Sunday, Feb 17 2019 | Time 16:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तुर्की ने चार विदेशी संदिग्धों को हिरासत में लिया
  • मुरादाबाद- कश्मीरी छात्रों के बारे में छानबीन जारी
  • सरकारी चिकित्सा महाविद्यालयों में शिक्षकों के 153 पद भरने के लिए मंत्रिमंडल की स्वीकृति
  • शाह सोमवार को जयपुर आयेंगे
  • संजय तोमर और श्री सीमा बने ‘मैक्स लाइफ इंश्योरेंस - द रन’ के चैंपियन
  • पुल की रेलिंग तोड़ गहरे नाले में गिरी बस, तीन की मौत पचास घायल
  • पुलवामा हमले के दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा: नकवी
  • सुरक्षा हमारे लिए कोई मसला नहीं : मीरवाइज
  • पंजाब कांग्रेस भवन में पुलवामा के शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि
  • विश्वेन्द्र ने शहीद के परिजनों को बंधाया ढांढस
  • नारायणस्वामी का धरना पांचवे दिन भी जारी रहा
  • देवरिया में शहीद विजय के घर कल जायेंगे योगी
  • फोटो कैप्शन-पहला सेट
  • मोदी ने ईमानदारी से चलायी है पांच साल सरकार: नकवी
  • चीन में मकान ढहने से तीन लोगों की मौत, 14 घायल
राज्य Share

एक महीने में सवा 12 लाख आवेदन संदेह का विषय - धनोपिया

भोपाल, 12 सितंबर (वार्ता) कांग्रेस की मध्यप्रदेश इकाई के प्रवक्ता एवं चुनाव कार्य प्रभारी जे पी धनोपिया ने चुनाव आयोग को एक महीने के अंदर सवा बारह लाख से अधिक नए मतदाताओं के नाम जोड़ने के प्रस्ताव प्राप्त होने को आश्चर्यजनक और संदेहास्पद बताते हुए इसकी जांच की मांग की है।
श्री धनोपिया आज प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी बी एल कांताराव को पत्र सौंपकर कहा है कि इसके पूर्व विगत 31 जुलाई को साढ़े 10 लाख से अधिक नए मतदाताओं के नाम सूची में शामिल किए जा चुके हैं।
उन्होंने कहा कि सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दबाव में अनेक शासकीय बीएलओ द्वारा गलत जानकारियां उपलब्ध कराकर बड़े पैमाने पर एक बार फिर मतदाता सूची में हेरफेर की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने आग्रह किया है कि राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के समक्ष औचित्य और वस्तुस्थिति स्पष्ट किए बिना और गहन जांच के बगैर एक महीने के अंदर प्राप्त ये नए नाम मतदाता सूची में न जोड़े जाएं।
श्री धनोपिया ने लिखा है कि वोटर लिस्ट के प्रारूप पर 23 लाख दावे आपत्तियां भी मुख्य चुनाव कार्यालय को प्राप्त हुई हैं, जिनका निराकरण 27 सितम्बर के पूर्व किया जाएगा। इसके साथ-साथ जो नए नाम जोड़ने के लिए आए हैं, उनकी भी जांच की जाए।
श्री धनोपिया ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी से यह भी आग्रह किया है कि राजधानी भोपाल में अल्पसंख्यक वर्ग का विश्व स्तरीय धार्मिक सम्मेलन इज्तिमा 23 से 26 नवंबर तक आयोजित किया जाएगा। इसलिए इस अवधि में विधानसभा चुनाव के मतदान की तिथि नियत न की जाए, क्योंकि इससे लाखों की संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के मतदाताओं के मताधिकार से वंचित रहने की संभावना बनी रहेगी।
सुधीर
वार्ता
More News
जम्मू में कर्फ्यू तीसरे दिन भी जारी, स्थिति सामान्य

जम्मू में कर्फ्यू तीसरे दिन भी जारी, स्थिति सामान्य

17 Feb 2019 | 4:53 PM

जम्मू, 17 फरवरी (वार्ता) पुलवामा आतंकी हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 40 जवानों के शहीद हाेने की घटना के विरोध में शुक्रवार को आयोजित बंद के दौरान भड़की हिंसा के बाद लागू कर्फ्यू तीसरे दिन रविवार को भी जारी रहा।

 Sharesee more..

शाह सोमवार को जयपुर आयेंगे

17 Feb 2019 | 4:51 PM

 Sharesee more..
image