Thursday, Nov 15 2018 | Time 17:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • श्रीलंकाई महिलाओं ने बंगलादेश को हराया
  • माफी नहीं मांगने पर सूचना मंत्री फवाद चौधरी के संसद सत्र में भाग लेने पर रोक
  • 1984 दंगे: दो दोषियों की सजा पर फैसला 20 नवम्बर को
  • देश के विकास में झारखंड की महत्वपूर्ण भूमिका : द्रौपदी
  • सुभाष देखमुख ने किया मार्कफेड के आउटलेट का दौरा
  • पंजाब की चीनी मिलों में लगाए जाएंगे इथनोल और बिजली सयंत्र: रंधावा
  • विंडीज़ महिलाएं 31 रन से जीतीं
  • बेंगलुरू उड़ान के साथ प्रयागराज छह शहरों से सीधा जुडा:नंदी
  • द्रौपदी और रघुवर ने धरती आबा भगवान बिरसा को दी श्रद्धांजलि
  • कुपवाड़ा में नियंत्रण रेखा के पास सुरक्षा बलों का तलाश अभियान
  • सिंगापुर में हुई मोदी-पुतिन की संक्षिप्त वार्ता
  • 218 रन की जीत के साथ बंगलादेश ने ड्रॉ कराई सीरीज़
  • ब्रेक्सिट मसौदा समझौते को लेकर ब्रिटेन के मंत्री का इस्तीफा
  • गांधीजी, पटेल, सावरकर, आंबेडकर को इरादतन भुलाने के प्रयास नहीं होंगे सफल - मुख्यमंत्री
  • डूसू अध्यक्ष अंकिव बसोया एबीवीपी से निष्कासित, अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की हिदायत
राज्य Share

एके-47 बेचने के मामले में सीओडी के सिविलियन अधिकारी सहित सेवानिवृत्त आर्मर व बेटा गिरफ्तार

