Thursday, Nov 21 2019 | Time 23:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जेएनयू छात्रों की मांग जायज : दीपंकर
  • छत्तीसगढ़ में कार दुर्घटना में आठ लोगों की मौत
  • बाइक और हाइवा की टक्कर में दो की मौत, दो घायल
  • भारत ने करतारपुर तीर्थयात्रियों पर शुल्क माफी का मुद्दा उठाया
  • दूसरे चरण में 20 विधानसभा सीटों पर 260 प्रत्याशी आजमाएंगे किस्मत
  • सीईसी ने की झारखंड विधानसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा
  • कार से साढ़े पांच लाख नकद जब्त
  • सेविका से 25 हजार रिश्वत लेते सीडीपीओ गिरफ्तार
  • एसिड अटैक जघन्य अपराध पर उच्च न्यायालय गंभीर
  • दिल्ली के नकली जीरे के तार शाहजहांपुर से जुड़े,दो गोदाम सीज
  • झामुमो छोड़ आजसू में आई वर्षा गाड़ी रांची से लड़ेंगी चुनाव
  • शाह ने झारखंड में बोला झूठ, नक्सल मुक्त नहीं हुआ प्रदेश : कांग्रेस
  • योगी ने प्रदान की 450 बीमार लोगों को आर्थिक सहायता
  • यू पी टीईटी 2017 का परिणाम दो माह में घोषित करें-उच्च न्यायालय
  • शिवसेना नेताओं के खिलाफ वकील ने दर्ज करायी शिकायत
राज्य » उत्तर प्रदेश


ऐतिहासिक फैसला आने से पहले राम की नगरी पर पहरा सख्त

ऐतिहासिक फैसला आने से पहले राम की नगरी पर पहरा सख्त

अयोध्या, 17 अक्टूबर (वार्ता) दशकों से लंबित विवादित रामजन्मभूमि मामले के फैसले की घड़ी नजदीक आने के साथ अयोध्या में एहतियात के तौर पर सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम किये गये हैं।

उच्चतम न्यायालय में विवादित रामजन्मभूमि/बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई बुधवार को पूरी हुयी थी जबकि इस मामले का ऐतिहासिक फैसला नवम्बर में आने की उम्मीद है।

पुलिस सूत्रों ने गुरूवार को यहां बताया कि विवादित श्रीरामजन्मभूमि परिसर में सुरक्षा बलों की अतिरिक्त टुकड़ियां तैनात की गयी है। हाईवे से लेकर सरयू नदी के पुल और शहर के आंतरिक मार्गों से लेकर रामकोट तक चप्पे चप्पे पर पुलिसकर्मियों को तैनात कर सुरक्षा घेरा सख्त कर दिया गया है। पुलिस प्रशासन ने नब्बे के दशक में चरम पर रहे मंदिर आंदोलन के दौरान कारसेवकों के जुलूस को रोकने लिये बनाये गयी सभी सुरक्षा चौकियों को पुर्नजीवित कर दिया है।

श्रीरामजन्मभूमि के अधिग्रहीत परिसर की सुरक्षा व्यवस्था को अलग-अलग जोन/कार्डन में विभक्त कर फुल प्रूफ सुरक्षा पहले से की गयी थी। मेकशिफ्ट स्ट्रक्चर में विराजमान रामलला आइसोलेशन जोन में आता है जिसकी सुरक्षा में केन्द्रीय सुरक्षा बल तैनात हैं। इसके अलावा 70 एकड़ के अधिग्रहीत परिसर को रेड जोन माना गया है। यहां भी त्रिस्तरीय बैरीकेडिंग के साथ पर्याप्त सुरक्षा है।

केन्द्रीय सुरक्षा बल के अलावा सिविल पुलिस एवं पीएसी संयुक्त रूप से तैनात है। अधिग्रहीत परिसर के बाहर सम्पूर्ण पंचकोसी परिक्रमा मार्ग को यलोजोन घोषित किया गया है। इस क्षेत्र में सिविल पुलिस तैनात है। यहां पर मण्डल भर के थाना एवं चौकियों के जवानों की ड्यूटियां एक माह के लिये क्रमश: लगायी जाती है।

सूत्रों ने बताया कि दीपोत्सव पर्व पर तो सुरक्षा व्यवस्था के कड़े प्रबंध किये ही गये हैं लेकिन इसके अतिरिक्त अयोध्या मामले की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई फैसले के बाद सुरक्षा व्यवस्था के लिये शासन से अतिरिक्त फोर्स मांगी गयी है जिसमें दस एएसपी, 25 डिप्टी एसपी, 25 निरीक्षक, 125 उपनिरीक्षक, 700 आरक्षी, 45 महिला उपनिरीक्षक, 100 महिला आरक्षी, 14 उपनिरीक्षक यातायात, 13 मुख्य आरक्षी यातायात, 85 आरक्षी यातायात के अलावा छह कम्पनी पीएसी, दो कम्पनी आरएएफ, एक कम्पनी बाढ़ राहत पीएसी सहित भारी भरकम पुलिस भी शामिल हैं।

सं प्रदीप

वार्ता

image