Wednesday, Nov 14 2018 | Time 16:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मेगन और एलिसा ने दिलाई आस्ट्रेलिया काे जीत
  • ई-वीजा सुविधा सभी देशों के लिए व्यावहारिक तौर पर शुरू
  • बेटों के बाद अब अजय चौटाला भी इनेलो से निष्कासित
  • आर्थिक तंगी के कारण एक ने की खुदकुशी
  • सामूहिक दुष्कर्म मामले में तीन आरोपी गिरफ्तार
  • 1984 दंगे : हत्या के एक मामले में दो दोषी सजा का ऐलान गुरुवार को
  • झांसी: मां का हत्यारा बेटा पुलिस की गिरफ्त में
  • राफेल सौदा : सुप्रीम कोर्ट में फैसला सुरक्षित
  • थोक महंगाई दर बढ़कर 5 28 प्रतिशत पर
  • सोना 150 रुपये लुढ़का ;चांदी स्थिर
  • सेमीफाइनल के लिये उतरेगी महिला टीम इंडिया
  • सेमीफाइनल के लिये उतरेगी महिला टीम इंडिया
  • राफेल सौदा : वायुसेना अधिकारी अदालत कक्ष में तलब
  • कोलकाता में ‘रसगुल्ला दिवस’ पर मनाया जा रहा है जश्न
  • रुपये की संदर्भ दर
राज्य Share

विश्वनाथ खेड़ा के सवा सौ ग्रामीण बैठें हैं भूख हड़ताल पर

बड़वानी, 11 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले के ठीकरी जनपद पंचायत के अंतर्गत विश्वनाथ खेड़ा पुनर्वास केंद्र के 125 ग्रामीण मूलभूत सुविधाओं के अभाव में भूख हड़ताल पर बैठे हुए हैं। उन्होंने ग्राम का नाम परिवर्तित कर इसे अक्षय कुमार की फिल्म जोकर के ग्राम पगलापुर की संज्ञा दी है।
बड़वानी जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर विश्वनाथ खेड़ा पुनर्वास केंद्र के मंदिर परिसर में 4 सितंबर से भूख हड़ताल पर बैठे संजय कुमावत ने बताया कि करीब 800 लोगों की आबादी का यह ग्राम 2003- 4 में डूब प्रभावित होने के चलते पुनर्वास केंद्र में स्थानांतरित किया गया था। वर्ष 2001 में ग्राम पंचायत टिटगारिया से विश्वनाथ खेड़ा पुनर्वास केंद्र तक की 2 किलोमीटर लंबी रोड पूरी तरह गायब हो चुकी है, ग्राम के अंदर न तो पेयजल के कनेक्शन है और न ही नालियां, जिसकी वजह से आये दिन ग्रामीणों के मध्य विवाद होते रहते हैं।
उन्होंने बताया कि ग्राम में उप स्वास्थ्य केंद्र में कभी कभार ही चिकित्सक आते हैं और सामुदायिक भवन भी अधूरा निर्मित है जिसकी जांच चल रही है। उन्होंने बताया कि 178 घरों के इस ग्राम में लगभग हर घर के निवासी कल से उनके साथ भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं। इनमें से 34 लोग आगे भी उनके साथ भूख हड़ताल पर मांगे माने जाने तक बैठे रहेंगे।
उन्होंने बताया कि अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व), तहसीलदार तथा जनपद पंचायत ठीकरी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी भूख हड़ताल पर बैठे ग्रामीणों से मिलने आए, लेकिन उन्होंने अस्थाई सुविधाओं हेतु ही आश्वासन दिया जिसे ग्रामीणों ने नकार दिया। ग्रामीण दिलीप धनगर, शांताबाई आदि ने बताया कि जब तक स्थाई तौर पर रोड का निर्माण, पेयजल की सुविधा ,नालियों का निर्माण ग्राम के अंदर दोनों सड़कों आदि का निर्माण नहीं हो जाता वह लोग भूख हड़ताल समाप्त नहीं करेंगे।
उन्होंने बताया कि वह समस्याओं को लेकर जनपद पंचायत ठीकरी, क्षेत्रीय विधायक बाला बच्चन तथा क्षेत्रीय सांसद सुभाष पटेल से भी कई बार मिले साथ ही उन्होंने सी एम हेल्पलाइन में भी शिकायत दर्ज कराई, किंतु उनकी समस्याओं का हल नहीं निकल सका। उन्होंने कहा कि करीब 15 महीने पूर्व निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार की जांच हेतु भी शपथ पत्र पर आवेदन दिया गया था, लेकिन उसकी जांच ही आरंभ नहीं हुई।
हडताल पर बैठे संजय कुमावत ने बताया कि 9 सितंबर को फिल्म स्टार अक्षय कुमार के जन्मदिन के अवसर पर उनके द्वारा 2012 में अभिनीत फिल्म में जिस तरह के ग्राम पगलापुर की कल्पना की गई थी उसी तरह अब लोगों ने भी इसका नाम पगलापुर रख दिया है और इस हेतु उन्होंने ग्राम के मुख्य मार्ग पर एक बैनर भी लटका दिया है ,जिसमें लिखा है कि विश्वनाथ खेड़ा अब बन गया है पगलापुर, विकास नहीं तो वोट नहीं।
राजपुर के अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) वीर सिंह चौहान ने बताया कि टिट गरिया से विश्वनाथ खेड़ा तक की 2 किलोमीटर लंबी रोड के लिए स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है और शीघ्र ही इसका निर्माण आरंभ कराया जाएगा। इसी तरह अधूरे पड़े सामुदायिक भवन में संबंधितों से वसूली के निर्देश दिए गए हैं और इसे भी शीघ्र पूरा कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि अन्य समस्याओं को संबंधित विभागीय अधिकारियों को शीघ्र ही निराकृत करने के निर्देश दिए गए हैं।
सं बघेल
वार्ता
image