Friday, Jun 22 2018 | Time 08:56 Hrs(IST)
image
image
BREAKING NEWS:
  • तेलंगाना में सड़क हादसे में चार लोगों की मौत
  • अमेरिका का कारोबारी संरक्षणवाद ‘पागलपन’ का लक्षण
  • ट्रंप की विदेश नीति से यूरोप होगा सशक्त
  • ट्रंप की विदेश नीति से यूरोप होगा सशक्त
  • संपूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण की शुरुआत हो चुकी : ट्रंप
  • यूरोप पहुंचने के प्रयास में लीबिया तटों पर 220 विस्थापित डूबे
  • अमेरिका की सीमा नीति ‘सख्त’ होनी चाहिए: ट्रंप
  • मेलेनिया ट्रंप ने हिरासत में लिए गये विस्थापित बच्चों से की मुलाकात
  • क्रोएशिया ने मैसी की अर्जेंटीना को 3-0 से पीटा
  • क्रोएशिया ने मैसी की अर्जेंटीना को 3-0 से पीटा
  • आधुनिक चिकित्सा पद्धति के साथ योग व आयुर्वेद को अपनाने की जरुरत: मोदी
  • अमेरिका विस्थापित अभिभावकों के मुकदमों पर रोक लगायेगा
  • सीरिया के देरा में हमले चिंताजनक: सं रा
राज्य Share

नर्मदा नदी के दोनों तटों के ग्रामों को खुले में शौच मुक्त किया जाएगा

नर्मदा नदी के दोनों तटों के ग्रामों को खुले में शौच मुक्त किया जाएगा

सीहोर 20 मार्च (वार्ता) प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा नदी के दोनों तटों के ग्रामों को खुले में शौचमुक्त किया जायेगा। श्री चौहान आज यहां जिले के नसरूल्लागंज के ग्राम मंडी में नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा के जनसंवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी एक पवित्र नदी है, जो प्रदेश को पेयजल सिंचाई और बिजली देती है। लोकप्रिय भजन गायिका श्रीमती अनुराधा पौडवाल ने कार्यक्रम में भक्तिमय भजनों की प्रस्तुति दी। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा से समाज को जागृत कर नर्मदा के दोनों किनारों पर पौधरोपण के साथ ही प्रदूषण से बचाने के लिए लोगों को जागरूक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पानी के बिना दुनिया नहीं चल सकती। नर्मदा नदी का पूरे प्रदेश पर उपकार है। नर्मदा की कृपा से हमारा प्रदेश देश में कृषि उत्पादन दर में सबसे ऊपर है। यह कर्ज उतारने के लिये नर्मदा सेवा यात्रा शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि घर-घर नर्मदा का जल पहुँच रहा है। इससे कई जगह जल संकट समाप्त होगा। उन्होंने कहा कि हमने नर्मदा के दोनों किनारों के पेड़ काट दिए जिससे नर्मदा की धारा कमजोर पड़ने लगी। इसका प्रायश्चित कर नर्मदा नदी के दोनों किनारों पर एक हजार किलोमीटर की सीमा में पेड़ लगाकर करेंगे। इसके लिए सभी सामाजिक संगठनों के लोगों से रजिस्ट्रेशन कराएंगे और उनसे नर्मदा नदी के किनारे पेड़ लगवाएंगे। नाग वार्ता

image