Sunday, Jan 19 2020 | Time 05:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • यमन में सेना के बैरक पर मिसाइल हमला, 24 की मौत, 20 घायल
  • लेबनान में पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प, 100 लोग घायल
  • 'फाइव ट्रिलियन डॉलर' का लक्ष्य हासिल करने की दिशा में प्रयास जारी - गडकरी
  • ‘नये परमाणु समझौते के मुद्दे पर वार्ता नहीं करेगा ईरान’
  • सोमालिया में आत्मघाती हमले में चार की मौत 18 घायल
  • इंडोनेशिया में भूकंप के तेज झटके
राज्य » बिहार / झारखण्ड


जीएसटी के फर्जी निबंधन वालों के परिसर का होगा निरीक्षण : सुशील

पटना 19 नवंबर (वार्ता) बिहार के उप मुख्यमंत्री सह वित्तमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आज चेतावनी देते हुए कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) का फर्जी निबंधन करने वालों के परिसर का निरीक्षण किया जाएगा।
श्री मोदी ने यहां वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश के 50 वाणिज्यकर अंचलों के 700 से अधिक करदाता कारोबारियों, कर सलाहकारों एवं अंकेक्षकों से जीएसटी से जुड़ी समस्याओं और सुझाव पर चर्चा करने के बाद बिना किसी कारोबार के जीएसटी का फर्जी निबंधन कराने वालों को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार एक अभियान चला कर वैसे लोगों के परिसर का निरीक्षण करेगी, जिन्होंने नया निबंधन तो करा लिया है लेकिन वास्तव में कोई कारोबार नहीं करते हैं।
उप मुख्यमंत्री ने बताया कि अभी तक 98 ऐसे करदाता पाए गए हैं, जिनका कोई अस्तित्व नहीं है। ऐसे लोग कागज पर ही 1921 करोड़ रुपए से अधिक का माल मंगा कर 419 करोड़ रुपए की करवंचना की है। सात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई हैं, जिनमें फर्जी कारोबारियों के साथ सीए भी शामिल हैं। इसके साथ ही छह माह तक लगातार विवरणी दाखिल नहीं करने वाले 7368 कारोबारियों के निबंधन को रद्द किया गया है।
श्री मोदी ने बताया कि बिहार में वित्त वर्ष 2018-19 की तुलना में चालू वित्त वर्ष के आठ महीने में जीएसटी संग्रह में 6.73 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। इस वित्तीय वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर 91748 करोड़ रुपए रिपीट 91748 करोड़ रुपए की उपभोक्ता सामग्री बिहार में बिकने के लिए मंगाए गए जो पिछले साल की इसी अवधि से तीन प्रतिशत अधिक है। इनमें सर्वाधिक 8242 करोड़ रुपए का लौह एवं इस्पात, 3475 करोड़ रुपए के मोबाइल फोन, 3409 करोड़ रुपए के दुपहिया एवं तिपहिया वाहन तथा 3325 करोड़ रुपए के सीमेंट शामिल हैं।
उप मुख्यमंत्री ने बताया कि 20 लाख रुपए की जगह अब सालाना 40 लाख रुपए तक टर्नओवर वाले कारोबारियों के लिए निबंधन की अनिवार्यता नहीं होगी जबकि 20 लाख रुपए तक टर्नओवर वाले सेवा प्रदाताओं को निबंधन कराना होगा। कम्पोजिशन स्कीम में शामिल कारोबारियों के लिए टर्नओवर की सीमा एक करोड़ रुपए से बढ़ाकर डेढ़ करोड़ रुपए कर दी गई है, जिन्हें मामूली हिसाब-किताब रख कर नाममात्र का निश्चित कर देना होता है।
सूरज
जारी (वार्ता)
More News
ज़ी ने लांच किया भोजपुरी मूवी चैनल ज़ी बाइस्कोप

ज़ी ने लांच किया भोजपुरी मूवी चैनल ज़ी बाइस्कोप

18 Jan 2020 | 8:45 PM

पटना 18 जनवरी (वार्ता) मनोरंजन चैनल ज़ी एंटरटेनमेंट ने अपने भोजपुरी दर्शकों के लिये जी बाइस्कोप चैनल लांच किया है।

see more..
गरीबों के लिए समर्पित है झारखंड सरकार : हेमंत

गरीबों के लिए समर्पित है झारखंड सरकार : हेमंत

18 Jan 2020 | 7:50 PM

रांची 18 जनवरी (वार्ता) झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज कहा कि उनकी सरकार गरीब-गुरबा के हित के लिए पूरी तरह समर्पित है और उनके लिए पूरी प्रतिबद्धता के साथ काम करेगी।

see more..
झारखंड में 139 कैदी होंगे रिहा

झारखंड में 139 कैदी होंगे रिहा

18 Jan 2020 | 7:44 PM

रांची 18 जनवरी (वार्ता) झारखंड सरकार ने राज्य की सात अलग-अलग जेलों में आजीवन कारावास की सजा काट चुके 139 कैदियों को रिहा करने की आज घोषणा की।

see more..
image