Thursday, Jul 18 2019 | Time 03:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बंदूकधारी ने की संरा शांतिसैनिक सहित सात लोगों की हत्या
  • आईसीजे का फैसला जाधव के परिवार के लिए उम्मीदों भरा है :राहुल
  • हाफिज सईद की गिरफ्तारी पर ट्रंप ने दी प्रतिक्रिया
राज्य


स्वराज इंडिया ने भी किया किसानों से ब्याज वसूली का विरोध

स्वराज इंडिया ने भी किया किसानों से ब्याज वसूली का विरोध

चंडीगढ़, 06 सितंबर (वार्ता) दादूपुर नलवी नहर परियोजना रद्द करने के बाद किसानों को अधिग्रहित की गई जमीन लौटाने के लिए मुआवजे की रकम ब्याज के साथ वापस लेने के हरियाणा सरकार के फैसले का स्वराज इंडिया ने आज विरोध किया।

स्वराज इंडिया के आज यहां जारी बयान के अनुसार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा कि हरियाणा में भूमि अधिग्रहण के नाम पर किसानों की लूट का सिलसिला 2004 से ठीक पहले शुरू हुआ जो मनोहर लाल खट्टर सरकार द्वारा दादुपुर नलवी केस में जमीन को सालों बाद अधिग्रहण से मुक्त करने से नए अवतार में सामने आया है।

पार्टी के उपाध्यक्ष राजीव गोदारा ने कहा कि कानूनन जब कोई जनहित, जिसके लिए, जमीन अधिगृहित की गई थी, वह अलाभकारी व गैर आवश्यक हो तो राज्य सरकार जमीन को डी नोटिफाई करसकती है मगर हरियाणा मंत्रिमंडल केकल के फैसले से साफ है कि प्रस्तावित नीति कानून के दायरों के बाहर किसान को उजाड़ने का माध्यम ही बनेगी| उन्होंने कहा कि कल किए फैसले में कहा गया है कि जमीन मालिक को मुआवजे की राशिसाधारण ब्याज के साथ लौटानी होगी|

श्री गोदारा ने कहा कि जब बाजार में जमीनों के भाव आसमान छू रहे थे तब पूंजीपतियों व भूपतियों के हितों की रक्षा करने वाली सरकार धड़ाधड़ जमीन का अधिग्रहण कर रही थी और रिहायशी प्लाट में बदलकर महंगे दामों पर बेच कर मुनाफा भी कमा रही थी। उस दौर में किसान को उजाड़ दिया गया और आज वर्तमान सरकार की आर्थिक नीतियों के चलते बाजार में भयानक मंदी है और इस मंदी के दौर में जमीन के भाव भी रसातल में है तथ्सस हुडा (हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण) द्वारा किसानों से छीनी गई जमीन पर काटे गए प्लॉट्स को महंगे भाव पर खरीदने वाला खरीदार बाजार में नहीं है तो आज आप किसान को वह जमीन लौटा देना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि यह सरकार की संवेदनहीनता है।

श्री यादव ने कहा कि इस पूरी प्रक्रिया को अपनाने के बाद भी किसान की आवाज या पक्ष सुने जाने का कोई प्रावधान दिखाई नहीं पड़ता तथा पूरी योजना जमीन अधिग्रहण करने वाले विभाग की समझ याआंकलन पर निर्धारित है । उन्होंने कहा कि सरकार की यह नीति हरियाणा के पूरे आर्थिक व सामाजिक ढांचे को प्रभावित करेगी। उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल का यह फैसला संकेत हैं कि सरकार अब अधिग्रहित जमीन का मुआवजा देने की बजाय जमीन को अधिग्रहण से मुक्त करने के फैसले बड़े स्तर पर करने वाली है।

महेश विक्रम

वार्ता

More News
बेरोजगार आशार्थियों को 122.43 करोड़ रुपए वितरित-चांदना

बेरोजगार आशार्थियों को 122.43 करोड़ रुपए वितरित-चांदना

17 Jul 2019 | 11:35 PM

जयपुर, 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान में अक्षत योजना के तहत राज्य में पात्र स्नातक बेरोजगारों में गत दिसम्बर तक एक लाख 53 हजार 657 आशार्थियों को 122.

see more..
देश की तरक्की के लिए गांवों का स्मार्ट होना जरूरी-सिंह

देश की तरक्की के लिए गांवों का स्मार्ट होना जरूरी-सिंह

17 Jul 2019 | 11:29 PM

जोधपुर 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान के राज्यपाल कल्याणसिंह ने कहा है कि देश की तरक्की के लिए गांव का स्मार्ट होना जरूरी है। इसके लिए ध्येय और जज्बा जरूरी है।

see more..
विधायक एक वर्ष में एक हजार पेड़ लगाने का ले संकल्प-पारीक

विधायक एक वर्ष में एक हजार पेड़ लगाने का ले संकल्प-पारीक

17 Jul 2019 | 11:25 PM

जयपुर 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान विधानसभा के सभापति राजेन्द्र पारीक ने आज विधानसभा में कहा कि पर्यावरण को बचाने के उद्देश्य से हर विधायक को एक वर्ष में अपने विधानसभा क्षेत्र में एक हजार पेड़ लगाने का संकल्प लेना चाहिए।

see more..
चिकित्सकों के 737 पदों पर भर्ती के लिए मिली वित्तीय स्वीकृति-शर्मा

चिकित्सकों के 737 पदों पर भर्ती के लिए मिली वित्तीय स्वीकृति-शर्मा

17 Jul 2019 | 11:14 PM

जयपुर 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि 737 चिकित्सकों की नई भर्ती के लिए वित्तीय स्वीकृति मिली है तथा इन पदों पर भर्ती के लिए राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय को पत्र लिख दिया गया है।

see more..
image