Monday, Nov 19 2018 | Time 19:17 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चार साल में बनेगा किलोग्राम का नाया बाट, 60 करोड़ होंगे खर्च
  • अदलीवाल ग्रेनेड हमले में पाकिस्तान का हाथ होने के संकेत: कैप्टन
  • सोनिया, पिंकी और सिमरन क्वार्टरफाइनल में, स्वीटी बाहर
  • सोनिया, पिंकी और सिमरन क्वार्टरफाइनल में, स्वीटी बाहर
  • तूफान प्रभावित कर्नाटक को 546 करोड़ की केंद्रीय सहायता
  • होंडा ने बेचे 2 5 करोड़ स्कूटर
  • पुलवामा आतंकवादी हमले के शहीद जवान को दी गयी श्रद्धांजलि
  • अंजुम को दो दिन में दो स्वर्ण, मेहुली ने जीते 4 स्वर्ण
  • फूलका ने सेना का अपमान किया, देशद्रोह का केस दर्ज कर गिरफ्तार करने की मांग
  • नवाज ने जेआईटी जांच को किया खारिज
  • बिहार दिवस से पहले पूरा राज्य हो ओडीएफ घोषित : सुशील
  • झांसी के बबीना में शुरू हुआ भारत- रूस संयुक्त सैन्य अभ्यास
  • एसजीपीसी प्रधान ने मृतकों के प्रति शोक व्यक्त किया
  • मनमोहन सिंह को मिला इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार
  • भोजपुर सहकारी चीनी मिल में गन्ने की पिराई शुरु
राज्य Share

वंजारा की रिहाई को चुनौती देने वाली याचिका खारिज

मुंबई, 10 सितंबर (वार्ता) बॉम्बे उच्च न्यायालय ने संदिग्ध माफिया सोहराबुद्दीन शेख, उसकी पत्नी और सहयोगी के मुठभेड़ मामले में गुजरात के पूर्व एटीएस प्रमुख डी जी वंजारा एवं चार अन्य को सोमवार को बरी कर दिया।
न्यायालय ने आज इस मामले में निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा। बरी किये गये सभी पुलिस अधिकारी गुजरात और राजस्थान के हैं। अदालत ने कहा कि इन अधिकारियों को आरोप मुक्त करने के आदेश को चुनौती देने वाली अर्जी में कोई दम नहीं है।
न्यायमूर्ति ए एम बदर ने गुजरात पुलिस के अधिकारी विपुल अग्रवाल को भी आरोपमुक्त कर दिया। अग्रवाल वर्ष 2005-06 में सोहराबुद्दीन शेख, पत्नी कौसर बी और उसके सहयोगी तुलसीराम प्रजापति के मुठभेड़ से संबंधित मामले में सह आरोपी थे।
इससे पहले निचली अदालत ने इस मामले में अग्रवाल की याचिका खारिज कर दी थी, जिसके बाद उन्होंने वंजारा को आरोपमुक्त किये जाने को आधार बनाते हुए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया और अदालत से उन्हें भी आरोपमुक्त किये जाने का अनुरोध किया।
न्यायमूर्ति बदर ने कहा कि पूर्व आईपीएस अधिकारियों वंजारा, राजकुमार पांडियन एवं एन. के. अमीन (सभी गुजरात पुलिस से) और राजस्थान पुलिस से दलपत सिंह राठौड़ की आरोपमुक्त करने को चुनौती देने वाली याचिका में कोई दम नहीं है।
सोहराबुद्दीन शेख के भाई रुबाबुद्दीन ने दीनेश, पांडियन और वंजारा को निचली अदालत द्वारा आरोपमुक्त किये जाने के फैसले को चुनौती दी थी। उच्चतम न्यायालय के निर्देश के बाद इस मामले को गुजरात से मुंबई भेजी गयी थी । विशेष अदालत ने अगस्त 2016 और सितंबर 2017 के बीच 38 आरोपियों में से 15 को आरोपमुक्त किया है। आरोपमुक्त किये गये व्यक्तियों में 14 पुलिस अधिकारी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शामिल हैं।
केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने 33 लोगों के साथ इन अधिकारियों के खिलाफ भी वर्ष 2005 में सोहराबउद्दीन और उनकी पत्नी कौसर बी और दिसंबर 2006 में प्रजापति के फर्जी मुठभेड़ का मामला दर्ज किया था।
त्रिपाठी.संजय
वार्ता
More News

मुख्य सचिव कार्यालय वल्लभ भवन में आरंभ

19 Nov 2018 | 7:03 PM

 Sharesee more..
झांसी के बबीना में शुरू हुआ भारत- रूस संयुक्त सैन्य अभ्यास

झांसी के बबीना में शुरू हुआ भारत- रूस संयुक्त सैन्य अभ्यास

19 Nov 2018 | 7:01 PM

झांसी 19 नवंबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में झांसी के बबीना सैन्य स्टेशन में सोमवार को भारत और रूस के बीच 10वां संयुक्त सैन्य अभ्यास “ इंद्र-2018” शुरू हो गया।

 Sharesee more..
image