Sunday, May 31 2020 | Time 12:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोरोना के खिलाफ लड़ाई कमजोर नहीं होने दें: मोदी
  • आर्मी कैंटीन में लगी आग, कोई हताहत नहीं
  • सरकार बताये की पिछले वर्षों में साइन किए गए एमओयू का क्या हुआ: मायावती
  • सेरोटोनिन: एक सामान्य मस्तिष्क रसायन से होता है टिड्डियों का प्रकोप
  • धौलपुर जिले के बाडी कस्बे में मिले चार कोरोना पॉजीटिव
  • देश में कोरोना के एक दिन में सर्वाधिक 8000 से अधिक नये मामले
  • अजमेर से पश्चिम बंगाल एवं बिहार के श्रमिकों को लेकर ट्रेन रवाना
  • कोरोना का संकट अब भी उतना ही गंभीर, लापरवाही नहीं चल सकती, सब उतनी ही सावधानी बरतेें : मोदी
  • पर्यावरण दिवस पर पेड़ लगायें, पक्षियों के लिए पानी का इंतजाम करें : मोदी
  • जल संचयन हमारी जिम्मेदारी, वर्षा का पानी बूंद बूंद बचाना है : मोदी
  • टिड्डी दल का हमला बड़ा संकट, किसानों को बचा लेंगे : मोदी
  • दिल्ली में बारिश से तापमान में गिरावट
  • अम्फान से पूर्वी भारत में भारी नुकसान, संकट की घड़ी में देश उनके साथ खड़ा है : मोदी
  • अजमेर में एक कांस्टेबल ने आत्महत्य का किया प्रयास
  • आयुष्मान भारत योजना के एक करोड़ लाभार्थियों में 80 प्रतिशत गांवों के हैं, 50 प्रतिशत महिलाएंं : मोदी
राज्य


कृष्ण और कंस की लड़ाई पोषण से जुड़ी थी: चिटनिस

बुरहानपुर, 09 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश की महिला बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनिस ने कहा है कि कृष्ण और कंस की लड़ाई पोषण से जुड़ी थी। कृष्ण चाहते थे कि मथुरा का दूध और उससे बने अन्य पदार्थों का उपयोग पहले बच्चों के लिये हो, इसके बाद किसी और को दिया जाये। जबकि कंस इस पर अपना नियंत्रण चाहता था। यह मूलत: पोषक खाद्य सामग्री का द्वदं था।
श्रीमती चिटनिस राष्ट्रीय पोषण माह के तहत बुरहानपुर के होटल उत्सव में खंडवा और बुरहानपुर के मीडिया कर्मियों के लिये आयोजित कार्यशाला को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संकल्प के परिणाम स्वरूप राष्ट्रीय पोषण माह का आयोजन व्यापक स्तर पर हो रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का संकल्प है कि प्रदेश को कुपोषण मुक्त किया जाये और विभाग इस दिशा में गंभीर प्रयास कर रहा है। पोषण माह पर केन्द्र को भेजी जानी वाली रिपोर्ट में मध्यप्रदेश अभी तक सबसे आगे है।
महिला बाल विकास मंत्री ने कहा कि पोषण का संबंध गरीबी-अमीरी से नहीं है, आवश्यकता पोषण के प्रति जन-जागरूकता की है। मोटे अनाज, हरी सब्जियां, चटनी आदि बहुत सस्ते होते हैं लेकिन इनमें अधिक पौष्टिक तत्व हैं। कार्यशाला को दिल्ली से आये वरिष्ठ पत्रकारों सहित अन्य लोगों ने भी संबोधित किया।
बघेल
वार्ता
More News
सरकार बताये की पिछले वर्षों में साइन किए गए एमओयू का क्या हुआ: मायावती

सरकार बताये की पिछले वर्षों में साइन किए गए एमओयू का क्या हुआ: मायावती

31 May 2020 | 12:09 PM

लखनऊ, 31 मई (वार्ता) बहुजन समाज पार्टी(बसपा) अध्यक्ष मायावती ने श्रमिको को स्थानीय स्तर पर रोजगार दिये जाने की वकालत करते हुए कहा एमओयू केवल जनता को वरगलाने व फोटो के लिए नहीं होने चाहिए।

see more..
image