Monday, Jul 22 2024 | Time 09:53 Hrs(IST)
image
राज्य » राजस्थान


मोटा अनाज उत्पादन तकनीकी विषय पर कृषक प्रशिक्षण का आयोजन

भीलवाड़ा 18 मई (वार्ता) राजस्थान के भीलवाड़ा कृषि विज्ञान केन्द्र, में गुरूवार को मोटा अनाज उत्पादन तकनीकी विषय पर एक दिवसीय कृषक प्रशिक्षण का आयोजन किया गया।
केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉ. सी.एम. यादव ने मोटे अनाज को सुपर फूड बताते हुए ज्वार, बाजरा, रागी, सावां, कंगनी, चीना, कोदो, कुटकी एवं कुट्टु उत्पादन की तकनीकी जानकारी देते हुए मोटा अनाज उत्पादन द्वारा आमदनी बढ़ाने की आवश्यकता प्रतिपादित की। संयुक्त राष्ट्र संघ ने वर्ष 2023 को अंतरराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष घोषित किया है।
प्रोफेसर शस्य विज्ञान डॉ. के.सी. नागर, ने बताया कि मोटे अनाज में पोषक तत्त्व अधिक मात्रा में होते है तथा मोटे अनाज के उत्पादन में कम पानी की आवश्यकता होती है। डॉ. नागर ने मोटे अनाज के उत्पादन हेतु उन्नत शस्य क्रियाएँ, खरपतवार प्रबन्धन, निराई-गुड़ाई, प्रमुख रोग एवं रोकथाम के साथ ही मोटे अनाज के सुरक्षित भण्ड़ार हेतु टिप्स दिए।
माली रामसिंह
वार्ता
image