Tuesday, Nov 20 2018 | Time 10:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चुनाव को लेकर जयपुर चर्च में विशेष प्रार्थना
  • चुनाव को लेकर जयपुर चर्च में विशेष प्रार्थना
  • कानपुर में महिला कांस्टेबल की हत्या,आरोपी पति गिरफ्तार
  • छत्तीसगढ़ में दूसरे एवं आखिरी चरण की 72 सीटो पर मतदान शुरू
  • पेट्रोल, डीजल की कीमत में गिरावट का सिलसिला जारी
  • पेट्रोल, डीजल की कीमत में गिरावट का सिलसिला जारी
  • पेट्रोल, डीजल की कीमत में गिरावट का सिलसिला जारी
  • अमेरिका का सीरिया में तुर्की, कुर्द के बीच तनाव कम करने के प्रयास
  • राहुल ने सीबीआई को लेकर मोदी पर साधा निशाना
  • शोपियां मुठभेड़ में चार आतंकवादी ढ़ेर, जवान शहीद
  • रूस के पर्म क्षेत्र में घर में लगी आग, छह की मौत
  • हथियार के साथ दो अपराधी गिरफ्तार
  • अजमेर में सचिन पायलट का दबदबा कायम
  • अजमेर में सचिन पायलट का दबदबा कायम
  • गोलीबारी की घटनाओं में पुलिस अधिकारी समेत तीन मरे
राज्य Share

रूमानी गीतों से दीवाना बनाया था अंजान ने

.. पुण्यतिथि 13 सितम्बर के अवसर पर ..
मुंबई 12 सितम्बर (वार्ता) लगभग तीन दशक से अपने रचित गीतों से हिन्दी फिल्म जगत को सराबोर करने वाले गीतकार अंजान के रूमानी नज्म आज भी लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर लेते है ।
अट्ठाइस अक्टूबर 1930 को बनारस मे जन्में अंजान को बचपन के दिनो से हीं उन्हे शेरो शायरी के प्रति गहरा लगाव था। अपने इसी शौक को पूरा करने के लिये वह बनारस मे आयोजित सभी कवि सम्मेलन और मुशायरों के कार्यक्रम में हिस्सा लिया करते थे , हालांकि मुशायरों के कार्यक्रम में भी वह उर्दू का इस्तेमाल कम हीं किया करते थे । जहां हिन्दी फिल्मों में उर्दू का इस्तेमाल एक पैशन की तरह किया जाता था । वही अंजान अपने रचित गीतों मे हिन्दी पर ही ज्यादा जोर दिया करते थे । गीतकार के रूप मे उन्होने अपने कैरियर की शुरूआत वर्ष 1953 में अभिनेता प्रेमनाथ की फिल्म ..गोलकुंडा का कैदी ..से की । इस फिल्म के लिये सबसे पहले उन्होने ..लहर ये डोले कोयल बोले ..और शहीदों अमर है तुम्हारी कहानी गीत लिखा , लेकिन इस फिल्म के जरिये वह कुछ खास पहचान नही बना पाये।
अंजान ने अपना संघर्ष जारी रखा । इस बीच उन्हाेंने कई छोटे बजट फिल्में भी की जिनसे उन्हें कुछ खास फायदा नहीं हुआ । अचानक ही उनकी मुलाकात जी.एस.कोहली से हुयी जिनके संगीत निर्देशन मे उन्होंने फिल्म लंबे हाथ के लिये ..मत पूछ मेरा है मेरा कौन ..गीत लिखा । इस गीत के जरिये वह काफी हद तक पहचान बनाने मे सफल हुए। लगभग दस वर्ष तक मायानगरी मुंबई मे संघर्ष करने के बाद वर्ष 1963 मे पंडित रविशंकर के संगीत से सजी प्रेमचंद के उपन्यास गोदान पर आधारित फिल्म ..गोदान.. मे उनके रचित गीत ..चली आज गोरी पिया की नगरिया .. की सफलता के बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा ।
प्रेम टंडन
जारी वार्ता
More News
20 लाख रुपये की शराब बरामद

20 लाख रुपये की शराब बरामद

20 Nov 2018 | 10:13 AM

हाजीपुर 20 नवंबर (वार्ता) बिहार में वैशाली जिले के राघोपुर थाना क्षेत्र के बरियारपुर गांव से पुलिस ने कल देर रात 175 कार्टन विदेशी शराब बरामद किया।

 Sharesee more..
image