Saturday, Sep 22 2018 | Time 16:17 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राफेल मामले की जांच संसद की संयुक्त समिति से करायी जाए: माकपा
  • राजनाथ की राहुल को सलाह- गंभीर आरोप लगाने से पहले चार बार सोचे
  • ईरान में सैन्य परेड के दौरान आतंकवादी हमले 24 मरे
  • नवीन फाइनल में, स्वर्णिम इतिहास से एक कदम दूर
  • राफेल सौदे में ‘चौकीदार’ ही बन गया ‘चोर’: राहुल
  • दिल्ली हवाई अड्डे पर चार करोड़ का सोना पकड़ा
  • भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द होने से इमरान निराश
  • भट्टूकलां ने जीती अंतर महाविद्यालय क्रॉस कंट्री चैम्पियनशिप
  • लाइवमी के प्रति बढ़ा आकर्षण
  • सोना 250 रुपये लुढ़का, चाँदी तीन सप्ताह के उच्चतम स्तर पर
  • किसी का दबाव नहीं, खुद चुना रिलायंस को : डसाल्ट
  • डोडा में सड़क हादसे में चार मरे, नौ घायल
  • मकान की छत ठहने से दो लोगों की मौत, चार घायल
  • हिमाचल प्रदेश में टैक्सी खाई में गिरी, सभी 13 लोगों की मौत
राज्य Share

विधानसभा में दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि देने के बाद सदन स्थगित

रायपुर, 11 सितंबर (वार्ता) छत्तीसगढ़ विधानसभा के विशेष सत्र में आज दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, राज्यपाल बलराम दास टंडन, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी और प्रदेश के पूर्व वित्तमंत्री रामचंद्र सिंहदेव को श्रद्धांजलि के बाद सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई।
सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने चारों प्रमुख नेताओं के निधन का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि श्री वाजपेयी के कारण छत्तीसगढ़ राज्य का गठन हो पाया है। उनका छत्तीसगढ़ से विशेष प्रेम था। श्री अग्रवाल ने श्री टंडन, श्री चटर्जी और श्री सिंहदेव के योगदान को भी याद किया।
मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने श्री वाजपेयी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उनकी लोकप्रियता का मुकाबला कोई नेता नहीं कर सकता। छत्तीसगढ़ राज्य बनाकर उन्होंने अपना वादा निभाया। उन्होंने ही सर्व शिक्षा अभियान की शुरुआत की थी।
उन्होंने कहा कि अटलजी की यादों को जीवंत रखने के लिए नया रायपुर, एक्सप्रेस वे, बिलासपुर विश्व विद्यालय सहित कई संस्थाएं उनके नाम पर की गई हैं। श्री सिंहदेव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि वे ईमानदार राजनेता थे। राजा होते हुए फकीर की तरह जिए। उन्होंने श्री चटर्जी और श्री टंडन को भी श्रद्धांजलि दी।
नेता प्रतिपक्ष टी एस सिंहदेव ने कहा कि विपक्ष का कोई प्रधानमंत्री हो तो अटलजी जैसा होना चाहिए। विपक्ष में रहते हुए उन्होंने आदर्श विपक्ष की भूमिका निभाई थी। सदन की कार्यवाही किस तरह चलाई जाती है, यह सोमनाथ दादा से सीखना चाहिए।
उन्होंने डॉ सिंहदेव का जिक्र करते हुए कहा कि वे उनके लिए कोरिया अंकल थे। उनका राजनीतिक जीवन बेदाग रहा है। मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय, अजय चंद्राकर और बृजमोहन अग्रवाल, बसपा विधायक केशव चंद्रा ने भी दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि दी।
कांग्रेस विधायक अरुण वोरा और अन्य सदस्यों ने भिलाई-दुर्ग और अन्य जगहों पर डेंगू से मृत लोगों को श्रद्धांजलि देने की मांग की। चारों नेताओं के सम्मान में दो मिनट का मौन रखा गया और सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई।
सुरेंद्र सुधीर
वार्ता
image