Tuesday, Aug 20 2019 | Time 21:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उप्र में पर्यटन की 66 योजनाओं के लिए 398 49 करोड़ स्वीकृत
  • किसानों को नई सट्टा नीति के तहत गन्ने की पर्चियां होंगी जारी:चौहान
  • उत्तराखंड में भारी बारिश और बाढ़ से अब तक 59 लोगों की मौत
  • रामबिलास शर्मा ने केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री से बातचीत की
  • ई-वीजा शुल्क को बनाया गया आकर्षक-पटेल
  • चिदम्बरम के घर से बैरंग लौटी सीबीआई और ईडी की टीम
  • सहारनपुर पत्रकार हत्याकाण्ड के मुख्य आरोपी समेत तीन गिरफ्तार
  • जम्मू-कश्मीर के लोगों को विश्वास में लिए बिना अनुच्छेद 370 हटाया गया: मुकुल संगमा
  • भारत के बारे में पर्यटकों की राय पता लगाने का निर्देश
  • वन महोत्सव के तहत कोविंद ने किया पौधारोपण
  • आजाद को जम्मू हवाई अड्डे से वापस किया गया
  • मजदूरी मांगने पर मजदूर की गोली मारकर हत्या
  • दिल्ली में बाढ़ का खतरा बढ़ा
  • डायमंड ब्लाक से निकले हीरों का अवलोकन करने पहुंची छह कंपनियां
  • राखी गढ़ी के बारे में हरियाणा सरकार के प्रस्ताव को केन्द्र की सहमति
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


नकली आयकर महकमा संचालित करने के आरोप में पांच गिरफ्तार

इंदौर, 23 अप्रैल (वार्ता) मध्यप्रदेश के इंदौर शहर की अपराध शाखा पुलिस ने एक फिल्मी तर्ज पर नकली आयकर महकमा तैयार कर अपराध करने की फिराक में जुटे पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) रुचि वर्धन मिश्र ने आज बताया कि राजेंद्र नगर थाना क्षेत्र स्थित सिलिकोन सिटी में आयकर विभाग का एक नकली कार्यालय संचालित किये जाने की शिकायत मिली थी। शिकायत अनुसार कुछ जालसाज आयकर विभाग में न केवल नौकरी बल्कि छापेमारी का प्रशिक्षण देने के नाम पर नवयुवकों से मोटी रकम एेंठ रहे हैं। पुलिस ने यहां दबिश देकर पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।
श्रीमती मिश्र के अनुसार पुलिस गिरफ्त में आये आरोपियों की पहचान धार निवासी देवेंद्र डाबर (29) और इंदौर के रहने वाले सुनील मंडलोई, रवि सोलंकी, दुर्गेश गहलोत और सतीश गावड के रूप में सामने हुई है। पुलिस का दावा है कि स्पेशल 26 फिल्म की तर्ज पर आरोपियों ने इंदौर के 30 से ज्यादा व्यवसायियों को आयकर छापे की आड़ में ठगने की योजना बनायी थी।
एसएपी के अनुसार प्रारम्भिक जांच में आरोपियों के द्वारा नवयुवकों को फर्जी नियुक्ति पत्र देकर ठगना, आयकर विभाग के प्रतीकों (सील-सिक्के, नेम प्लेट, वर्दी और अन्य) को तैयार कर उनका दुरुपयोग करना, अवैध रूप से शासकीय महकमा संचालित करने के समर्थन में साक्ष्य मिले हैं। पुलिस का दावा है कि आरोपियों ने 60 से अधिक लड़कों से नौकरी दिलाने के नाम पर 30 लाख रुपये से अधिक की ठगी की है।
सं बघेल
वार्ता
image