Friday, Jul 3 2020 | Time 15:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोरोना महाराष्ट्र-मुंबई
  • रुपया 38 पैसे उछला
  • आंध्र प्रदेश में कोरोना के 837 नए मामले, मृतकों की संख्या 200 के पार
  • सुशांत की मौत की सीबीआई जांच कराने को लेकर राज्यपाल से मिला प्रतिनिधिमंडल
  • रोहिणी में सेवानिवृत्त एएसआई के बेटे की गोली मारकर हत्या
  • कोविड-19, डेंगू संबंधी तकनीकी जानकारी हेतु विशेषज्ञ कमेटी गठित
  • अफगानिस्तान में विस्फोट में दो पुलिस कर्मी मारे गये
  • दक्षिण कोरिया में कोरोना संक्रमितों की संख्या 12,967 हुई
  • दुपहिया वाहन पर जुआ खेल रहे दो लोग गिरफ्तार
  • गलवान के पराक्रम से सेना ने देश की ताकत का संदेश दिया: मोदी
  • एनबीए के नौ खिलाड़ी कोरोना से संक्रमित
  • एनबीए के नौ खिलाड़ी कोरोना से संक्रमित
  • ओडिशा में काेरोना मामले 8000 के पार, 37 की मौत
  • फोटो कैप्शन पहला सेट
  • खाद्य तेलों, अनाजों में टिकाव, गुड़ महँगा, दालों में मिश्रित रुख
राज्य


नवरात्रि में वर्षा के खलल के बाद अब गुजरात के कुछ हिस्सों में दिवाली भी गीली होने का अंदेशा

अहमदाबाद, 23 अक्टूबर (वार्ता) गुजरात के सबसे पसंदीदा और रंगबिरंगे पर्व नवरात्रि के दौरान इस साल बारिश की खलल के बाद अब राज्य में दिवाली के भी गीले होने की आशंका बन गयी है।
हालांकि दिवाली के दौरान पूरे राज्य में नहीं बल्कि दक्षिणी हिस्से के कुछ जिलों में बरसात की संभावना मौसम विभाग ने जतायी है।
यहां मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जयंत सरकार ने यूएनआई को बताया कि पूर्व मध्य अरब सागर और आसपास के इलाकों के ऊपर बने एक स्पष्ट निम्न दबाव के अगले 24 घंटे में डिप्रेशन में तब्दील होने और उसके बाद के 48 घंटे में चक्रवाती तूफान बन जाने की संभावना है। हालांकि यह 25 अक्टूबर से अपनी दिशा बदल कर गुजरात तट से दूर जाने लगेगा।
पर इसके असर से आज और कल दक्षिण गुजरात में डांग, वलसाड, नवसारी, सूरत, तापी, नर्मदा आदि में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होगी जबकि 27 अक्टूबर यानी दिवाली के दिन भी इन स्थानों पर हल्की वर्षा हो सकती है। आज सौराष्ट्र के भावनगर, जूनागढ़, अमरेली, गिर सोमनाथ आदि में भी कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा हो सकती है। 25 और 26 अक्टूबर को वर्षा की संभावना नहीं है।
ज्ञातव्य है राज्य में इस साल सामान्य से लगभग डेढ़ गुनी मानसूनी वर्षा के बाद अब बेमौसम की वर्षा का सिलसिला भी पिछले कुछ दिनों से जारी है। इससे किसानों के माथों पर भी चिंता की लकीरें दिख रही हैं।
रजनीश
वार्ता
image