जबलपुर, 06 सितंबर (वार्ता) गलाने के लिए आई खराब एके-47 राइफल को ठीक कर बेच देने के सनसनीखेज मामले में मध्यप्रदेश के जबलपुर की पुलिस ने सेन्ट्रल आर्डिनेंस डिपो (सीओडी) में सिविलयन अधिकारी, सेवानिवृत्त आर्मर और आर्मर के बेटे को गिरफ्तार कर लिया है। आर्मर की पत्नी भी इस गिरोह में शामिल थी, वह फिलहाल फरार है।
पुलिस अधीक्षक (एसपी) अमित सिंह ने आज यहां बताया कि बिहार की मुंगेर पुलिस ने मिर्जापुर बरहद निवासी मोहम्मद इमरान आलम को तीन एके-47 राइफल, मैगजीन, पिस्टल सहित गिरफ्तार किया था। पूछताछ के दौरान इमरान ने बताया कि वह जबलपुर निवासी सेवानिवृत्त आर्मर से एके-47 राइफल पांच लाख रुपए में खरीदता था। मुंगेर पुलिस से मिली सूचना के आधार पर जबलपुर पुलिस सक्रिय हुई थी। जबलपुर पुलिस का एक दल इमरान से पूछताछ के लिए मुंगेर गया था।
श्री सिंह ने बताया कि इमरान से मिली जानकारी के बाद पुलिस ने सीओडी से सेवानिवृत्त आर्मर पुरुषोत्तम लाल को उसके रीवा स्थित पैतृक गांव से नोटिस देकर पूछताछ के लिए बुलाया था। वह वर्ष 2008 में सेवानिवृत्त हुआ था और शहर के गोरखपुर क्षेत्र के पंचशील कॉलोनी में मकान बनाकर अपने परिवार के साथ रहता था। दिखाने के लिए वह एक किराना दुकान संचालित करता था।
पुलिस ने पुरुषोत्तम से पूछताछ की तो उसने सनसनीखेज खुलासा करते हुए बताया कि सीओडी में सिविलियन अधिकारी सुरेश ठाकुर उसे डिपो में गलाने के लिए लाई गई खराब एके-47 राइफल लाकर देता था। राइफल चैक कर वह बता देता था कि उसका कौन का पार्ट खराब है। इसके बाद सुरेश वह पार्ट लाकर देता था और राइफल सुधारकर इमरान आलम और उसके साथी शमशेर को बेचता था। यह दोनों उसके साथ लखनऊ में पदस्थ आर्मर नियाजुल हसन के रिश्तेदार हैं। सेवानिवृत्त होने के बाद हसन मुंगेर में रहने लगा था। उसके माध्यम से ही डील होती थी।
पुरुषोत्तम ने बताया कि वह सुरेश ठाकुर को प्रति राइफल एक लाख रुपये देता था और पांच लाख रुपए में उसकी बिक्री करता था।
श्री सिंह ने बताया कि आरोपी सुरेश और पुरुषोत्तम के अनुसार वे 70 से अधिक एके-47 राइफल बेच चुके हैं। हथियारों की डील लेकर पुरुषोत्तम और उसकी पत्नी चंद्रवती बिहार जाते थे। दोनों का रिजर्वेशन ई-टिकट के माध्यम से उसका बेटा शीलेन्द्र कराता था। दोनों एसी-2 श्रेणी में यात्रा करते थे और कटनी स्टेशन से ट्रेन में सवार होते थे। जबलपुर रेलवे स्टेशन में मैटल डिटेक्टर होने के कारण वह यहां से ट्रेन में नहीं बैठते थे।
एसपी ने बताया कि पुरुषोत्तम और चंद्रवती 29 अगस्त को नौ राइफल लेकर बिहार के जमालपुर गए थे। लौटते समय रास्ते में उन्हें एके-47 के पकड़े जाने की जानकारी मिली, तो उन्होंने अपने बेटे से घर में रखे पैसे और अन्य साक्ष्य हटाने के लिए कहा था। जबलपुर पहुंचने के बाद 1 सितंबर को पुरुषोत्तम ने अपने परिजन के साथ जाकर एके-47 के कलपुर्जे गौर नदी में फेंक दिए थे।
सुरेश ठाकुर ने बताया कि वह 16 अगस्त को हैण्डग्रिप निकालते समय डिपो में पकड़ा गया था। इस संबंध में उसके खिलाफ जांच जारी है।
श्री सिंह ने बताया ने कहा कि आरोपियों ने देशद्रोहियों को एके-47 राइफल की सप्लाई की है। पुलिस ने गिरफ्तार सुरेश के पास से लक्जरी कार तथा छह लाख रुपये नगद, पुरुषोत्तम के पास से दो कार, पांच लाख रुपये नगद और महंगी शराब की 14 बोतल बरामद की हैं। शीलेन्द्र के पास से 78 हजार रुपये नगद बरामद हुए हैं। इसके अलावा राइफल सुधारने के उपकरण और पार्ट बरामद किए गए हैं। पुरुषोत्तम की पत्नी फरार है, जिसकी तलाश जारी है।
पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ देशद्रोह की विभिन्न धाराओं के साथ आर्म्स व आबकारी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया है। न्यायालय से तीनों आरोपियों का आठ दिन का रिमांड प्राप्त हुआ है।
श्री सिंह ने बताया कि पुलिस सेना के संपर्क में है और देश की सुरक्षा एजेन्सियां भी आरोपियों से पूछताछ के लिए आ सकती हैं। बिहार पुलिस के साथ हम बेचे गए हथियारों की बरामदगी में जुटे हुए हैं।
सं सुधीर
वार्ता
More News
शहरों का नाम बदलने से गरीबी और बेरोजगारी नही होगी दूर : हार्दिक

शहरों का नाम बदलने से गरीबी और बेरोजगारी नही होगी दूर : हार्दिक

15 Nov 2018 | 5:27 PM

संभल 15 नवम्बर (वार्ता)गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर तंज कसते हुये कहा कि शहरों का नाम बदलने से देश में गरीबी और बेरोजगारी दूर नही होगी।

 Sharesee more..
image