Thursday, Jan 17 2019 | Time 15:18 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रेस हारा, लेकिन हिम्मत नहीं: कमांडर अभिलाष टॉमी
  • पहाड़ों पर हिमपात तथा मैदानी इलाकों में मौसम खुशगवार
  • सोना रिकॉर्ड स्तर पर, चाँदी 300 रुपये टूटी
  • एनजीटी के जुर्माने के आदेश को फॉक्सवैगन ने दी चुनौती
  • तमिलनाडु में धूमधाम से आयोजित हुआ जल्लीकट्टू का खेल
  • लोकप्रिय चैनल ही अस्तित्व बचा पायेंगे: ट्राई प्रमुख
  • लोकप्रिय चैनल ही अस्तित्व बचा पायेंगे : ट्राई प्रमुख
  • लोकप्रिय चैनल ही अस्तित्व बचा पायेंगे : ट्राई प्रमुख
  • केईआई को रिटेल कारोबार में 40 प्रतिशत की वृद्धि की उम्मीद
  • दिल्ली में सुबह ठंड और कोहरा छाया रहा
  • आतंकवादी बनने कश्मीर गया युवक परिवार में लौटा
  • तीन दिवसीय गुजरात दौरे पर पहुंचे मोदी, कई कार्यक्रमाें में करेंगे शिरकत, वाइब्रेंट गुजरात का करेंगे उद्घाटन
  • ममता ने ज्योति बसु को किया याद
राज्य Share

करीब तिहत्तर हजार करोड़ से बनेंगे तीन कन्ट्रोल्ड एक्सेस सुपर एक्सप्रेस हाइवे

जयपुर, 10 सितंबर (वार्ता) लगभग तिहत्तर हजार करोड़ रुपए की लागत के तीन कन्ट्रोल्ड एक्सेस सुपर एक्सप्रेस हाइवे अमृतसर -गुजरात, भटिंडा- अजमेर और दिल्ली-बड़ौदरा हाइवे बनाए जाएंगे।
राज्य के सार्वजनिक निर्माण मंत्री यूनुस खान ने आज हनुमानगढ़ में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर यह जानकारी दी। श्री खान ने बताया कि इनमें अमृतसर -गुजरात और भटिंडा-अजमेर हाइवे हनुमानगढ़ जिले से निकलेंगे। उन्होंने बताया कि अमृतसर -गुजरात सुपर एक्सप्रेस हाइवे की लम्बाई 856 किलोमीटर होगी जिसकी लागत 25 हजार करोड़ रुपए आएगी। इसी तरह भटिंडा- अजमेर सुपर एक्सप्रेस हाइवे की लम्बाई 489 किलोमीटर और लागत 24 हजार 500 करोड़ रुपए एवं दिल्ली-बड़ौदरा सुपर एक्सप्रेस हाइवे की लम्बाई 444 किलोमीटर हाेगी जिसकी लागत 23 हजार करोड़ आएगी।
उन्होंने बताया कि अमृतसर- गुजरात सुपर एक्सप्रेस हाइवे डबवाली (हरियाणा),संगरिया, हनुमानगढ़, लूणकरणसर, देशनोक, नोखामंडी, शेरगढ़, पचपदरा, सांचोर और सिणधरी होता हुआ गुजरात जाएगा। यह हाइवे फोरलेन का होगा और सीमेंटेड बनेगा। कार्य शुरू हो चुका है और इसकी निविदा भी हो चुकी हैं वहीं भटिंडा- अजमेर सुपर एक्सप्रेस हाइवे सिक्सलेन का बनेगा और यह राजस्थान के हनुमानगढ़, चूरू, सीकर, नागौर आदि जिलों से निकलेगा। इसी प्रकार दिल्ली- बड़ौदरा सुपर एक्सप्रेस हाइवे राजस्थान के अलवर, भरतपुर, सवाईमाधोपुर, बूंदी, झालावाड़ आदि जिलों से निकलेगा।
उन्होंने बताया कि कन्ट्रोल्ड एक्सेस सुपर एक्सप्रेस हाइवे बनाने का मकसद उत्तरी भारत को बंदरगाहों से सीधा जोड़ना तथा समय की बचत करना है। जिस माल को बंदरगाहों तक पहुंचने में चार- पांच दिन लगते थे। इससे वह दो दिन में ही पहुंच जाएगा। श्री खान ने बताया कि पिछली बार मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने किशनगढ़ से हनुमानगढ़ तक 401 किलोमीटर लंबा मेगा हाइवे बनाया था। उस समय इस रोड़ पर इतना यातायात नहीं था।
इस अवसर पर डॉ रामप्रताप भी मौजूद थे।
जोरा
वार्ता
image