Monday, Jun 17 2019 | Time 10:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गुटेरेस ने की केन्या,सोमालिया आतंकी हमलों की निंदा
  • फिल्म जगत की ब्यूटी क्वीन थीं नसीम बानो
  • दक्षिण एशिया में नये आतंकवाद का खतरा : नेपाल
  • ट्रंप ने बस्ती का नाम अपने नाम पर रखने पर नेतन्याहू को दिया धन्यवाद
  • वेनेजुएला में सड़क हादसे में 16 लोगों की मौत
  • हाउती विद्रोहियों का सऊदी हवाई अड्डे पर फिर हमला
  • जापान में 5 2 तीव्रता वाले भूकंप के झटके
  • बागपत पंचायत में फायरिंग,एक की मृत्यु ,तीन घायल
  • बलरामपुर में ट्रैक्टर-ट्राली पलटने से चार लोगों की मृत्यु,19 घायल
  • इजरायल ने गोलन पहाड़ी क्षेत्र में ट्रम्प के नाम पर बस्ती का किया शिलान्यास
  • सीरिया के अलेप्पो प्रांत में आतंकवादी हमले में 12 लोगों की मौत
  • सीरिया के अलेप्पो प्रांत में आतंकवादी हमले में 10 लोगों की मौत
  • तेल टैंकरों पर हमले के लिए ईरान जिम्मेदार: मोहम्मद बिन सलमान
  • रूस में सड़क दुर्घटना में एक की मौत, सात घायल
  • सूडान की सेना ‘टेक्नोक्रेटिक सरकार’ को ही सत्ता की बागडोर सौंपेगी
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


नकली आयकर महकमा संचालित करने के आरोप में पांच गिरफ्तार

इंदौर, 23 अप्रैल (वार्ता) मध्यप्रदेश के इंदौर शहर की अपराध शाखा पुलिस ने एक फिल्मी तर्ज पर नकली आयकर महकमा तैयार कर अपराध करने की फिराक में जुटे पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) रुचि वर्धन मिश्र ने आज बताया कि राजेंद्र नगर थाना क्षेत्र स्थित सिलिकोन सिटी में आयकर विभाग का एक नकली कार्यालय संचालित किये जाने की शिकायत मिली थी। शिकायत अनुसार कुछ जालसाज आयकर विभाग में न केवल नौकरी बल्कि छापेमारी का प्रशिक्षण देने के नाम पर नवयुवकों से मोटी रकम एेंठ रहे हैं। पुलिस ने यहां दबिश देकर पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।
श्रीमती मिश्र के अनुसार पुलिस गिरफ्त में आये आरोपियों की पहचान धार निवासी देवेंद्र डाबर (29) और इंदौर के रहने वाले सुनील मंडलोई, रवि सोलंकी, दुर्गेश गहलोत और सतीश गावड के रूप में सामने हुई है। पुलिस का दावा है कि स्पेशल 26 फिल्म की तर्ज पर आरोपियों ने इंदौर के 30 से ज्यादा व्यवसायियों को आयकर छापे की आड़ में ठगने की योजना बनायी थी।
एसएपी के अनुसार प्रारम्भिक जांच में आरोपियों के द्वारा नवयुवकों को फर्जी नियुक्ति पत्र देकर ठगना, आयकर विभाग के प्रतीकों (सील-सिक्के, नेम प्लेट, वर्दी और अन्य) को तैयार कर उनका दुरुपयोग करना, अवैध रूप से शासकीय महकमा संचालित करने के समर्थन में साक्ष्य मिले हैं। पुलिस का दावा है कि आरोपियों ने 60 से अधिक लड़कों से नौकरी दिलाने के नाम पर 30 लाख रुपये से अधिक की ठगी की है।
सं बघेल
वार्ता
image