Friday, Nov 16 2018 | Time 11:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दक्षिण कश्मीर में सीआरपीएफ शिविर में आग
  • चेन्नई सर्राफा के शुरुआती भाव
  • त्रिपुरा: भाजपा-माकपा समर्थकों के बीच झड़पें, 12 पुलिसकर्मी सहित 54 घायल
  • जम्मू-कश्मीर में लेह, मुगल मार्ग पांचवें दिन भी बंद
  • कैलिफोर्निया की आग में मृतकों की संख्या 63 हुई, 630 से अधिक लापता
  • प्रधानमंत्री मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ में चुनावी रैलियों को संबोधित करेंगे
  • दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा बलों का खोजी अभियान शुरू
  • कानपुर पुलिस मुठभेड़ में शातिर बदमाश गिरफ्तार
  • सुरक्षा परिषद ने शांति सैनिकों की मौत पर शोक जताया
  • सबरीमला में तीर्थ यात्रियों के लिए इलैक्ट्रिक बसें
  • आतंकवादियोंं ने युवक का अपहरण करने के बाद हत्या की
  • जर्मनी में दोे बसों की टक्कर, 26 घायल
  • आज का इतिहास(प्रकाशनार्थ 17 नवंबर)
  • पूर्व सांसद प्रफुल्ल कुमार माहेश्वरी का निधन
  • थेरेसा मे नेब्रेक्थेरेसा मे ने ब्रेक्सिट योजना के साथ आगे बढ़ने का वादा कियासिट योजना के साथ आगे बढ़ने का वादा किया
राज्य Share

लोकरूचि-गणेशोत्सव अंग्रेज दो इलाहाबाद

रिपोर्ट में कहा गया था गणेशोत्सव के दौरान युवकों की टोलियां सड़कों पर घूम-घूम कर अंग्रेजी शासन विरोधी गीत गाती हैं, स्कूली बच्चे पर्चे बांटते हैं। पर्चे में अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ हथियार उठाने और मराठों से शिवाजी की तरह विद्रोह करने का आह्वान होता है। साथ ही अंग्रेजी सत्ता को उखाड़ फेंकने के लिए धार्मिक संघर्ष को जरूरी बताया जा रहा है।
इतिहास की गहराइयों में झांके तो महाराष्ट्र में सात वाहन, राष्ट्रकूट, चालुक्य जैसे राजाओं ने गणेशोत्सव की प्रथा चलाई। महान मराठा शासक छत्रपति शिवाजी ने गणेशोत्सव को राष्ट्रीयता एवं संस्कृति से जोड़कर एक नई शुरुआत की। पेशवाओं ने गणेशोत्सव को बढ़ावा दिया। पेशवाओं के बाद 1818 से 1892 तक के काल में यह पर्व हिन्दू घरों के दायरे में ही सिमटकर रह गया था।
लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने 1893 में गणेशोत्सव का जो सार्वजनिक पौधरोपण किया था वह अब विराट वट वृक्ष का रूप ले चुका है। ऋद्धि-सिद्धि के देव गणेशजी न केवल भारत में अपितु तिब्बत, चीन, वर्मा, जापान, जावा एवं बाली, थाईलैंड, श्रीलंका, म्यांमार एवं बोर्नियो इत्यादि तमाम देशों में भी विभिन्न रूपों में पूजे जाते हैं। यही नहीं, इन देशों में गणेशजी की प्रतिमाएं भी चप्पे-चप्पे पर देखने को मिलती हैं। भारतीय पुराणों में गणेश जी की अनेक कथाएं समाहित हैं। ‘गणेश पुराण’ की महिमा सीमाओं की संकीर्णता से परे है, इसलिए पश्चिमी देशों की प्राचीन संस्कृतियों में भी गणेश की अवधारणा विद्यमान है।
दिनेश प्रदीप
जारी वार्ता
image