Saturday, Apr 20 2019 | Time 16:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लखनऊ कैंट में तैनात नायक मनोज सिंह बिष्ट ने फांसी लगाकर दी जान
  • नौसेना के विध्वंसक पोत इम्फाल का जलावतरण
  • सिद्धू की नोटबंदी और जीएसटी पर मोदी को चुनौती
  • बराड़ बने शिअद के वरिष्ठ उपाध्यक्ष
  • अगर भाजपा सत्ता में आयी तो कांग्रेस जिम्मेदार: आप
  • प्रज्ञा भारती को कलेक्टर भोपाल ने नोटिस जारी किया
  • चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वेब-सीरीज पर प्रतिबंध लगाया
  • बलियानाला: प्रशासन ने दिये 65 भवनों को खाली करने के निर्देेश
  • 200 सीटें भी नहीं जीत पायेगा राजग, चुनाव के बाद भूतपूर्व प्रधामंत्री बन जायेंगे मोदी - अहमद पटेल
  • बैट की संस्थापक मैगी अमृतराज का निधन
  • सत्ती पर चुनाव आयोग की कार्रवाई उचित: राठौर
  • पांड्या-राहुल पर 20-20 लाख रूपये का जुर्माना
  • मोदी ने ‘समावेशी विकास का हाईवे’ तैयार किया: नकवी
  • मोदी चुनिंदा उद्योगपतियों के चौकीदार, जनता दूसरा मौका नहीं देगी : राहुल
  • साध्वी प्रज्ञा ने शहीदों का अपमान किया : आशा कुमारी
राज्य


पूर्वी उत्तर प्रदेश में रिसर्च सेन्टर बीमारियों का पता लगाने के मददगार होगा:नड्डा

पूर्वी उत्तर प्रदेश में रिसर्च सेन्टर बीमारियों का पता लगाने के मददगार होगा:नड्डा

गोरखपुर, 02 सितम्बर (वार्ता) केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे.पी.नड्डा ने कहा कि अच्छी नीयत से कार्य करने से चौमुखी विकास होता है और 84 करोड़ की लागत से यहां बनने वाले इस रिसर्च सेन्टर में आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध होगी तथा यह बीमारियों की जानकारी देने में सहयोगी सिद्ध होगा।

श्री नडडा ने यहां बाबा राघवदास मेडिकल कालेज परिसर में 104 करोड़ की लागत से निर्मित होने वाली दो परियोजनाओं का शिलान्यास समारोह में कहा कि इनमें 84 करोड़ की लागत से आर.एम.आर.सी. तथा 20 करोड़ की लागत से निर्मित होने वाली सी.आर.सी.शामिल है।

उन्होंने निपाह वायरस के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि समय से निपाह वायरस के बारे में जानकारी मिल जाने से इसके सही इलाज में लोगों को मदद मिली और यह वायरोजी सेन्टर की देन है। उन्होंने कहा कि यह ताकत अब गोरखपुर को मिलने जा रही है। गोरखपुर में जेई/एइएस से बचाव के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लगातार कार्य किया है जिसके कारण मुझे पांच बार गोरखपुर आना पड़ा।

इस अवसर पर केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावर चन्द गहलोत ने कहा कि एक राज्य में एक सी.आर.सी. होता है लेकिन उत्तर प्रदेश में दो सी.आर.सी. की स्थापना की गयी है जिसमें एक लखनऊ में तथा दूसरा गोरखपुर में होगा।

उन्होंने दिव्यांगों के सशक्तिकरण के लिए एक्ट बनाया गया है जिसकी अन्य देशों में भी सराहना की जा रही तथा उसकी मांग हो रही है। प्रदेश में लगभग 3000 कैम्प आयोजित कर लाखों की संख्या में दिव्यांगों को लाभान्वित किया गया है। दिव्यांगों के हितार्थ अनेक योजनाएं संचालित की जा रही है। उन्होंने बताया कि तीन लाख दिव्यांगों को कौशल प्रशिक्षणा तथा सात लाख दिव्यांगों को 3 से 4 प्रतिशत की दर पर ऋण उपलब्ध कराया गया है और कौशल प्रशिक्षण के तहत 2000 का मानदेय भी दिया जाता है।



समारोह में प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी, चिकित्सा स्वास्थ्य एंव प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन, विधायक , महापौर एवं जन प्रतिनिधियों सहित अपर मुख्य सचिव सूचना अवनीश अवस्थी, प्रमुख सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य रजनीश दूबे, हेल्थ रिसर्च के सचिव डा0 बलराम भार्गव, मण्डलायुक्त अमित गुप्ता, जिलाधिकारी के0विजयेन्द्र पाण्डियन तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

उदय मुसन्ना तेज

वार्ता

image