Wednesday, Apr 24 2019 | Time 10:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन में रसायन संयंत्र में विस्फोट, तीन लोगों की मौत
  • ‘आतंकवाद के खिलाफ न्यूजीलैंड-फ्रांस मिलकर करेंगे काम’
  • कश्मीर में एक दिन स्थगित रहने के बाद ट्रेन सेवा शुरू
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 25 अप्रैल)
  • ट्रंप ने ट्वीटर के सीईओ से मुलाकात की
  • रुस के खसान शहर में किम के आगमन पर सुरक्षा व्यवस्ता दुरुस्त
  • उत्तर कोरिया के नेता किम पुतिन से बातचीत करने निजी ट्रेन से रवाना हुए
  • श्रीलंका हमले में 45 बच्चों की जान गई :यूनीसेफ
  • सउदी ने आतंकवाद फैलाने के आरोप में 37 नागरिकों को दी फांसी
  • अबू धाबी के क्राउन प्रिंस ने दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति से की मुलाकात
  • रक्षा बलों के प्रमुखों को बदल सकते हैं श्रीलंका के राष्ट्रपति
  • मोरक्को पुलिस ने आईएस से जुड़े संदिग्ध को हिरासत में लिया
राज्य


विद्यार्थियों के हितों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए : लालजी

विद्यार्थियों के हितों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए : लालजी

पटना 11 सितंबर (वार्ता) बिहार के राज्यपाल एवं कुलाधिपति लालजी टंडन ने विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों को कड़ी हिदायत देते हुये आज कहा कि विद्यार्थियों के हितों को कतई नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।

श्री टंडन ने यहां राजभवन आये कई छात्र-संघों के नेताओं और प्रतिनिधियों से मुलाकात के बाद विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों को कड़ी हिदायत देते हुये कहा कि विद्यार्थियों के हितों को कतई नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन ही मूलतः छात्रों के लिए नियमित अध्ययन की सुविधाओं के विकास तथा उनकी समस्याआें के निराकरण के लिए जिम्मेवार है। छात्र-संघों और छात्र-संगठनों की मांगों और अनुरोधों पर विश्वविद्यालय प्रशासन को गंभीर होना पड़ेगा तथा विश्वद्यिालय और महाविद्यालय के विकास में विद्यार्थियों की पूरी सहभागिता सुनिश्चित करनी होगी।

राज्यपाल ने छात्र नेताओं से कहा, “आप अपने सुझाव या मांगों को तर्कपूर्ण एवं तथ्यात्मक रूप से विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों के समक्ष भी रखें। बिहार में छात्र-संघों के निर्वाचित पदाधिकारियों एवं अन्य सभी छात्र-संगठनों के पदाधिकारियों एवं प्रतिनिधियों से विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों को समय निर्धारित कर निश्चित रूप से मिलना चाहिए। छात्र-संघों के पदाधिकारी, विश्वविद्यालय की कुछ समस्याओं का अत्यन्त व्यावहारिक समाधान सुझाते हैं।”

सूरज रमेश

जारी (वार्ता)

image