Monday, Jun 24 2019 | Time 18:45 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दिमागी बुखार के मामले में बिहार और उत्तर प्रदेश को उच्चतम न्यायलय ने दिया नोटिस
  • अभिभाषण में महापुरूषों के राष्ट्र निर्माण में योगदान की अनदेखी अस्वीकार्य
  • मलिक ने राजौरी सड़क हादसे पर जताया शोक
  • अफगानिस्तान में 78 तालिबानी आतंकवादी मारे गये
  • 21 जुलाई को होगा जूनागढ़ मनपा का चुनाव
  • मेहुली 10 मी राइफल और चिंकी 25 मी पिस्टल में जीतीं
  • चिकित्सा सेवा कर्मियों की सुरक्षा के लिए पंजाब का कानून चंडीगढ़ यूटी में लागू होगा
  • जल्द ही ई-चिप वाले पासपोर्ट जारी होंगे
  • मंगोलिया में पांच लोगों की नदी में डूबने से मौत
  • राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बने रहना चाहिए: खूंटिया
  • स्लो ओवर रेट के लिए न्यूजीलैंड टीम पर जुर्माना
  • स्लो ओवर रेट के लिए न्यूजीलैंड टीम पर जुर्माना
  • शाहजहांपुर में युवक की हत्या,गुस्साये परिजनों ने हत्यारोपी के भाई को मार दिया
  • अफगानिस्तान में आठ तालिबानी आतंकवादी ढेर
  • सोने से बनायी गयी सूक्ष्म विश्वकप ट्रॉफी
राज्य


एससी/एसटी एक्ट के विरोध में सड़क पर उतरा सवर्ण समाज, मोदी सरकार को दी चेतावनी

लखनऊ 06 सितम्बर (वार्ता) अनुसूचित जाति/जनजाति संशोधन विधेयक को लेकर आयोजित भारत बंद के दौरान उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में सवर्ण समाज गुरुवार को सड़कों पर उतर कर विरोध दर्ज कराया।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में बंद समर्थकों ने जगह-जगह प्रदर्शन किया तथा प्रधानमंत्री के पुतले फूंके। इलाहाबाद में प्रदर्शनकारियों ने प्रयाग स्टेशन पर रेल रोक कर अपना विरोध दर्ज कराया। कुशीनगर में बंद पूरी तरह से सफल रहा हालांकि झांसी में यह बेअसर था।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) धर्म और जाति के नाम पर समाज को बांटने की राजनीति नहीं करती और जाति विशेष को सरंक्षण देने के कानून के दुरूपयोग की कतई इजाजत नही दी जायेगी। उन्होने कहा कि भारत बंद का कोई औचित्य नही है। भाजपा सरकार देश के प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा ,उसकी समृद्धि , खुशहाली के लिये प्रतिबद्ध है। संविधान में सभी को अपनी बात रखने का समान अधिकार है।
राज्य में पूरब से लेकर पश्चिम तक कई स्थानों पर बाजार बंद रहे जबकि कुछ क्षेत्रों में रेल एवं सडक यातायात को बाधित करने का प्रयास किया गया। इस दौरान अधिसंख्य इलाकों में स्कूल और दफ्तर खुले रहे और कामकाज सामान्य रहा। कुछ एक स्थानों को छोडकर अधिकांश क्षेत्रों में सडकों पर भी यातायात सामान्य रहा।
अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आनंद कुमार ने कहा कि इक्का दुक्का स्थानों को छोडकर बंद शांतिपूर्ण रहा। एहतियात के तौर पर पुलिस निगरानी बढा दी गयी। सुरक्षा बलों को स्पष्ट निर्देश दिये गये थे कि कानून व्यवस्था को बिगाडने की किसी भी प्रयास से सख्ती से निपटा जाये।
टीम प्रदीप
जारी वार्ता
image