फाइनल में फ्रांस से पराजित हुए क्रोएशिया के कप्तान लुका मोड्रिच को गोल्डन बॉल और फ्रांस के किलियन एमबापे को एमर्जिंग प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट का अवॉर्ड मिला।

‘गोल्डन बूट’ पाने वाले इंग्लिश कप्तान केन ने विश्वकप में सर्वाधिक छह गोल की बदौलत यह अवार्ड अपने नाम किया। उन्होंने दो गोल ट्यूनीशिया के खिलाफ किये थे जिसमें एक इंजरी टाइम में किया गया था जबकि अपने बाकी चार गोल में से तीन उन्होंने पेनल्टी पर दागे।

बेल्जियम गोलकीपर कोर्टियस ने टूर्नामेंट में तीन बार अपनी टीम के खिलाफ विपक्षी टीम को गोल नहीं करने दिया और तीन क्लीनशीट रखे। विश्वकप में इस कामयाबी के बाद उनकी इंग्लिश प्रीमियर क्ल्ब चेल्सी में स्थिति और मजबूत हुई है।

21वें विश्वकप में महान पेले के बाद सबसे युवा विश्वकप गोल स्कोरर बनने वाले विजेता फ्रांस के एमबापे ने टूर्नामेंट में चार गोल किये। पेले ने 1958 में 17 साल 249 दिन की आयु में विश्वकप में गोल किया था और वह आज भी फीफा विश्वकप मेंं गोल करने वाले सबसे युवा स्कोरर हैं जबकि एमबापे उनके बाद दूसरे नंबर पर हैं।

उपविजेता क्रोएशिया के 32 वर्षीय मोडरिच हमेशा अपनी टीम के मिडफील्ड की जान रहे और उन्होंने टीम को पहली बार विश्वकप फाइनल में पहुंचने में अहम भूमिका निभाई। गोल्डन बॉल पाने वाले मोडरिच ने टूर्नामेंट में दो गोल किये। उन्होंने टूर्नामेंट के सात मैचों में 70 किलोमीटर तक मैदान पर दौड़ लगाई जो किसी अन्य खिलाड़ी से सर्वाधिक है।

More News
विंडीज़ दौरे की तैयारी में जुटे धवन

विंडीज़ दौरे की तैयारी में जुटे धवन

24 Jul 2019 | 1:46 PM

नयी दिल्ली, 24 जुलाई (वार्ता) आईसीसी विश्वकप से चोट के कारण बाहर हो गये भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज़ शिखर धवन तीन अगस्त से शुरू होने जा रहे वेस्टइंडीज़ दौरे के लिये तैयारियों में जुट गये हैं।

see more..
अहसान मनी दोबारा बने आईसीसी समिति के अध्यक्ष

अहसान मनी दोबारा बने आईसीसी समिति के अध्यक्ष

24 Jul 2019 | 1:26 PM

दुबई, 24 जुलाई (वार्ता) पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष अहसान मनी को 17 वर्ष बाद एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट समिति की वित्तीय एवं वाणिज्य मामलों की समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

see more..
केशव दत्ता का सम्मान करेगा मोहन बगान

केशव दत्ता का सम्मान करेगा मोहन बगान

23 Jul 2019 | 10:27 PM

कोलकाता, 23 जुलाई (वार्ता) मशहूर फुटबॉल क्लब मोहन बगान पूर्व हॉकी खिलाड़ी एवं दो बार के ओलंपिक स्वर्ण विजेता टीम के सदस्य रहे केशव चंद्र दत्ता को 29 जुलाई को ‘मोहन बगान रत्न’से सम्मानित करेगा।

see more..
जैसन, स्टोन आयरलैंड के खिलाफ करेंगे टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण

जैसन, स्टोन आयरलैंड के खिलाफ करेंगे टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण

23 Jul 2019 | 10:27 PM

लंदन, 23 जुलाई (वार्ता) इंग्लैंड के विस्फोटक सलामी बल्लेबाज जैसन रॉय और तेज गेंदबाज ओली स्टोन आयरलैंड के खिलाफ बुधवार से लार्ड्स मैदान पर शुरू हो रहे टेस्ट मैच के दौरान टेस्ट क्रिकेट में अपना अंतरराष्ट्रीय पर्दापण करेंगे।

see more..
मुझे लगा था कि मैं सीमित ओवरों में नहीं खेल पाऊंगा : प्लंकेट

मुझे लगा था कि मैं सीमित ओवरों में नहीं खेल पाऊंगा : प्लंकेट

23 Jul 2019 | 10:27 PM

लंदन, 23 जुलाई (वार्ता) इंग्लैंड के तेज गेंदबाज लियाम प्लंकेट ने स्वीकार किया है कि एक समय उन्हें लगा था कि वह फिर कभी भी सीमित ओवर में नहीं खेल पाएंगे

see more..
image