Wednesday, Jan 23 2019 | Time 19:35 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अगलगी में 25 लाख से अधिक की संपत्ति नष्ट
  • भाजपा गुमराह करने वाली पार्टी, सवर्ण आरक्षण चुनावी स्टंट : कांग्रेस
  • मुख्यमंत्री ने गुरूग्राम में किया विकास कार्यों का औचक्क निरीक्षण
  • प्रवासियों के विचारों का लाभ उत्तर प्रदेश को मिलेगा -योगी
  • मोबाइल ट्रैकिंग में मुख्य अभियंता समेत नौ अनुपस्थित मिले
  • जिलाधिकारी ने नमामि गंगे के कार्यों की समीक्षा की
  • मुम्बई-हरियाणा मुक़ाबले से शुरू होगा ग्रेटर नोयडा चरण
  • राष्ट्र ने नेताजी के योगदान को याद किया
  • दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी पर नस्लीय टिप्पणी कर फंसे सरफराज
  • समुदाय के रूप में संगठित हों प्रवासी भारतीय, भारत की प्रगति में योगदान दें :कोविंद
  • दिल्ली हाई कोर्ट में वीरभद्र सिंह ने दाखिल की याचिका
  • ट्रक से 22 लाख से अधिक की अवैध शराब बरामद
  • संयुक्त राष्ट्र ने भी बढाया भारत का विकास अनुमान
  • बिहार में अगले पंचायत चुनाव तक 13 प्रतिशत और आरक्षण : सुशील
  • बागेश्वर में वज्रपात से 12 बच्चे एवं तीन अध्यापक झुलसे
राज्य Share

विद्यार्थियों के हितों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए : लालजी

विद्यार्थियों के हितों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए : लालजी

पटना 11 सितंबर (वार्ता) बिहार के राज्यपाल एवं कुलाधिपति लालजी टंडन ने विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों को कड़ी हिदायत देते हुये आज कहा कि विद्यार्थियों के हितों को कतई नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।

श्री टंडन ने यहां राजभवन आये कई छात्र-संघों के नेताओं और प्रतिनिधियों से मुलाकात के बाद विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों को कड़ी हिदायत देते हुये कहा कि विद्यार्थियों के हितों को कतई नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन ही मूलतः छात्रों के लिए नियमित अध्ययन की सुविधाओं के विकास तथा उनकी समस्याआें के निराकरण के लिए जिम्मेवार है। छात्र-संघों और छात्र-संगठनों की मांगों और अनुरोधों पर विश्वविद्यालय प्रशासन को गंभीर होना पड़ेगा तथा विश्वद्यिालय और महाविद्यालय के विकास में विद्यार्थियों की पूरी सहभागिता सुनिश्चित करनी होगी।

राज्यपाल ने छात्र नेताओं से कहा, “आप अपने सुझाव या मांगों को तर्कपूर्ण एवं तथ्यात्मक रूप से विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों के समक्ष भी रखें। बिहार में छात्र-संघों के निर्वाचित पदाधिकारियों एवं अन्य सभी छात्र-संगठनों के पदाधिकारियों एवं प्रतिनिधियों से विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों को समय निर्धारित कर निश्चित रूप से मिलना चाहिए। छात्र-संघों के पदाधिकारी, विश्वविद्यालय की कुछ समस्याओं का अत्यन्त व्यावहारिक समाधान सुझाते हैं।”

सूरज रमेश

जारी (वार्ता)

image