Wednesday, Jul 24 2019 | Time 13:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • न्यूनतम वेतन नहीं देने पर होगी सख्त कार्रवाई: सरकार
  • छह महिलाओं सहित आठ जुआरी गिरफ्तार
  • सदर बाजार में इमारत ढही: कोई हताहत नहीं
  • वन अधिनियम में प्रस्तावित संशोधन के विरोध में झामुमो ने किया प्रदर्शन
  • संजीव भट्ट को मानवाधिकारों से वंचित रखा गया: श्वेता भट्ट
  • ट्रम्प के आरोप पर मोदी से सच्चाई सुनना चाहता है देश: अधीर
  • वतन बचाने के लिये कश्मीर मुद्दे का हल निकालना जरूरी- फारूख
  • हिमा दास को सम्मान निधि देने पर विचार करेगी सरकार - कमलनाथ
  • चीन में भूस्खलन में नौ लोगों की मौत
  • शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता के लिए समिति बनेगी - कमलनाथ
  • कर्नाटक: याचिका वापस लेने की अनुमति पर गुरुवार को आदेश
  • अवैध रेत खनन मामले में केंद्र, पांच राज्यों को नोटिस
  • बोरिस जॉनसन के ब्रिटेन के प्रधानमंत्री का पद संभालने की उम्मीद
  • हाउसफुल-4 में रैप सांग गायेंगे अक्षय कुमार
  • कंगना के साथ काम करना हमेशा मजेदार : राजकुमार
राज्य


बिहार में जेम के जरिये 46.7 करोड़ की खरीद : सुशील

बिहार में जेम के जरिये 46.7 करोड़ की खरीद : सुशील

पटना 10 सितंबर (वार्ता) बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आज बताया कि राज्य के अलग-अलग विभागों की ओर से गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस (जेम) के जरिये अबतक 46.7 करोड़ रुपये की खरीद की गई है तथा करीब 50 करोड़ रुपये की खरीददारी प्रक्रियाधीन है।

श्री मोदी ने यहां ‘नेशनल मिशन आॅन जेम’ का औपचारिक शुभारंभ करते हुए कहा कि सचिवालय और उससे जुड़े विभागों में खरीद के लिए जेम की शुरूआत इस वर्ष अप्रैल में की गई थी। उन्होंने बताया कि फिलहाल बिहार में जेम पोर्टल पर 1239 विक्रेता निबंधित हैं तथा विभिन्न विभागों की ओर से अब तक 46.7 करोड़ रुपये की खरीद की गई है और करीब 50 करोड़ रुपये की खरीद प्रक्रियाधीन है।

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि बदलाव को स्वीकार करने की जरूरत है। यह जमाना आॅनलाइन का है। वर्ष 2017 में मेट्रो शहरों में जहां 3.60 करोड़ लोगों ने खरीददारी के लिए ई-काॅमर्स प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल किया वहीं टीयर टू शहरों में

आॅनलाइन खरीद करने वालों की संख्या 3.70 करोड़ रही। उन्होंने बताया कि शहरों में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वालों की संख्या 29 करोड़ है जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में यह संख्या 18 करोड़ है। वहीं, शहरी इंटरनेट उपभोक्ताओं की संख्या में नौ प्रतिशत की वृद्धि की तुलना में ग्रामीण उपभोक्ता की वृद्धि दर 13 प्रतिशत है।

सूरज रमेश

जारी (वार्ता)

image