Thursday, Jun 20 2019 | Time 23:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रूपाणी ने खनन सेक्टर को उद्योग का दर्जा देने की घोषणा की
  • कैलाश मानसरोवर यात्रा का पहला दल पहुंचा चीन
  • प्रधानमंत्री मोदी कल 40 हजार लोगों के साथ करेंगे योग
  • हिमाचल में बस खाई में गिरी, 32 लोगों की मौत और 33 घायल
  • हिमाचल में बस खाई में गिरी, 30 लोगों की मौत और 33 घायल
  • म्यांमार के चुनाव अधिकारियों को चुनाव प्रबंधन के गुर सिखाए गए
  • हत्या करने वाले गिरोह का इनामी बदमाश गिरफ्तार
  • अमरनाथ यात्रा के इंतजामों की समीक्षा के लिए उच्च स्तरीय बैठक
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • मुरादाबाद में दबंगों की युवती के पिता की हत्या,चार गिरफ्तार
  • परामर्श
  • प्रधानमंत्री चमकी बुखार का जायजा लेने बिहार आयें : डॉ ठाकुर
  • प्रधानमंत्री चमकी बुखार का जायजा लेने बिहार आयें-डॉ ठाकुर
  • कुल्लू बस दुर्घटना पर राष्ट्रपति ने गहरा दुख जताया
  • लू प्रभावित मरीजों को उपलब्ध कराई जाएगी चिकित्सा सुविधा : नीतीश
खेल


पिछले लगभग एक वर्ष से अधिक समय से सीमित ओवरों की टीम से बाहर चल रहे अश्विन और जडेजा दोनों के लिये यह टेस्ट सीरीज़ करो या मरो का मुकाबला है। यदि दोनों इस सीरीज़ में शानदार प्रदर्शन करते हैं और भारत को सीरीज़ जीत दिलाने में योगदान देते हैं तो उनके लिये 2019 में इंग्लैंड में ही होने वाले एकदिवसीय विश्वकप के लिये भारतीय टीम में वापसी का रास्ता खुल सकता है।
अश्विन 58 टेस्टों में 316 विकेट ले चुके हैं और वह सबसे तेज़ 300 विकेट पूरे करने वाले गेंदबाज है। उन्होंने 26 बार एक पारी में पांच विकेट और सात बार एक टेस्ट में 10 विकेट लिये हैं। बल्ले से भी अश्विन निचले क्रम में उपयोगी रहे हैं और अब तक 2163 रन बना चुके हैं।
भारत के सबसे कामयाब लेफ्ट आर्म स्पिनर जडेजा ने भी 36 टेस्टों में 171 विकेट लिये हैं और उनके खाते में 1196 रन भी हैं। जडेजा ने एक पारी में पांच विकेट नौ बार और एक टेस्ट में 10 विकेट एक बार लिये हैं। अश्विन ने अफगानिस्तान के खिलाफ जून में खेले गये एकमात्र टेस्ट में कुल पांच विकेट और जडेजा ने छह विकेट हासिल किये हैं। फिलहाल दोनों गेंदबाज़ भारतीय स्पिन आक्रमण की धुरी हैं लेकिन जिस तरह कुलदीप को लेकर चर्चा चल रही है उससे इन दोनों गेंदबाजों को भी खुद को साबित करने की नौबत आ गयी है।
भारत ने इंग्लैंड में अपनी पहली टेस्ट सीरीज़ 1971 में जीती थी और इस इतिहास को कपिल देव ने 1986 में तथा राहुल द्रविड़ ने 2007 में दोहराया था। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में शुमार विराट के पास 11 साल बाद यह इतिहास दोहराने का मौका है।
अजीत वाडेकर की कप्तानी में जब भारत ने 1971 में टेस्ट सीरीज़ जीती थी तब भागवत चंद्रशेखर, एस वेंकटराघवन और बिशन सिंह बेदी की स्पिन तिकड़ी ने सीरीज़ में कुल 37 विकेट लेकर भारत को जीत दिलाई थी। चंद्रशेखर ने 13, वेंकटराघवन ने 13 और बेदी ने 11 विकेट हासिल किये थे।
राज प्रीति
जारी वार्ता
More News
डब्ल्यूडब्ल्यूई के हेमैन ने बाॅलीवुड के रणवीर को दी सीख

डब्ल्यूडब्ल्यूई के हेमैन ने बाॅलीवुड के रणवीर को दी सीख

20 Jun 2019 | 10:00 PM

मुंबई, 20 जून (वार्ता) क्रिकेट विश्वकप का बुखार पूरे देश को अपनी गिरफ्त में ले चुका है और ऐसे में इसे देखकर कोई हैरानी नहीं होती कि देश के कई दिग्गज नाम इस गेम से जुड़ चुके हैं।

see more..
यश ने अंडर-14 क्रिकेट में बनाए नाबाद 240

यश ने अंडर-14 क्रिकेट में बनाए नाबाद 240

20 Jun 2019 | 10:00 PM

नयी दिल्ली, 20 जून (वार्ता) प्रतिभाशाली बल्लेबाज यश भाटिया ने सातवें एस अंडर-14 क्रिकेट टूर्नामेंट में जबरदस्त बल्लेबाजी करते हुए मात्र 80 गेंदों पर नाबाद 240 रन ठोक डाले।

see more..
जू. एशियाई बैडमिंटन में हिस्सा लेगी 23 सदस्यीय  भारतीय टीम

जू. एशियाई बैडमिंटन में हिस्सा लेगी 23 सदस्यीय भारतीय टीम

20 Jun 2019 | 10:00 PM

नयी दिल्ली, 20 जून (वार्ता) भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) ने 20 से 28 जुलाई तक चीन के सुझोउ में होने वाली जूनियर एशियाई बैडमिंटन चैम्पियनशिप के लिए गुरुवार को 23 सदस्यीय टीम की घोषणा कर दी।

see more..
आईओसी ने भारत पर लगा प्रतिबंध हटाया

आईओसी ने भारत पर लगा प्रतिबंध हटाया

20 Jun 2019 | 10:00 PM

नयी दिल्ली, 20 जून (वार्ता) अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) ने भारत में अंतर्राष्ट्रीय खेल आयोजनों की मेजबानी को लेकर लगाया गया प्रतिबंध गुरुवार को तत्काल प्रभाव से हटा लिया है।

see more..
image