Saturday, Nov 17 2018 | Time 11:53 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दिल्ली से खाली हाथ लौटे उपेंद्र, फिर नहीं हुई शाह से मुलाकात
  • जम्मू-कश्मीर में पंचायत चुनाव के पहले चरण का मतदान शुरू में धीमा रहा
  • प्रधानमंत्री मालदीव के राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेंगे
  • भंवरी हत्याकांड में जेल में बंद नेताओं के बच्चों को टिकट
  • उत्तरी कैलिफोर्निया में आग से मरने वालों की संख्या 71 हुई
  • कारगिल के वीरों की गाथाअों ने दी देशसेवा की प्रेरणा
  • कश्मीर में ट्रेन सेवा स्थगित
  • केरल के मुख्यमंत्री ने माणिक सरकार के काफिले पर हमले की निंदा की
  • केरल में एक दिन की हड़ताल शुरू
  • सऊदी दूतावास ने खशोगी मामले में अमेरिकी दावे को गलत बताया
  • सऊदी के क्राउन प्रिंस ने पत्रकार खशोगी की हत्या के आदेश दिए: सीआईए
  • नाइजीरिया में आग लगने से चार बच्चों सहित पांच की मौत
  • सीरिया में 30 बच्चों की मौत पर संरा ने शोक व्यक्त किया
  • तुर्की में आतंकवादी हमला मामले में छह को उम्रकैद
  • आज का इतिहास(प्रकाशनार्थ 18 नवंबर)
राज्य Share

राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने 32 श्रेष्ठ शिक्षकों को किया सम्मानित

गांधीनगर, 05 सितंबर (वार्ता) गुजरात के राज्यपाल ओमप्रकाश कोहली और मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने आज शिक्षक दिवस के मौके पर यहां आयोजित समारोह में राज्य के 32 शिक्षकों को श्रेष्ठता पुरस्कार देकर सम्मानित किया।
श्री कोहली ने इस मौके पर कहा कि विद्यार्थियों में अक्षरज्ञान के साथ ही व्यक्तित्व निर्माण की शिक्षा के लिए गुरु- शिक्षक की विशेष जिम्मेदारी है। इसके लिए शिक्षकों को स्वयं तैयार होना, आज के समय की जरूरत है।
श्री रूपाणी ने शिक्षक समुदाय का आह्वान करते हुए कहा कि चुनौतियों और सम्भावनाओं के बीच समन्वय स्थापित कर सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों को प्रोत्साहन देकर मनचाहे परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं।
राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने इस समारोह में 32 श्रेष्ठ शिक्षकों को शॉल, प्रशस्तिपत्र और नकद पुरस्कार प्रदान कर उन्हें सम्मानित किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने स्कूली शिक्षा के लिए 27 हजार करोड़ का बड़ा बजट आवंटित किया है। वर्ष 1995-1996 तक मात्र 42 हजार प्राथमिक स्कूल थे जो आज बढ़कर 60,000 हो गये हैं। साथ ही, विद्यार्थियों की संख्या लगभग 1 करोड़ हो गई है। साक्षरता दर में 9 प्रतिशत की वृद्धि 10 वर्ष में हुई है।
इस अवसर पर शिक्षा मंत्री भूपेन्द्र चूडास्मा, शिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती विभावरीबेन दवे, शिक्षा विभाग की प्रधान सचिव
श्रीमती अंजु शर्मा,सर्वशिक्षा अभियान की राज्य परियोजना निदेशक श्रीमती पी भारती भी उपस्थित थे।
रजनीश
वार्ता
image