Monday, Feb 18 2019 | Time 14:06 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • संस्कृति तोड़ती नहीं बल्कि जोड़ती है और सद्भाव पैदा करती है: कोविंद
  • मैं दुनिया का महानतम क्रिकेटर : गेल
  • ब्याज दर में कटौती का लाभ ग्राहकों को देने के लिए बैंकों से कहेगा आरबीआई
  • मेडिकल फेयर इंडिया 21 फरवरी से राजधानी में
  • ब्याज दर में कटौती का लाभ ग्राहकों को देने के लिए बैंकों से कहेगा आरबीआई
  • ट्रंप ने एफबीआई के बजाय पुतिन पर किया भरोसा एंड्रयू
  • पाकिस्तान में रिलीज नहीं होगी ‘टोटल धमाल’
  • विदेशी डाक्टरों ने एम्स में मुर्दों के घुटने बदलने का लिया प्रशिक्षण
  • प्रमुुख मुद्राओं में तेजी
  • मध्यप्रदेश में दो महीने में 12 हजार से भी ज्यादा विभिन्न प्रकार के अपराध
  • सऊदी शहजादे का पाकिस्तान के 2107 कैदियों को रिहा करने का आदेश
  • चेन्नई सर्राफा के शुरुआती भाव
  • चेन्नई तिलहन के भाव
  • पाकिस्तान ने भारत स्थित उच्चायुक्त को बातचीत के लिए बुलाया
भारत Share

गिरफ्तार मानवाधिकार कार्यकर्ता हिंसा की योजना में शामिल: महाराष्ट्र पुलिस

नयी दिल्ली 05 सितम्बर (वार्ता) महाराष्ट्र पुलिस ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय को बताया कि भीमा कोरेगांव मामले में 28 अगस्त को गिरफ्तार पांचों मानवाधिकार कार्यकर्ता बड़े पैमाने पर हिंसा की योजना बनाने में शामिल थे।
महाराष्ट्र पुलिस ने शीर्ष अदालत के नोटिस के जवाब में दायर हलफनामे में यह आरोप लगाये हैं।
इतिहासकार रोमिला थापर सहित पांच लोगों ने शीर्ष अदालत में जनहित याचिका दायर करके इन आरोपियों -प्रोफेसर सुधा भारद्वाज, वामपंथी विचारक वरवर राव, वकील अरुण फरेरा, मानवाधिकार कार्यकर्ता गौतम नवलखा और वेरनन गोंजाल्विस की गिरफ्तारियों को चुनौती दी है।
पुलिस ने अपने हलफनामे में कहा कि यह याचिका सुनवाई योग्य नहीं है, क्योंकि खुद आरोपियों के याचिका दायर करने के बजाय अन्य लोगों ने न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। ऐसी स्थिति में शीर्ष अदालत को इस मामले में सुनवाई नहीं करनी चाहिए।
महाराष्ट्र पुलिस के एक अधिकारी की ओर से दाखिल हलफनामे में कहा गया है कि पांचों गिरफ्तार आरोपी समाज में अफरातफरी मचाने के प्रयास में थे। वे हिंसा फैलाने के नापाक इरादों का हिस्सा हैं।
पुलिस ने कहा है कि इन पांचों के खिलाफ भरोसेमंद सबूत मिले हैं, तभी इनकी गिरफ्तारी की गई है। इन्हें सरकार से मतभेद या असहमति जताने पर गिरफ्तार नहीं किया गया है।
पुलिस का कहना है कि वह इन आरोपियों को रिमांड पर लेकर पूछताछ करना चाहती है। उल्लेखनीय है कि गत 29 अगस्त को शीर्ष अदालत ने गिरफ्तार पांचों मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को नजरबंद करने का आदेश दिया था।
सुरेश, यामिनी
वार्ता
More News
पाकिस्तान ने भारत स्थित उच्चायुक्त को बातचीत के लिए बुलाया

पाकिस्तान ने भारत स्थित उच्चायुक्त को बातचीत के लिए बुलाया

18 Feb 2019 | 1:48 PM

नयी दिल्ली, 18 फरवरी(वार्ता) जम्मू कश्मीर में पुलवामा हमले के बाद की स्थिति पर विचार-विमर्श करने के लिए पाकिस्तान ने सोमवार को भारत में अपने उच्चायुक्त को बुलाया है।

 Sharesee more..

पाकिस्तान में रिलीज नहीं होगी ‘टोटल धमाल’

18 Feb 2019 | 1:35 PM

 Sharesee more..
युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं की हत्या पर राहुल ने जताया शोक

युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं की हत्या पर राहुल ने जताया शोक

18 Feb 2019 | 1:22 PM

नयी दिल्ली, 18 फरवरी (वार्ता) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केरल में युवा कांग्रेस के दो कार्यकर्ताओं की हत्या पर शोक जताते हुए कहा कि जब तक हत्यारों को कानूनी के शिकंजे में नहीं लाया जायेगा पार्टी चैन से नहीं बैठेगी।

 Sharesee more..
पटेल के मूर्तिकार रामसुतार समेत तीन को मिला टैगोर अवार्ड

पटेल के मूर्तिकार रामसुतार समेत तीन को मिला टैगोर अवार्ड

18 Feb 2019 | 1:03 PM

नयी दिल्ली, 18 फरवरी (वार्ता) राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सोमवार को यहां गुजरात में सरदार पटेल की प्रतिमा बनाने वाले पद्मभूषण से सम्मानित वयोवृद्ध मूर्तिकार राम सुतार, मणिपुरी नृत्य के गुरु राजकुमार सिंघनजीत सिंह और बंगलादेश की प्रसिद्ध सांस्कृतिक संस्था छायानट को कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए टैगोर अवार्ड से सम्मानित किया।

 Sharesee more..
image