Thursday, Jul 18 2019 | Time 02:18 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बंदूकधारी ने की संरा शांतिसैनिक सहित सात लोगों की हत्या
  • आईसीजे का फैसला जाधव के परिवार के लिए उम्मीदों भरा है :राहुल
  • हाफिज सईद की गिरफ्तारी पर ट्रंप ने दी प्रतिक्रिया
राज्य


अमेरिकी नागरिकों से ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह के सात सदस्य गिरफ्तार

भोपाल, 07 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के भोपाल की साइबर थाना पुलिस टीम ने अमेरिकी नागरिकों से लोन सेटलमेंट के नाम पर ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए उसके सात सदस्यों को गिरफ्तार किया है।
साइबर पुलिस के सूत्रों ने आज यहां बताया कि आरोपी अत्याधुनिक साइबर सॉफ्टवेयर प्लेटफाॅर्म का उपयोग कर अमेरिका के नागरिकों के मोबाइल फोन नंबर पर कॉल व टेक्स्ट मैसेज करके लॉ एन्फोर्समेंट एजेंसी के अधिकारी बनकर बात करते थे। वे बकाया लोन ना चुका पाने पर अरेस्ट वारंट या लीगल नोटिस देकर उनसे सेटलमेंट के नाम पर अवैध राशि वसूल कर रहे थे।
सूत्रों ने बताया कि अहमदाबाद निवासी अभिषेक पाठक ने अपने दोस्त भोपाल निवासी रामपाल सिंह के साथ मिलकर यहीं इन्द्रपुरी में कॉल सेंटर संचालित करने के लिए फ्लैट किराये पर लिया था। इस कॉल सेंटर पर मासिक वेतन पर चार लड़कों को रखा गया था। ये लड़के उपलब्ध डाटा अनुसार अमेरिकी नागरिकों को टेक्स्ट मैसेज व मेल करते थे और उनसे दिए गए मोबाइल फोन नंबर पर संपर्क करने के लिए कहते थे। इसके लिए उन्होंने लॉ एन्फोर्समेंट एजेंसी के फर्जी मेल आईडी भी बनाए थे।
मैसेज व मेल के बाद किसी अमेरिकी नागरिक द्वारा डरकर वापस संपर्क किया जाता था, तो उसका कॉल रामपाल या अभिषेक को डायवर्ट किया जाता था। ये दोनों धाराप्रवाह इंग्लिश में अमेरिकन एक्सेंट में बात करते थे और खुद को लॉ एन्फोर्समेंट अधिकारी बताकर लोन सेटलमेंट के लिए कहते थे। यदि कोई सेटलमेंट के लिए तैयार होता था तो उनसे मनीग्राम या बिटकॉइन के जरिये किसी मनीग्राम होल्डर के खाते या स्वयं के बिटकॉइन वॉलेट में ट्रांसफर करके राशि प्राप्त कर ली जाती थी।
अभिषेक लगभग एक वर्ष से यह कॉल सेंटर संचालित कर रहा था। यहां रामपाल मैनेजर के तौर पर कार्यरत था। वही लड़कों को काम पर रखता था। रामपाल पूर्व में अभिषेक के साथ अहमदाबाद में इसी तरह के कॉल सेंटर में काम कर चुका है। वहां पर दोनों को अमेरिकन एक्सेंट में बात करने का प्रशिक्षण भी दिया गया था।
अभिषेक ने अमेरिकी नागरिकों का डाटा अहमदाबाद निवासी वत्सल दीपेशभाई गांधी से खरीदा था। वत्सल को भी साइबर पुलिस की टीम ने अहमदाबाद से गिरफ्तार किया है। उसके पास से कुल 12 लाख अमेरिकी लोगों का डाटा जब्त किया गया है। यह डाटा वत्सल तक कैसे पंहुचा, इसकी जानकारी जुटाई जा रही है।
अभी तक प्राप्त जानकारी अनुसार गिरोह ने लगभग 20 लाख रुपये की राशि अमेरिकी नागरिकों से ठगी है। इस अपराध में शामिल अन्य आरोपियों के बारे में पता किया जा रहा है। कॉल सेंटर में काम करने वाले मोहम्मद फरहान खान, शुभम गीते, सौरभ राजपूत और श्रवणकुमार मौर्य को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है।
सुधीर
वार्ता
More News
बेरोजगार आशार्थियों को 122.43 करोड़ रुपए वितरित-चांदना

बेरोजगार आशार्थियों को 122.43 करोड़ रुपए वितरित-चांदना

17 Jul 2019 | 11:35 PM

जयपुर, 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान में अक्षत योजना के तहत राज्य में पात्र स्नातक बेरोजगारों में गत दिसम्बर तक एक लाख 53 हजार 657 आशार्थियों को 122.

see more..
देश की तरक्की के लिए गांवों का स्मार्ट होना जरूरी-सिंह

देश की तरक्की के लिए गांवों का स्मार्ट होना जरूरी-सिंह

17 Jul 2019 | 11:29 PM

जोधपुर 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान के राज्यपाल कल्याणसिंह ने कहा है कि देश की तरक्की के लिए गांव का स्मार्ट होना जरूरी है। इसके लिए ध्येय और जज्बा जरूरी है।

see more..
विधायक एक वर्ष में एक हजार पेड़ लगाने का ले संकल्प-पारीक

विधायक एक वर्ष में एक हजार पेड़ लगाने का ले संकल्प-पारीक

17 Jul 2019 | 11:25 PM

जयपुर 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान विधानसभा के सभापति राजेन्द्र पारीक ने आज विधानसभा में कहा कि पर्यावरण को बचाने के उद्देश्य से हर विधायक को एक वर्ष में अपने विधानसभा क्षेत्र में एक हजार पेड़ लगाने का संकल्प लेना चाहिए।

see more..
चिकित्सकों के 737 पदों पर भर्ती के लिए मिली वित्तीय स्वीकृति-शर्मा

चिकित्सकों के 737 पदों पर भर्ती के लिए मिली वित्तीय स्वीकृति-शर्मा

17 Jul 2019 | 11:14 PM

जयपुर 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि 737 चिकित्सकों की नई भर्ती के लिए वित्तीय स्वीकृति मिली है तथा इन पदों पर भर्ती के लिए राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय को पत्र लिख दिया गया है।

see more..
image